समाचार प्लस
Breaking अंतरराष्ट्रीय देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

International Women’s Day 2022: महिला दिवस आज, जानें अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस का इतिहास और इस साल की थीम

International Women's Day 2022

International Women’s Day 2022: दुनिया भर में 8 मार्च को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस (Women’s Day 2022) मनाया जाता है. महिला दिवस (Women’s Day) के नाम से ही स्पष्ट हो जाता है कि यह दिन पूरी तरह महिलाओं को समर्पित है. लेकिन क्या आपको पता है कि इस दिन को क्यों मनाया जाता है?  इसके पीछे का इतिहास क्या है? अगर नहीं तो हम आपको इस खबर में बताएंगे कि यह दिन क्यों और कब से मनाया जाता है. इसे मनाने के पीछे क्या वजह है?

यह है साल 2022 की थीम

सबसे पहले हम आपको बताते हैं हर साल का महिला दिवस एक खास थीम पर आधारित होता है. हर साल इस फेस्टिवल को किसी न किसी नई थीम के साथ सैलिब्रेट किया जाता है. ऐसे में इस 2022 की थीम है ‘जेंडर इक्वालिटी टुडे फॉर ए सस्टेनेबल टुमारो’ यानी स्थाई कल के लिए लैंगिक समानता जरूरी है.

एक सदी पुराना है महिला दिवस का इतिहास

इंटरनेशनल महिला दिवस का दिवस एक सदी पुराना है. इस दिन को पहली बार साल 1911 में मनाया गया. अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस की जड़ें श्रमिक आंदोलन से जुड़ी हुई हैं. दुनियाभर में इस दिन को मानव अधिकार को ध्यान में रखते हुए महिलाओं के राजनीतिक एवं सामाजिक उत्थान के लिए मनाया जाता है.

यह है अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस का इतिहास

कहा जाता है कि प्रसिद्ध जर्मन एक्टिविस्ट क्लारा ज़ेटकिन के प्रयासों के चलते इंटरनेशनल सोशलिस्ट कांग्रेस मे साल 1910 में महिला दिवस के अंतरराष्ट्रीय स्‍वरूप को अधिकारिक तौर पर सहमति दी गई. इसके साथ ही पब्लिक हॉलिडे के लिए भी परमिशन दी गई. इसके बाद साल 1911 में 19 मार्च को पहली बार अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया गया. इसका आयोजन पहली बार डेनमार्क और जर्मनी में किया गया. साल 1921 में इस तारीख को बदलकर 8 मार्च कर दिया गया. तब से लेकर आज तक पूरे विश्न में 8 मार्च को ही अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है.

ये भी पढ़ें – Petrol-Diesel prices: आज रात से बढ़ सकती है पेट्रोल-डीजल की कीमतें! जानिए लेटेस्ट अपडेट

International Women’s Day 2022

Related posts

Gold-Silver Price: सोना-चांदी के भाव में आई गिरावट, यहां जानें क्या है लेटेस्ट रेट्स

Sumeet Roy

Electricity Crisis: ‘पीक आवर’ में उच्चतम स्तर पर पहुंची बिजली की मांग

Pramod Kumar

अब जेल में ही मनेगी Lalu Yadav की होली, हाईकोर्ट से नहीं मिली बेल, जानिए वजह

Sumeet Roy