समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

झारखंड में क्या वाकई है सुखाड़, अब तक 75 प्रतिशत हो चुकी है मॉनसून की बारिश!

Is it really dry in Jharkhand, till now 75 percent of the monsoon rains have happened!

झारखंड में अभी 8 सितम्बर तक बरसेंगे मेघ

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

झारखंड की हेमंत सोरेन सरकार इधर हाई लेवल बैठक कर झारखंड में सुखाड़ की स्थिति की समीक्षा कर रही है। दूसरी ओर मेघ झारखंड को लगातार भिगोने पर तुले हुए हैं। शुरुआत की सुखाड़ की स्थिति को छोड़ दिया जाये तो उसके बाद झारखंड में भी बारिश अपना रंग दिखा रही है। डेढ़ महीना पहले जहां झारखंड में बारिश 50 प्रतिशत से भी कम हुई है, वहीं मौसम विभाग के आंकड़ों में यह घट कर 26 प्रतिशत हो गयी है। मॉनसून के दिनों में अब तक 815 मिमी बारिश हो जानी चाहिए थी, वह 603 मिमी तक आ गयी है। यानी बाद के करीब डेढ़ महीने में बारिश ने यह कमी काफी दूर हुई है। इसका असर खेती पर अवश्य पड़ा है, इससे इनकार नहीं किया जा सकता। लेकिन झारखंड में बारिश खेती के साथ भूगर्भ जल स्तर के लिए भी जरूरी है। उसकी यह कमी यह बारिश अवश्य पूरी कर रही है।

दक्षिण और दक्षिण-पश्चिम हवाओं के कारण बंगाल की खाड़ी से आ रही नम हवाओं के कारण झारखंड में बारिश हो रही है। झारखंड में दिन में अच्‍छी धूप हो रही है। फिर शाम तक मेघ बरस जा रहे हैं। झारखंड में गर्जन और वज्रपात की भी खूब घटनाएं हो रही हैं। जिसके चपेट में लोगों के साथ मवेशी भी आ रहे हैं।

इस बीच, मौसम विभाग ने झारखंड में 3 सितंबर को भी भारी बारिश की संभावना जतायी है। इसका असर राज्‍य के उत्तर-पूर्वी और मध्‍य भागों में देखने को मिलेगा। मौसम विभाग ने यह भी बताया कि बंगाल की खाड़ी में 6-7 सितंबर से साइक्‍लोनिक सर्कुलेशन भी बनेगा। इसके जोर पकड़ने और झारखंड की तरफ आने से फिर से अच्‍छी बारिश होगी। अभी 3 से 6 सितंबर तक राज्‍य में कई स्‍थानों पर हल्‍की से मध्‍यम दर्जे की बारिश होने की संभावना है। 7 और 8 सितंबर को राज्‍य में लगभग सभी स्‍थानों पर हल्‍की से मध्‍यम दर्जे की बारिश होने की प्रबल संभावना है।

इन जिलों पर बारिश विशेष मेहरबान

देवघर, धनबाद, दुमका, गिरिडीह, गोड्डा, जामताड़ा, पाकुड़, साहिबगंज, रांची, गुमला, हजारीबाग, बोकारो, खूंटी, रामगढ़ जिले में कहीं-कहीं भारी बारिश होने की संभावना है। कुछ स्‍थानों में गर्जन के साथ वज्रपात हो सकता है।

यह भी पढ़ें: Jharkhand: सूखे के आकलन के लिए मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने की उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक

Related posts

कंडोम में नशा ही नशा है! नये जमाने का नया नशा बना कंडोम, भाप लेने से छाता है नशा, क्या कहता है विज्ञान?

Pramod Kumar

Waseem Rizvi conversion: वसीम रिजवी बने जीतेंद्र नारायण सिंह त्यागी, कहा -सिर्फ हिंदुत्व के लिए काम करुंगा

Manoj Singh

शिवरात्रि को लेकर दुमका में किये गए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम, चप्पे-चप्पे पर है पुलिस बल की तैनाती

Sumeet Roy