समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Global Hunger Index: भारत नागरिकों को भोजन उपलब्ध कराने में पाकिस्तान, बांग्लादेश से भी पीछे

Global Hunger Index

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

भुखमरी को लेकर भारत चिंताजनक स्थिति में हैं। वैश्विक भुखमरी सूचकांक (Global Hunger Index) बताता है कि पड़ोसी देश पाकिस्तान, बांग्लादेश और नेपाल अपने नागरिकों को भोजन उपलब्ध कराने को लेकर भारत से बेहतर हैं। ऐसा भूख और कुपोषण पर नजर रखने वाली वैश्विक भुखमरी सूचकांक की वेबसाइट पर जारी रिपोर्ट के अनुसार, 116 देशों में नेपाल (76), बांग्लादेश (76), म्यांमार (71) और पाकिस्तान (92) की तुलना में भारत 101वें स्थान पर है।

सरकारी दावों में भारत अर्थव्यवस्था में नित नये आयाम गढ़ रहा है। तो क्या इन दावों पर वैश्विक भुखमरी सूचकांक (Global Hunger Index) प्रश्न चिह्न लगा रहा है। भारत 116 देशों के वैश्विक भुखमरी सूचकांक (Global Hunger Index) 2021 में फिसलकर 101वें स्थान पर आ गया है। जबकि वर्ष 2020 में भारत 94वें स्थान पर था।

चीन, ब्राजील, कुवैत सबसे बेहतर

वैश्विक भुखमरी सूचकांक की वेबसाइट पर बृहस्पतिवार को जारी रिपोर्ट में बताया गया कि चीन, ब्राजील और कुवैत सहित अठारह देशों ने पांच से कम के जीएचआई स्कोर के साथ शीर्ष स्थान साझा किया है। सहायता कार्यों से जुड़ी आयरलैंड की एजेंसी कंसर्न वर्ल्डवाइड और जर्मनी का संगठन वेल्ट हंगर हिल्फ द्वारा संयुक्त रूप से तैयार की गई रिपोर्ट में भारत में भूख के स्तर को ‘चिंताजनक’ बताया गया है। यही नहीं भारत का जीएचआई स्कोर भी गिर गया है। यह साल 2000 में 38.8 था, जो 2012 और 2021 के बीच 28.8 – 27.5 के बीच रहा। जीएचआई स्कोर की गणना चार संकेतकों- अल्पपोषण, कुपोषण, बच्चों की वृद्धि दर और बाल मृत्यु दर पर आधारित है।

यह भी पढ़ें: APJ Abdul Kalam – Birth Anniversary: ‘Welder of People’ के 11 सिद्धान्तों में नित आगे बढ़ने की प्रेरणा

Related posts

PUBG: New State भारत समेत 200 से ज्यादा देशों में लॉन्च, ये हैं खूबियां

Manoj Singh

फलों की मिठास और फूलों की सुगंध बिखेर रहे झारखंड के खेत, Horticulture को बढ़ावा दे रही हेमन्त सरकार

Manoj Singh

अंतरराष्ट्रीय बुजुर्ग दिवस: ‘जवानी जाकर नहीं आती, बुढ़ापा आकर नहीं जाता’, युवा पीढ़ी काे रहे ख्याल

Pramod Kumar

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.