समाचार प्लस
Breaking अंतरराष्ट्रीय देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Hinduism in Australia: ऑस्ट्रेलिया में तेजी से फैल रहा हिंदू धर्म, 50% से भी कम रह गए ईसाई

image source : social media

Hinduism in Australia: ऑस्ट्रेलिया में हर 5 साल में जनगणना कराई जाती है. इस बार के जनगणना के आंकड़ों से कई नई चौंकाने वाली जानकारियां सामने आई हैं। जनगणना में ऑस्ट्रेलिया की आबादी में हिंदुओं और मुस्लिमों की हिस्सेदारी में तेजी से वृद्धि दर्ज की है। नई जनगणना के आंकड़ों के मुताबिक देश में ईसाइयों की आबादी 50 फीसदी से भी कम रह गई है। इसके अलावा किसी भी धर्म को न मानने वाले यानी नास्तिकों की संख्या 39 फीसदी हो गई है और बीते 5 सालों में इसमें 9 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। आंकड़ों के मुताबिक ऑस्ट्रेलिया की आबादी ढाई करोड़ से ज़्यादा हो गई है। अब देश की आबादी दो करोड़ 55 लाख हो गई है, जो 2016 में दो करोड़ 34 लाख थी। इस तरह देश की आबादी बीते 5 सालों में 21 लाख बढ़ गई है।

image source : social media
image source : social media

ख़ुद को ईसाई बताने वालों की संख्या 50 फ़ीसदी से कम

जनगणना के आंकड़े बताते हैं कि ऑस्ट्रेलिया में पहली बार ऐसा हुआ है कि जब देश में ख़ुद को ईसाई बताने वालों की संख्या 50 फ़ीसदी से कम हो गई है। अब ऑस्ट्रेलिया में केवल 44 फ़ीसदी ईसाई रह गए हैं। वहीं 50 साल पहले यह आंकड़ा 90 फीसदी का था। इसके बाद भी देश में ईसाई धर्म को मानने वालों की संख्या अब भी सबसे अधिक है। इसके बाद दूसरे नंबर पर 39 फीसदी लोग वो हैं, जो किसी भी धर्म में आस्था नहीं रखते। ऑस्ट्रेलिया दुनिया के उन देशों में से एक है, जहां नास्तिकों का प्रतिशत कुल आबादी में इतना ज्यादा है।

हिंदू के साथ मुस्लिम भी बढ़े

अगर पिछली बार की जनगणना से तुलना करें तो पता चलता है कि दोनों धर्मों के लोगों की संख्या बढ़ रही है। ऑस्ट्रेलिया में हिंदू और इस्लाम धर्म भी तेजी से बढ़ी है। इसके बाद भी दोनों धर्मों को मानने वाले लोगों की संख्या 3-3 ही प्रतिशत है। 2016 में ऑस्ट्रेलिया में हिंदू आबादी (1.9%) और मुस्लिम आबादी (2.6%) थी। इस तरह देखें तो ऑस्ट्रेलिया में हिंदुओं की संख्या में बड़ी वृद्धि हुई है। ऑस्ट्रेलिया में हिन्दू आबादी (Hinduism in Australia) बढ़ने की पीछे की सबसे बड़ी वजह भारत समेत दुनिया भर से ऑस्ट्रेलिया आकर बसना है।

ये भी पढ़ें : भाजपा उपराष्ट्रपति उम्मीदवार के नाम पर कर रही गौर, फिर चौंकाएगी, विपक्ष की फिर होगी बोलती बंद!

Related posts

डायन बिसाही के नाम पर पत्नी ने जेठ और जेठानी की कुल्हाड़ी से काटकर की हत्या, इलाके में मची सनसनी

Sumeet Roy

आदिवासियों के उत्पाद को बाजार से जोड़ने के लिए नयी योजना पर विचार- अर्जुन मुंडा

Sumeet Roy

नये राजनीतिक मोड़ पर कैप्टन अमरिंदर, अमित शाह से 40 मिनट लंबी चली बैठक के मायने?

Pramod Kumar