समाचार प्लस
Breaking अंतरराष्ट्रीय फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Corona महामारी खत्म करनी है तो फैलने दें Omicron, इस अमेरिकी डॉक्टर ने क्यों किया ऐसा अनोखा दावा

Dr FShiney Imrani

Omicron : ब्रिटेन के मेडिसिन प्रोफेसर पीटर हंटर ने बीबीसी से इंटरव्यू में अगले साल अप्रैल तक कोरोना के खात्मे की भविष्यवाणी की है। वहीं अमेरिका के एक डॉक्टर ने कोरोना को दुनिया से समाप्त करने का एक उपाय सुझाया है। हालांकि इस प्रकार के दावे पहले भी किये गये हैं। यह डॉक्टर हैं अमेरिका के लॉस एंजेलेस के जाने माने हार्ट स्पेशलिस्ट एफ शाइन इमरानी। डॉ. इमरानी ने कोरोना के सैकड़ों मरीजों को बचा चुके हैं। तो पहले यह जान लें कि अमेरिका के यह डॉक्टर पूरी दुनिया को क्या सलाह दे रहे हैं।

ओमीक्रॉन का विस्तार होगा तो उसके खिलाफ इम्युनिटी बढ़ेंगी

‘ओमीक्रॉन काफी कम घातक है। इससे संक्रमित लोगों को न तो अस्पताल जाने की जरूरत पड़ रही है और न ही लोगों की जान जा रही है। ओमीक्रॉन जितना फैलेगा, उतना ही लोगों में कोरोना के खिलाफ इम्युनिटी बढ़ती जाएगी और इसी से कोरोना का भी अंत हो जाएगा। ओमीक्रॉन वैरिएंट की बढ़ने की रफ्तार भले ही डेल्टा वैरिएंट से 70 फीसदी ज्यादा है, लेकिन यह फेफड़ों पर असर नहीं डाल रहा है। इसका प्रसार शरीर में सिर्फ सांस की नली तक ही हो रहा है।‘

इम्यून सिस्टम ओमीक्रॉन से लड़ने में सक्षम

‘हमारी सांस की नली में म्यूकस होता है। यह प्राकृतिक तौर पर बनता है। यह विषाणुओं या जीवाणुओं को रोक लेता है। ओमीक्रॉन जैसे वायरस को यह म्यूकस आगे बढ़ने से रोक देता है। बाकी का काम शरीर का इम्यून सिस्टम कर देता है। इस तरह देखा जाये तो कोरोना के खिलाफ ओमीक्रॉन वैरिएंट एक वरदान की तरह आया है।‘

हालांकि डॉ इमरानी ने इस बात से इनकार नहीं किया है कि ओमीक्रॉन कुछ लोगों की जान ले सकता है, लेकिन जब ये पूरी दुनिया में फैल जाएगा, तो प्राकृतिक तौर पर बनी वैक्सीन जैसा काम करेगा। जो महामारी के खत्मे का काम करेगी।

यह भी पढ़ें: Gaya: ट्रेन की बोगी में आग लगी नहीं थी, लगायी गयी थी, गुनहगार ने बताया कैसे लगी आग

Omicron

Related posts

Movie Review : जानिए कैसी है ‘No Time To Die’, आखिरी बार James Bond बने Daniel Craig ने कमाल ही कर दिया

Manoj Singh

मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने रक्षाबंधन के पावन पर्व पर झारखंडवासियों को शुभकामनाएं दीं

Pramod Kumar

किसान सरकार को झुका सकते हैं तो साधु-संत क्यों नहीं? अपनी मांग मनवाने के लिए कर दी आन्दोलन की शुरुआत

Pramod Kumar