समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड देश पूर्वी सिंहभूम फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

jamshedpur: उल्टी दिशा में दौड़ी Sampark Kranti Express , वजह सामने आई तो लोगों की मिली खूब वाहवाही

jamshedpur: उल्टी दिशा में दौड़ी Sampark Kranti Express

न्यूज़ डेस्क/ समाचार प्लस झारखंड- बिहार

jamshedpur: मानवता से बड़ा कोई धर्म नहीं होता है और भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने मानवता की मिसाल पेश करते हुए प्रसव पीड़ा से जूझ रही महिला और बच्चे की जान बचाने के लिए तीन किलोमीटर तक उल्टी दिशा में ट्रेन दौड़ा दी. आनंद विहार-भुवनेश्वर संपर्क क्रांति (Sampark Kranti) में बुधवार की सुबह उस समय हलचल मच गयी जब एक गर्भवती महिला यात्री रानू दास (27 वर्ष) के पेट में अचानक दर्द शुरू हो गया. ऐसे में ट्रेन स्कॉर्ट ड्यूटी में तैनात आरपीएफ के जवानों ने रेलवे कंट्रोल रूम को तत्काल सूचना दी. जिसके बाद रेलवे के अधिकरियों तक इसकी खबर दी गयी. जब तक सूचना का आदान-प्रदान होता तब तक ट्रेन खड़गपुर छोर की ओर टाटानगर रेलवे स्टेशन के आउटर तक पहुंच गई थी. इसके बावजूद रेलवे के वरीय अधिकारियों ने ट्रेन को वापस स्टेशन पर लाने का निर्देश दिया. आदेश मिलते ही ट्रेन को बैक किया गया. साथ ही इसकी सूचना आरआरआई के स्टेशन मास्टर को दी गई.

ट्रेन से उतारकर सदर अस्पताल पहुंचाया

खबर मिलते ही एंबुलेंस के साथ डाक्टर भी अपनी टीम के साथ स्टेशन पहुंच गए और गर्भवती महिला की जांच की. इसके बाद डाक्टर ने गर्भवती महिला और उसके परिजन को ट्रेन से उतारकर सदर अस्पताल पहुंचाया. जहां गर्भवती महिला ने एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया. इस पूरे मामले में ट्रेन एक घंटे लेट हो गई.

अनोखी मिसाल पेश की

सुबह तीन बजकर 55 मिनट पर पहुंची ट्रेन पांच बजकर 10 मिनट पर टाटानगर रेलवे स्टेशन से भुवनेश्वर के लिए रवाना हुई. ऐसे में जिस जिस को ट्रेन लेट होने की वजह पता चली, उसका ना सिर्फ गुस्सा शांत हुआ बल्कि रेलवे की जमकर तारीफ भी की. गर्भवती महिला और उसके नवजात बच्चे को बचाने के लिए रेलवे ने बुधवार को अनोखी मिसाल पेश की.
ये भी पढ़ें : Indian Navy Recruitment 2021: भारतीय नौसेना में निकली 300 रिक्त पदों पर भर्ती, मैट्रिक पास जल्दी करें अप्लाई

Related posts

शाहरूख खान का बेटा तो ‘बड़ा खिलाड़ी’ है! डार्कनेट के जरिये काले कारोबारियों से नाता! शाह-गौरी सब जानते हैं!

Pramod Kumar

तेनुघाट कोर्ट के आदेश को हाईकोर्ट ने किया खारिज, कहा- न्यायसंगत नहीं है डिस्चार्ज पिटीशन खारिज करना

Manoj Singh

Delhi High Court: देश के पहले समलैंगिक जज होंगे सौरभ कृपाल, SC कॉलेजियम ने दी मंजूरी

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.