समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

IT Raid on Piyush Jain: घर में तहखाना, 300 चाबियां और 257 करोड़ के खजाने का कुछ यूं खुला राज

IT Raid on Piyush Jain

न्यूज़ डेस्क/ समाचारप्लस झारखंड- बिहार
IT Raid on Piyush Jain: यूपी में कन्नौज के इत्र कारोबारी पीयूष जैन को टैक्स चोरी के आरोप में कानपुर से गिरफ्तार कर लिया गया है. जीएसटी इंटेलिजेंस ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया है. आरोपी को आगे की कार्रवाई के लिए कानपुर से अहमदाबाद ले जाने की संभावना है. अब तक की छापेमारी के दौरान उनके पास से 257 करोड़ कैश और जूलरी बरामद की गई है. वहीं छापेमारी से जुड़ी नई-नई चौंकाने वाली बातें लगातार सामने आ रही हैं. करीब 150 घंटे चली छानबीन और करीब 50 घंटे चली पूछताछ के बाद आखिरकार पीयूष जैन को रविवार को गिरफ्तार किया गया था. जिस छापेमारी की तस्वीरों को देखकर हर कोई हैरान था, उससे जुड़े कुछ और तथ्य अब सामने आए हैं.

चर्चा का विषय बनी छापेमारी

यूपी चुनाव से पहले ये छापेमारी यूपी में चर्चा का बड़ा विषय बना हुआ है. इस घर से कितनी दौलत और निकलेगी ये जानने की दिलचस्पी यूपी के आम जन से लेकर नेताओं तक में है. लिहाजा इस घर के बाहर एबीपी न्यूज की टीम भी लगातार तैनात है. कल शाम भी घर के भीतर से तोड़फोड़ की आवाजें सुनाई दे रही थीं. जानकारी के मुताबिक जहां-जहां नोट छिपाए गए हैं उन जगहों को तोड़ा जा रहा है. इन्कम टैक्स विभाग के अधिकारियों ने पीयूष जैन के दोनों बेटे प्रत्यूष जैन और मोलू जैन को भी घर के अंदर लेकर आई और उनसे पूछताछ हो रही है.

घर के अंदर मिला तहखाना

जानकारी के मुताबिक, कानपुर में मौजूद पीयूष जैन की कोठी में अंदर तहखाना मिला है. वहीं उसके एक फ्लैट में 500 चाभियां मिली हैं. जानकारी मिली है कि पीयूष जैन अपनी कोठी की रखवाली में पुराने चौकीदार नहीं रखता था. वह चौकीदार को 1 या दो साल से पहले बदल देता था. 7-8 हजार रुपये महीने पर रखे गए इन चौकीदारों को घर के अंदर जाने की मनाही थी.

नजरों से बचने के लिए खटारा कारें करता था इस्तेमाल

कारोबारी पीयूष जैन के पास इतना पैसा था, लेकिन वह किसी की नजरों में नहीं आना चाहता था. इसलिए हमेशा सालों पुरानी खटारा कारों से ही चलता था.

ऐसे पहुंची एजेंसियां

दरअसल, अहमदाबाद की डीजीजीआई टीम ने एक ट्रक को पकड़ा था. इस ट्रक में जा रहे सामानों का बिल फर्जी कंपनियों के नाम पर बनाया गया था. सभी बिल 50 हजार रुपये से कम थे, ताकि Eway Bill न बनाना पड़े. इसके बाद डीजीजीआई ने कानपुर में ट्रांसपोर्टर के यहां छापेमारी की. यहां पर डीजीजीआई को करीब 200 फर्जी बिल मिले. यहीं से डीजीजीआई को पीयूष जैन और फर्जी बिलों का कुछ कनेक्शन पता लगा. इसके बाद डीजीजीआई ने कारोबारी पीयूष जैन के घर पर छापेमारी की. जैन के घर जैसे ही अफसर पहुंचे और अलमारियों में नोटों के बंडल पड़े थे. इसके बाद आयकर विभाग को सूचना दी गई. तभी से इन एजेंसियों की इत्र कारोबारी पर कार्रवाई जारी है.

ये भी पढ़ें :  The man alive just before the funeral! होने वाला था अंतिम संस्कार, तभी चलने लगी सांसें! चौंकाने वाली घटना से हर कोई रह गया दंग

 

Related posts

Google Doodle: आज Google मना रहा है Pizza Day, यहां देखें 11 लोकप्रिय पिज्जा मेन्यू

Manoj Singh

Game Point: Leander Paes TMC के लिए करेंगे ‘सर्विस’, ममता बनर्जी ने दिलाई पार्टी की सदस्यता

Pramod Kumar

Press Conference: एक बार फिर 1975 के आन्दोलन की जरूरत – दीपांकर भट्टाचार्य

Pramod Kumar