समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Vice President Election 2022: जगदीप धनखड़ की धाकड़ जीत, देश के नये उप राष्ट्रपति बने, गैर एनडीए दलों ने भी किया समर्थन

Vice President Election 2022

Vice President Election 2022: राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के घोषित उम्मीदवार जगदीप धनखड़ देश के अगले उपराष्ट्रपति बन गये हैं। जगदीप धनखड़ विपक्षी उम्मीदवार मारग्रेट अल्वा को पराजित कर उप राष्ट्रपति बने हैं।

उपराष्ट्रपति चुनाव में NDA के उम्मीदवार जगदीप धनखड़ ने 528 वोटों के साथ बाजी मार ली है. चुनाव परिणाम घोषित कर दिए गए हैं.  वह देश के अगले उपराष्ट्रपति होंगे. उनकी जीत के बाद राजस्थान से लेकर दिल्ली तक जश्न मनाया जा रहा है.

उपराष्ट्रपति चुनाव में NDA के उम्मीदवार जगदीप धनखड़ ने बाजी मार ली है. धनखड़ को 528 वोट मिले हैं जबकि उनकी विरोधी मार्गरेट अल्वा को 182 वोट मिले हैं. 15 सांसदों के वोट खारिज कर दिए गए हैं. धनखड़ अब 11 अगस्त को पद की शपथ लेंगे. मालूम हो कि वर्तमान उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू का कार्यकाल 10 अगस्त को समाप्त हो रहा है.

उपराष्ट्रपति चुनाव में शत-प्रतिशत वोट नहीं पड़े। लोकसभा और राज्यसभा के सभी सांसदों की कुल संख्या 788 है, लेकिन सिर्फ 725 सांसदों ने ही मतदान किया। वोट नहीं करने वालों में भाजपा के भी दो सांसद सन्नी देओल और संजय धोतरे भी हैं, लेकिन दोनों ने स्वास्थ्य कारणों से मतदान नहीं किया। इसकी सूचना दोनों ने शीर्ष नेतृत्व को दे दी थी। बता दें, विपक्षी पार्टियों में तृणमूल कांग्रेस ने मतदान से दूरी बनायी। उसके दोनों सदनों को मिलाकर कुल 39 सांसद हैं। इसके बावजूद उसके दो सांसदों ने मतदान किया है।

जगदीप धनखड़ को भाजपा, जदयू, बीजेडी, वाईएमआरपी, बीएसपी, टीडीपी, अकाली दल, शिवसेना (शिंदे गुट) का समर्थन मिला। जबकि मारग्रेट अल्वा के पक्ष में कांग्रेस, डीएमके, राजद, एनसीपी, समाजवादी पार्टी, झामुमो, टीआरएस, आप ने वोट किया।

भारत के अगला उपराष्ट्रपति चुनने के लिए शनिवार को हुए मतदान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, कई केंद्रीय मंत्रियों और विभिन्न दलों के सांसदों ने मतदान किया।

संसद के दोनों सदनों को मिलाकर कुल सदस्यों की संख्या 788 होती है, जिनमें से उच्च सदन की आठ सीट फिलहाल रिक्त हैं. ऐसे में उपराष्ट्रपति चुनाव में 780 सांसद वोट डालने के लिए पात्र थे। इनमें लोकसभा को 543 सांसद और राज्यसभा के 237 सांसद शामिल है।  मतदान पूर्वाह्न 10 बजे शुरू हुआ था, लेकिन पांच बजे से काफी पहले ही यह समाप्त हो गया।

जगदीप धनखड़ के बारे में

राजनीति से आने से पहले जगदीप धनखड़ एक विख्यात वकील थे। 1989 में पहली बार जनता दल के टिकट पर अपने जिले झुंझुनू से सांसद बने। 1993 में राजस्थान के किशनगढ़ से विधानसभा अध्यक्ष के रूप में चुने गए। जब चंद्रशेखर की सरकार चल रही थी तब राजस्थान में संसदीय कार्य मंत्री के रूप में इन्होंने कार्य किया। इसके अलावा उन्होंने राजस्थान में कई दिनों तक विधायक के पद पर कार्य किया।

जगदीप धनखड़ को अधिक प्रसिद्धि राजस्थान के जाट समुदाय को आरक्षण दिलवाने के लिए हासिल है। इसके बाद 20 जुलाई 2019 को पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी की तरफ से पश्चिम बंगाल के राज्यपाल के तौर पर नियुक्त हुए। इनका राजनीतिक कैरियर कुल 30 वर्ष का है जो इन्हें एक वरिष्ठ और प्रचलित राजनेता बनाता है।

यह भी पढ़ें: India Ki Udaan: गूगल पर दिखेगा देश की आजादी की 75 साल का सफर

Vice President Election 2022

Related posts

केंद्रीय ग्रामीण विकास सचिव ने इंटीग्रेटेड फार्मिंग क्लस्टर ‘पहल’ का किया राष्ट्रीय शुभारंभ

Pramod Kumar

NVS Recruitment 2021: Navodaya विद्यालय में इन पदों पर निकली भर्ती, 7th CPC के तहत दिए जाएंगे वेतन

Manoj Singh

CCS Meeting: अफगानिस्तान से भारतीयों को सुरक्षित लाना प्राथमिकता – पीएम मोदी

Pramod Kumar