समाचार प्लस
Breaking खेल देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

IPL 2022: एमएस धोनी, रोहित शर्मा और विराट कोहली के ऊपर फ्रेंचाइजियों की बरसी कृपा कितनी जायज

IPL 2022

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

आईपीएल फ्रेंचाइजियों ने आईपीएल 2022 के लिए महेंद्र सिंह धोनी, विराट कोहली, रोहित शर्मा, जसप्रीत बुमराह, कीरोन पोलार्ड, केन विलियमसन और ग्लेन मैक्सवेल को रिटेन किया है। यानी ये खिलाड़ी आईपीएल 2021 में जिन टीमों के साथ थे, उन्हीं टीमों के साथ अगले सीजन में भी खेलते नजर आयेंगे। बाकी खिलाड़ियों का रिटेन किया जाना उतना महत्वपूर्ण नहीं है जितना तीन खिलाड़ियों का है। ये खिलाड़ी हैं- चेन्नई सुपर किंग्स के महेन्द्र सिंह धोनी, मुम्बई इंडियन्स के रोहित शर्मा और रायल चैलेंजर्स बेंगलुरू के विराट कोहली। ये तीनों खिलाड़ी अपनी-अपनी टीमों में सबसे ज्यादा सैलरी पाने वाले खिलाड़ी हैं। लेकिन इनके पिछले प्रदर्शनों को देखा जाये तो ये कतई इस कीमत के हकदार नजर आयेंगे।

महेन्द्र सिंह धोनी

महेन्द्र सिंह धोनी भारतीय टीम के सफल कप्तानों में हैं। आईपीएल में भी उनकी तूती बोलती है। उन्होंने चार बार चेन्नई सुपर किंग्स को विजेता बनाया है। टीम को विजेता बनाने के लिए उनकी सराहना होनी चाहिए। लेकिन एक बल्लेबाज के रूप में उनके पिछले प्रदर्शन काफी निराशाजनक रहे हैं। 2021 में 15 मैचों में 16.28 के औसत से महज 114 रन बनाये थे। टीम को विजयी बनाने के बाद भी उनके इस प्रदर्शन की आलोचना हुई है। 2021 सीजन में उन्हें 15 करोड़ रुपये मिले थे। यानी उनका 1 रन 7.5 लाख रुपये का पड़ा था। 2020 का भी उनका प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा था। 2020 आईपीएल में उन्होंने 25 के औसत से 12 मैचों में 200 रन बनाये थे। हालांकि 2019 का सीजन शानदार रहा था। इसमें उन्होंने 14 मैचों में 83.2 के औसत से 416 रन बनाये थे। परन्तु इस बार धोनी को अपने पिछले प्रदर्शनों का खमियाजा भुगतना पड़ गया है। इस बार उनकी सैलरी घटाकर 12 करोड़ रुपये कर दी गयी है। अगर धोनी ने फिर वैसा ही प्रदर्शन 2022 आईपीएल में भी दोहराया तो यह कीमत भी उनकी टीम को भारी ही पड़ेगी।

विराट कोहली

विराट कोहली आईपीएल के सबसे अभाग्यशाली कप्तानों में से एक हैं। टीम इंडिया के कप्तान के रूप में उनके खाते में कोई ट्राफी नहीं आयी है। उसी प्रकार आईपीएल की ट्राफी उनसे दूर-दूर रही है। विराट 2016 में ट्रॉफी के सबसे नजदीक पहुंचे थे, जब उनकी टीम फाइनल में पहुंची थी। लेकिन सनराइजर्स हैदराबाद के हाथों फाइनल में उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। विराट कोहली की टीम रायल चैलेंजर्स बेंगलुरू की विडम्बना देखिये, यह टीम दो बार सबसे फिसड्डी यानी आठवें स्थान पर भी रह चुकी है। अब विराट के पिछले तीन प्रदर्शनों को देख लें। विराट के बल्ले से पिछले तीन आईपीएल में रन तो निकले हैं, लेकिन जिस कीमत पर फ्रैंचाइजी ने इन्हें खरीदा था, उसकी भरपाई में वह असफल रहे है। 2021 आईपीएल में 15 मैचों में 28.92 के औसत से 405 रन बनाये थे। 2020 आईपीएल में 15 मैचों में उनके बल्ले से 466 रन आये थे। औसत 42.36 का था। 2019 में विराट के बल्ले से 14 मैचों में 464 रन निकले। कप्तान के रूप में निरंतर असफलता ने इस बार उनका भाव गिरा दिया। है इस बार उनकी कीमत 15 करोड़ आंकी गयी है। 2021 सीजन में उन्हें 17 करोड़ मिले थे।

