समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

ताजमहल मामले में याचिकाकर्ता को HC की फटकार, पहले PhD करो फिर आना कोर्ट

Taj Mahal

High court on Taj Mahal row: यूपी (UP) में ताजनगरी के नाम से मशहूर आगरा (Agra) में मौजूद ताजमहल (Taj Mahal) के 22 कमरों को खोलने की याचिका पर इलाहाबाद हाई कोर्ट (High Court) की लखनऊ बेंच ने याचिका कर्ता पर फटकार लगाई है. हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच ने इस याचिका पर सुनवाई के दौरान कहा, ‘ताज महल किसने बनवाया, जाओ पहले पढ़कर आओ फिर अगर कोई रिसर्च करने से रोके तो हमारे पास आना.

22 कमरों को खुलवाने का मामला

आपको बता दें कि ताजमहल के 22 कमरों को खुलवाने की मांग को लेकर हाई कोर्ट में दायर याचिका की सुनवाई के दौरान जस्टिस डीके उपाध्याय ने याचिकाकर्ता को फटकार लगाते हुए कहा कि जनहित याचिका (PIL) व्यवस्था का दुरुपयोग न करें, कल आप आएंगे और कहेंगे कि हमें माननीय जज के चेंबर में जाने की अनुमति चाहिए. ऐसे में हमें लगता है कि आप मानते हैं कि ताजमहल को शाहजहां ने नहीं बनाया है? जैसे कि इसे किसने बनवाया या ताजमहल की उम्र क्या है?

हाई कोर्ट की तल्ख टिप्पणी

इस सुनवाई के दौरान हाई कोर्ट ने तल्ख टिप्पणी करते हुए कहा कि आपको भला जिस टॉपिक के बारे में पता ही नहीं है, ऐसे में उस पर पहले रिसर्च कीजिए, जाइए एमए कीजिए, पीएचडी कीजिए, अगर इस दौरान आपको कोई भी संस्थान रिसर्च नहीं करने देता है तब हमारे पास आइए.

‘पीआईएल (PIL) की अहमियत को समझें और कृपया उसका मजाक न बनाएं.’

मामले की सुनवाई के दौरान कोर्ट के सवाल का जवाब देते हुए याचिकाकर्ता के वकील ने कहा कि उनके मुवक्किल ने इस विषय में जिम्मेदार एजेंसियों से जानकारी मांगी थी. जो जानकारी मिली उससे याचिकाकर्ता संतुष्ट नहीं है. इस पर अदालत ने कहा कि अगर अधिकारियों ने कहा है कि वो सभी 22 कमरें सुरक्षा कारणों से बंद हैं तो यह एक पर्याप्त जानकारी है और अगर आप फिर भी इससे संतुष्ट नहीं हैं तो इसे चुनौती दें. इस सुनवाई के दौरान एक पल ऐसा भी आया जब कोर्ट की टिप्पणी से सभी स्तब्ध रह गए.दरअसल याचिकाकर्ता ने कहा कि कम से कम उसे ही उन कमरों में जाने की इजाजत दी जाए ताकि उसकी शंका का समाधान हो सके. याचिकाकर्ता की इस दलील पर कोर्ट ने कहा, ‘ऐसे तो कल आप नई याचिका लगाकर जजों के चैंबर में जाने की इजाजत मांगने लगेंगे. इसलिए आपसे अपेक्षा की जाती है कि न्याय दिलाने के लिए बनी जरूरी व्यवस्था पीआईएल (PIL) की अहमियत को समझें और कृपया उसका मजाक न बनाएं.’

ये भी पढ़ें : देशभर में CBI की छापेमारी, रांची में हवाला कारोबारी से मिले 57 लाख

Related posts

सीवान में रासजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष की बेखौफ अपराधियों ने की गोली मारकर हत्या

Pramod Kumar

Tokyo Olympics : तलवार की धार से Bhavani Devi ने लिख डाला नया इतिहास, प्रेरणादायक है संघर्ष की कहानी

Sumeet Roy

Jharkhand के 5 IAS सहित 23 अफसरों की ‘निगरानी’, सस्ता माल महंगा खरीद कर किया बड़ा सोलर घोटाला

Pramod Kumar