समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

अफगानिस्‍तान संकट के बीच भारत सरकार की अहम पहल, Visa को लेकर लिया बड़ा निर्णय

भारत सरकार ने अफगानिस्तान में चल रहे संकट के बीच एक अहम कदम उठाया है. सरकार ने भारत में प्रवेश करने के लिए इच्‍छुक लोगों के वीजा आवेदनों को तेजी से ट्रैक करने के लिए ‘ई-आपातकालीन एक्स-मिस्‍क वीजा’ (e-Emergency X- Misc Visa) नाम से इलेक्ट्रॉनिक वीजा की एक नई कैटेगरी शुरू की है .

गौरतलब है कि सोमवार को  अपने घर या फिर सुरक्षित स्थान पर पहुंचने को लेकर जो अफरा तफरी मची थी उसका  ये आलम हुआ था कि हवाई जहाज में जगह न मिलने पर कुछ लोग जहाज के पहिए से लटक गए थे और उनकी दर्दनाक मौत हो गई थी.

अफगानिस्‍तान से अमेरिकी सेना की रवानगी ने कट्टरवादी इस्‍लामी समूह तालिबान को इतना ताकतवर बना दिया कि कुछ ही समय में उन्‍होंने देश की सत्ता हथिया ली. इसके बाद बदहवास हुए नागरिक अपना देश छोड़ने के लिए ऐसे बेताव हुए कि काबुल एयरपोर्ट पर पैर रखने की जमीन नहीं बची.

गृह मंत्रालय के प्रवक्‍ता ने  मंगलवार को कहा कि सरकार ने अफगानिस्‍तान के इन हालातों को देखते हुए वीजा प्रावधानों की समीक्षा की . साथ ही e-Emergency X-Misc Visa नाम से इलेक्ट्रॉनिक वीजा पाने की एक नई कैटेगरी शुरू की. ताकि देश में प्रवेश करने के इच्‍छुक लोगों के वीजा आवेदनों पर जल्‍दी काम किया जा सके.

अमेरिकी सैनिकों को नुकसान पहुंचा तो तालिबान को भारी कीमत चुकानी पड़ेगी- यूएस

वहीं राष्ट्रपति बाइडेन ने अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों को वापस लाए जाने को लेकर चलाए जा रहे ऑपरेशन के बीच तालिबान को चेताया है. उन्होंने कहा कि अगर अमेरिकी सैनिकों को नुकसान पहुंचा तो तालिबान को इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ेगी. उन्होंने कहा कि हम अमेरिकी सैनिकों को अफगानिस्तान से निकालने को लेकर ऑपेरशन चला रहे हैं. हमने तालिबान को स्पष्ट कर दिया है, अगर वे हमारे कर्मियों पर हमला करते हैं या हमारे ऑपरेशन को बाधित करते हैं, तो अमेरिका की उपस्थिति तेज होगी और तालिबान को भारी कीमत चुकानी पड़ेगी.

150 भारतीयों को ले काबुल से जामनगर पहुंचा विमान

अफगानिस्तान में फंसे करीब डेढ़ सौ भारतीयों को एयरलिफ्ट कर विमान काबुल से जामनगर पहुंचा है। यहां वायु सेना के बेस से ईंधन बनाने के बाद विमान दिल्ली के लिए रवाना होगा।
अफगानिस्तान में सत्ता पर तालिबान के कब्जे के बाद भारतीय दूतावास तथा अन्य कई प्रोजेक्ट पर काम कर रहे इंजीनियर व कर्मचारियों को लेकर भारतीय विमान काबुल से रवाना होकर मंगलवार सुबह करीब 11:15 बजे जामनगर एयरबेस पर पहुंचा। ‌काबुल से आए इस विमान को ईंधन के लिए यहां उतारा गया। यहां पर विमान में ईंधन भरा जाएगा इसके बाद विमान जामनगर से दिल्ली के लिए रवाना होगा। वायुसेना का सी-17 ग्लोबमास्टर विमान करीब भारतीय राजदूत समेत 120 से अधिक अधिकारियों को लेकर काबुल से गुजरात के जामनगर पहुंच गया है। कर्मचारियों को कल देर शाम हवाई अड्डे के सुरक्षित इलाकों में सुरक्षित पहुंचा दिया गया था। बता दें कि इससे पहले सोमवार को सी-17 ग्लोबमास्टर विमान करीब 150 लोगों को लेकर भारत पहुंच गया था।

काबुल में अभी भी कई भारतीय फंसे हैं

कई देशों के लोग काबुल में अभी भी फंसे हुए हैं। वे वहां से निकलने के लिए बेताब है। इनमे कुछ भारतीय भी शामिल है। अभी सभी तरह की कमर्शियल फ्लाइट्स बंद है और लोग ऐसे में छिप छिप कर अपनी जान बचा रहे हैं। काबुल में फंसे भारतीयों ने भी अब अपना दर्द बयां किया है। उसने सरकार से जल्द से जल्द मदद मुहैया कराने की गुहार लगाई है।

ये भी पढ़ें : Bihar Teachers: सरकारी स्कूलों में शिक्षकों के 32,714 पद रिक्त, कल से आवेदन शुरू 

 

 

Related posts

जनमुद्दों पर आंदोलन तेज करने के आह्वान के साथ माकपा का राज्य सम्मेलन संपन्न, प्रकाश विप्लव बने राज्य सचिव 

Manoj Singh

Pegasus Jasoosi: लोगों की जासूसी सुप्रीम कोर्ट को मंजूर नहीं, मामले की एक्सपर्ट कमेटी करेगी जांच

Pramod Kumar

दलीय आधार पर नगर निगम चुनाव करा लें CM, पता चल जाएगा जनाधार – दीपक प्रकाश

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.