समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Shubh Deepawali: धनतेरस पर लक्ष्मी को ऐसे करें प्रसन्न, जानें पूजा-विधि और शुभ लग्न

Dhanteras

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

धन और संपत्ति की देवी हैं मां लक्ष्मी। धनतेरस पर मां लक्ष्मी की पूजा से धन और वैभव की प्राप्ति होती है। मां लक्ष्मी की पूजा के पहले कुछ बातों का ध्यान रखें तो माता विशेष प्रसन्न होंगी और धन-धान्य से परिपूर्ण करेंगी। सबसे पहले तो आपने पूजा के समय क्या पहना है, उसका ध्यान रखें। मां लक्ष्मी की पूजा सफेद या गुलाबी रंग के कपड़े पहनकर करनी चाहिए। मां लक्ष्मी के उस स्वरूप की पूजा करें जिसमें वह गुलाबी कमल के फूल पर बैठी हों और उनके हाथों से धन बरस रहा हो। ध्यान रखें कि मां लक्ष्मी को गुलाब के फूल और खासकर कमल का फूल चढ़ाना सर्वोत्तम रहता है। साथ ही मां लक्ष्मी के मन्त्रों का जाप स्फटिक की माला से करना शुभ होता है।

माता लक्ष्मी की पूजा का विधान

पूजा अगर नियमपूर्वक हो तो उसका शुभफल भी मिलता है। पूजा पर बैठने से पहले सफेद या गुलाबी रंग के कपड़े धारण कर लें। पूजा का सारा सामान मंदिर के पास रख लें। मां को पहले गुलाबी रंग के फूल, जैसे- गुलाब और कमल अर्पित करें। अब उन्हें इत्र चढ़ाएं। आप सालभर इस इत्र को संभाल कर रख लें और सालभर किसी खास मौके पर इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। फिर आप 3 घी के दीपक जगाएं और एक चांदी का सिक्का आप पूजा में रखें इस सिक्के को पूजा के बाद आप तिजोरी में रख सकते हैं। अब घंटी बजाते हुए आप मां लक्ष्मी की पूजा और आरती करें। पूजा में आप जो मिठाई रखें उसे अपने परिवार के लोगों को प्रसाद स्वरूप दें।

धनतेरस का शुभ मुहूर्त

2 नवंबर को प्रदोष काल शाम 5 बजकर 37 मिनट से रात 8 बजकर 11 मिनट तक का है। वहीं वृषभ काल शाम 6.18 मिनट से रात 8.14 मिनट तक रहेगा. धनतेरस पर पूजन का शुभ मुहूर्त शाम 6.18 मिनट से रात 8.14 मिनट तक रहेगा।

 

यह भी पढ़ें: Shubh Deepawali: धनतेरस की खरीदारी करने जा रहे, जानिये राशि के अनुसार क्या खरीदें!

Related posts

अब WhatsApp के जरिए भी Vaccination Certificate कर सकते हैं Download, जानिए पूरा Process

Sumeet Roy

Birthday Special: हरफनमौला थे Kishore Kumar, घर के बाहर साइन बोर्ड पर लिखवाया था ‘Beware of Kishore’

Priyanshi Tripathi

कांग्रेस की जनजागरण यात्रा कोलेबिरा पहुंची, बिरसा मुंडा की प्रतिमा पर किया माल्यार्पण

Pramod Kumar

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.