समाचार प्लस
देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर बिहार

CM नीतीश कुमार पर मामला दर्ज करने पहुंचे IAS अफसर, थानेदार ने 4 घंटे तक थाने में कराया इंतजार, यहां देखें Video

बिहार के एक वरिष्ठ IAS अधिकारी केस दर्ज कराने पटना के SC/ST थाने पहुंच गये। बिहार के पूर्व गृह सचिव रहे सुधीर कुमार ने थानेदार को केस दर्ज करने के लिए आवेदन दिया। आवेदन के गंभीर होने के कारण थानाध्यक्ष वहां से आवेदन लेकर निकल गए।

दोपहर 12 बजे से लेकर 4 बजे तक वरिष्ठ IAS अधिकारी थाने में बैठे रहे। 4 बजे थानेदार आए और कहा केस दर्ज नहीं हो सकता । आपका आवेदन अंग्रेजी में लिखा है। यह कहकर थानेदार ने केस लेने से इंकार कर दिया। हालांकि एससी-एसटी थानाध्यक्ष ने कहा कि उनका आवेदन ले लिया गया है और रिसीविंग भी दिया गया है। अब पुलिस उनका आवेदन पढ़ रही है।

मुख्यमंत्री पर भी मामला दर्ज करने की कही बात

मामला दर्ज कराने आए IAS अधिकारी सुधीर कुमार 4 घंटे तक थाने में बैठे रहे। उन्होंने कहा कि थानेदार ने केस दर्ज करने से इंकार कर दिया है। बताया गया कि अंग्रेजी में आवेदन लिखा गया है।किन लोगों पर केस दर्ज करा रहे हैं यह पूछने पर IAS अधिकारी सुधीर कुमार ने कहा कि नीचे से लेकर ऊपर तक के लोगों पर केस दर्ज करने का आवेदन दिया है। क्या मुख्यमंत्री के खिलाफ भी केस दर्ज करेंगे? इस सवाल पर सुधीर कुमार ने जवाब हां में दिया।

उन्होंने कहना है कि IPS अधिकारी और पटना के पूर्व SSP मनु महाराज के खिलाफ भी फर्जीवाडा, जाली कागजात और अन्य आरोप में केस दर्ज कराने का आवेदन दिये थे। लेकिन थानेदार ने केस दर्ज नहीं किया। आवेदन में कितने लोगों पर केस दर्ज की शिकायत की गई, इस प्रश्न के जवाब पर IAS अधिकारी सुधीर कुमार ने कहा कि इसका खुलासा अभी नहीं करेंगे क्यों कि केस अभी दर्ज नहीं हुआ है।

2017 में हुई थी गिरफ्तारी
सुधीर कुमार ने कहा कि समझ लीजिए यही कानून का राज है। वरिष्ठ IAS अधिकारी को केस दर्ज कराने के लिए इंतजार करना पड़ रहा है. इस पर उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि बिहार में कानून का राज है। सुधीर कुमार बिहार कर्मचारी चयन आयोग के पूर्व अध्यक्ष रह चुके हैं। उन पर आरोप था कि 2014 में अध्यक्ष पद पर रहने के दौरान इंटर स्तरीय संयुक्त परीक्षा का पेपर लीक हुआ था, जिसमें उन्हें दोषी बताया गया था। इसी मामले में 2017 में इनको निलंबित करते हुए गिरफ्तार किया गया था।

ये भी पढ़ें : बिहार पंचायत चुनाव: EVM का बटन दबाने से पहले ग्लव्स पहनना जरूरी, मास्क भी अनिवार्य

 

Related posts

Cyber Crime : रांची सदर अस्पताल उपाधीक्षक का आईडी हैक कर 29 बर्थ-डेथ सर्टिफिकेट बनाए

Manoj Singh

68 साल बाद टाटा समूह में एयर इंडिया की ‘घर वापसी’, टाटा संस ने लगायी सबसे बड़ी बोली

Pramod Kumar

सहायक पुलिसकर्मी आंदोलन मामले को लेकर बैठक, आईजी, SSP, सिटी SP मौजूद

Manoj Singh