रोहित शर्मा

रोहित शर्मा का भाव 2022 सीजन में बढ़ा है। इस बार उन्हें 16 करोड़ रुपये मिलेंगे। पिछले सीजन में उन्हें 15 करोड़ मिले थे। रोहित शर्मा की कीमत बढ़ने की वजह शायद यह है कि वह टी-20 के साथ-साथ एकदिवसीय मैचों के स्थायी टीम इंडिया के कप्तान बनने जा रहे हैं। मगर आईपीएल में उनका पिछला प्रदर्शन भी बहुत शानदार नहीं रहा है। 2018 में 14 मैचों में 286 रन, 2019 में 15 मैचों में 405 रन, 2020 में 12 मैचों में 332 रन और 2021 में 13 मैचों में 381 रन।

कम कीमत में ज्यादा रन

ज्यादा पीछे नहीं जाया जाये। आईपीएल 2021 के बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों से ही इन तीन ‘धुरंधरों’ की तुलना कर ली जाये। इसके बाद यह बात बिलकुल समझ में नहीं आयेगी कि इन धुरंधरों पर उनके फ्रैंचाइजी पैसे क्यों लुटा रहे हैं। आईपीएल 2021 के टॉप स्कोरर पंजाब किंग्स के के.एल. राहुल थे। जिन्होंने 16 मैचों में 635 रन बनाये। केएल राहुल की कीमत लगी थी। 11 करोड़। इस हिसाब से उन्होंने अपने फ्रैंचाइजी का पैसा वसूल कर दिया। चेन्नई सुपर किंग्स के लिए 1.6 करोड़ी खिलाड़ी फाफ डु प्लेसिस 16 मैचों में 633 रन बनाकर दूसरे स्थान पर रहे। इस लिहाज से इनकी काफी कम कीमत आंकी गयी थी। मगर चेन्नई सुपर किंग्स का पैसा-पैसा तो वसूल किया ऋतुराज गायकवाड़ ने। इन्होंने 13 मैचों में 626 रन बनाये। इनकी बेस प्राइस थी 20 लाख रुपये।

अब ये खिलाड़ी खुद तय करें कि जितने पैसे देकर उनके फ्रैंचाइजी उन्हें खरीदते या रिटेन करते हैं, क्या वाकई उतने पैसे पाने के ये हकदार हैं। आखिर खिलाड़ियों को पैसे देने का आधार क्या होना चाहिए? प्रदर्शन या खिलाड़ी का कद। खिलाड़ी का कद उनके प्रदर्शनों के आधार पर ही बड़ा होता है। चूंकि यहां फ्रेंचाइजियों में इन खिलाड़ियों को खरीदने की होड़ लगी रहती है, इस नाते इनकी कीमतें बढ़ जाती हैं।  परन्तु खिलाड़ियों को पैसे देने का कोई भी एक आधार तय तो अवश्य होना चाहिए, जिससे बड़े खिलाड़ी अपने प्रदर्शन के प्रति निश्चिंत न हो सकें और कम पैसे पाने वाले अच्छे खिलाड़ियों में हीनता न आने पाये।

किस टीम ने किन-किन खिलाड़ियों को रिटेन किया
  • चेन्नई सुपर किंग्स- रवींद्र जडेजा, एमएस धोनी, रुतुराज गायकवाड़, मोइन अली।
  • कोलकाता नाइट राइडर्स- सुनील नरेन, आंद्रे रसेल, वरुण चक्रवर्ती, वेंकटेश अय्यर।
  • सनराइजर्स हैदराबाद- केन विलियमसन।
  • मुंबई इंडियंस- रोहित शर्मा, जसप्रीत बुमराह।
  • रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू- विराट कोहली, ग्लेन मैक्सवेल।
  • दिल्ली कैपिटल्स:-ऋषभ पंत, पृथ्वी शॉ, अक्षर पटेल, एनरिक नॉर्टजे।
  • राजस्थान रॉयल्स- संजू सैमसन।

यह भी पढ़ें: IPU Session: पाकिस्तान एसेंबली स्पीकर ने उठाया कश्मीर का मुद्दा तो पलामू सांसद वीडी राम ने धो दिया

Related posts

दुनिया को मिली पहली मलेरिया वैक्सीन कितनी असरदार, भारत की बायोटेक करेगी वैक्सीन निर्माण

Pramod Kumar

MS Dhoni का IPL 2022 में भी जलवा दिखना तय, अब माही को रिटेन करने की जिम्मेवारी CSK पर

Pramod Kumar

Politics of Renaming: अब विधायक बंधु तिर्की ने की रांची और हटिया स्टेशन के नाम बदलने की मांग, सुझाए ये नाम

Manoj Singh