समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

सड़कों पर ईमानदार अफसरों का फिर बहा खून, अबकी बार उत्तर प्रदेश शिकार

Honest officers again shed blood on the streets, this time Uttar Pradesh victim

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

पहले हरियाणा, फिर रांची फिर गुजरात और अब उत्तर प्रदेश। एक जैसी कहानी अब देश के अलग-अलग हिस्सों में दोहरायी जाने लगी है। मानों इनसान का स्वार्थ सबसे ऊपर हो गया है और इनसानी जान की कोई कीमत नहीं रह गयी है।  ज्यादा दिन नहीं हुए, हरियाणा में खनन माफिया ने डंपर से डीएसपी को कुचल डाला था। यह घटना हुए एक भी दिन नहीं बीता कि झारखंड की राजधानी रांची में पशु तस्करों ने गाड़ी से कुचल कर महिला दारोगा की जान ले ली। उसी दिन वाहन चेकिंग के दौरान एक सिपाही को वाहन चालक ने उड़ा दिया। इन घटनाओं की अगली कड़ी में अब उत्तर प्रदेश भी जुड़ गया है। उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर में एक एआरटीओ के ड्राइवर और कांस्टेबल को ट्रक से कुचलकर मार दिया गया। हादसे मे दोनों की मौत हो गई।

लघु शंका के कारण एआरटीओ की बच गयी जान

मामला गोसाईंगंज थानाक्षेत्र के माधवपुर छतौना गांव के पास का है। एआरटीओ की टीम ट्रकों की चेकिंग कर लौट रही थी। सुलतानपुर के एआरटीओ प्रवर्तन आरके वर्मा सुबह के करीब 4 बजे गाड़ी सड़क किनारे खड़ी करवा कर लघुशंका के लिए उतर गए। सिपाही अरुण सिंह और ड्राइवर अब्दुल मोबिन सड़क पर थे। तभी एक ट्रक उधर से गुजरा, लेकिन ड्राइवर ने गाड़ी रोकने के बजाय दोनों पर चढ़ा दिया। ट्रक ने एआरटीओ की गाड़ी को भी टक्कर मार दी। दो लोगों की जान लेकर ट्रक ड्राइवर ट्रक को वहीं छोड़कर हो गया। लघुशंका के लिए उतर जाने के कारण एआरटीओ बाल-बाल बच गये। एआरटीओ के बयान के आधार पर मुकदमा दर्ज करके ट्रक ड्राइवर की खोज शुरू कर दी गई है।

यह भी पढ़ें: Kargil Vijay Divas: वीरता की अमिट कहानी लिखने में शामिल है झारखंड के गुमला के तीन लालों का लहू

Related posts

Black Fungus Infection : रिम्स में भर्ती ‘Black Fungus’ की संदिग्ध महिला मरीज की मौत

Manoj Singh

Monkeypox: केरल में हुई पहली मौत ने बढ़ाई देश की चिंता, WHO ने दुनिया के लिए जारी की डराने वाली चेतावनी

Pramod Kumar

Coal Crisis in India: क्यों आया भारत में कोयले का इतना बड़ा संकट? क्या Blackout का है डर?

Sumeet Roy