समाचार प्लस
Breaking फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर बिहार बेगूसराय

LPG टैंकर से ढेढ़ करोड़ की अवैध शराब बरामद, बिहार में फिर बढ़ रही शराब तस्करी की घटनाएं

illegal liquor worth 1.5 crore caught from lpg tanker in begusarai

बेगुसराय से मनोहर कुमार की रिपोर्ट 

बेगूसराय उत्पाद पुलिस की बड़ी कार्रवाई करते हुए जहां डेढ़ करोड़ की शराब को उत्पाद पुलिस ने जप्त किया है।वही इस कार्रवाई से शराब माफियाओं में हड़कंप मचा हुआ है। बताया जाता है कि एलपीजी गैस टैंकर से भारी मात्रा में प्रतिबंधित विदेशी शराब को उत्पाद पुलिस ने बरामद किया है। इस कार्रवाई से बरौनी रिफाइनरी की सुरक्षा व्यवस्था के साथ-साथ रिफाइनरी ओ पी के कार्यशैली भी सवालों के घेरे में आ गई है। इस संबंध में उत्पाद अधीक्षक अविनाश प्रकाश ने बताया कि जोखिम भरे हमले के बावजूद बीते 3 दिनों के अंदर उत्पाद विभाग की पुलिस ने अवैध शराब से लदे चार ट्रक को बरामदगी हुई है जो राज्य स्तर की उपलब्धि है।

अधीक्षक ने बताया कि लगभग डेढ़ करोड़ मूल्य के जब्ती की गई है। अधीक्षक ने अपने खुलासे में बताया कि अवैध कारोबारी एक जनप्रतिनिधि है। जिसे चिन्हित करते हुए उसके खिलाफ मामले दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है। उत्पाद अधीक्षक ने इस कार्यवाही के बाद चिंता जाहिर करते हुए बताया कि जिस तरह से एलपीजी गैस टैंकर में प्रतिबंधित शराब को छिपाकर रिफाइनरी के अति संवेदनशील द्वार संख्या 10 तक पहुंच गई यदि कोई विस्फोटक सामग्री पहुंचती है तो पूरे जिले को नुकसान पहुंचने से इनकार नहीं किया जा सकता।

उन्होंने बताया कि यह कार्रवाई जिले के भिन्न-भिन्न थाना क्षेत्रों में नगर थाना, रिफाइनरी ओपी एवं सहायक थाना लाखों से की गई है। इस कारवाई ने अधिकारियों को हैरानी में डाल दिया। आप तस्वीरों में साफ-साफ देख सकते हैं कि किस तरह पुलिस की टीम अपनी जान को जोखिम में डालकर वाहन को गैस कटर से काटकर शराब को बाहर निकाला जा रहा है जबकि शराब से लदे टैंक लोरी सैकड़ों वाहन के बीच में खड़ी थी। उन्होंने बताया कि पिछले कई दिनों में 150 लोगों को शराब बेचने और पीने के आरोप में गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है। उन्होंने बताया कि यह अभियान लगातार बेगूसराय में चलता रहता है।

इसी दौरान यह सफलता हाथ लगी है जहां डेढ़ करोड़ की शराब की बरामदगी की गई है। आपको बताते चलें कि बिहार में अप्रैल माह के वर्ष 2016 में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शराबबंदी कानून को लागू किया था और बिहार मध्य निषेध और एवं उत्पाद अधिनियम 2016 में पूरे राज्य में शराब बंदी लागू की सरकार का मुख्य उद्देश्य घरेलू हिंसा को रोकना नारी के मान सम्मान की रक्षा एवं गरीबों के उत्थान के लिए इस कदम को आगे बढ़ाने का फैसला लिया बावजूद इसके अवैध कारोबारियों एवं पुलिस के बीच आंख मिचौली का खेल जारी रहा। फिलहाल इस छापेमारी से जहां अवैध कारोबारियों में हड़कंप मच गया है वही उत्पाद अधीक्षक इस कार्यवाही को एक बड़ी कार्यवाही के रूप में देख रही है।

इसे भी पढें: Babulal Marandi का आरोप- हेमंत व शिबू सोरेन के पास अकूत बेनामी संपत्ति, फंसने पर खेल रहे आदिवासी कार्ड

Related posts

Patratu Grid Inauguration: CM Hemant Soren कल करेंगे 400 केवी क्षमता वाले पतरातू ग्रिड का उद्घाटन, यहां दूर होगी बिजली की किल्लत

Manoj Singh

Chaibasa: लालकृष्ण आडवाणी की सुरक्षा में तैनात एनएसजी कमांडो की सड़क हादसे में मौत

Pramod Kumar

Jharkhand के पड़ोसी राज्य पहुंच गया खतरनाक लंपी वायरस, जानिये किसके लिए है ज्यादा खतरा

Pramod Kumar