समाचार प्लस
Breaking फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर सहरसा

बिहार के सहरसा के घमौर होली की है अलग पहचान, देखिए होली की अद्भुत तस्वीरें

holi celebrated in saharsa in bihar

सहरसा से गुलशन कुमार की रिपोर्ट

सहरसा जिला मुख्यालय से आठ किलोमीटर पश्चिम कहरा प्रखंड के बनगाँव में मनाई जाने वाली घमौर होली की अपनी अलग पहचान है, ब्रज की होली की जैसी बेमिसाल है बनगाँव की घुमौर होली। इसमें लोग एक दूसरे के कंधे  पर सवार होकर, जोर अजमाइस करके होली मनाते है। संत लक्ष्मी नाथ गौसाई द्वारा शुरू की गयी बनगाँव की होली ब्रज की लठमार होली की तरह ही प्रसिद्ध है। मान्यता है कि इसकी परंपरा भगवान्  श्री कृष्ण के काल से  चली आ रही है।

18 वीं सदी में यहाँ के प्रसिद्ध संत लक्ष्मी नाथ गौसाई बाबाजी ने तय किया था। बिहार की सबसे बड़ी आबादी वाले व तीन पंचायत वाले बसे बनगाँव की होली की देश में एक अलग सांस्कृतिक पहचान है। बनगाँव के  भागवती स्थान के पास इमारतों पर रंग बिरंगे पानी के फब्बारे में फिंगोने के बाद इनकी होली पूरी होती है। बनगाँव निवासी स्थानीय लोगों की माने तो यहाँ की होली सांप्रदायिक एकता का प्रतीक  है ,बाबा लक्ष्मी नाथ गोसाई द्वारा स्थापित सभी जाति धर्म के लोग बगैर राग द्वेष के एक साथ होली खेलते है ,सभी लोग बैलजोड़ी होली का प्रदर्शन करते है, पुरे क्षेत्र और गाँव के लोग भगवती स्थान के प्रांगण में आकर यहाँ  खेलते है।

एक दूसरे का कपड़ा फार के होली का आनंद उठाते है। गाँव की एकता का ये बहुत अनूठा मिशाल है. सभी जाति धर्म के लोग एक दूसरे के कंधे पर सवार होकर होली का आनंद लेते है।

इसे भी पढ़ें: आज ही खरीद लें शराब, अगले दो दिन बंद रहेगी दुकान, NOTICE जारी

saharsa holi

Related posts

Bihar Board Result: बिहार बोर्ड मैट्रिक का रिजल्ट जारी, रामायणी राय ने किया टॉप

Manoj Singh

दिवंगत रुपेश पांडेय के माता पिता ने CM हेमंत सोरेन से की मुलाकात, हत्याकांड की CBI जांच कराने का किया अनुरोध

Sumeet Roy

Deoghar : गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे के खिलाफ एक दिन में चार थानों में पांच प्राथमिकी दर्ज

Manoj Singh