समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राँची

राज्यपाल रमेश बैस ने जेपीएससी और शिक्षा विभागों से कहा- छात्रहित में समन्वय के साथ करें काम

राज्यपाल रमेश बैस ने जेपीएससी और शिक्षा विभागों से कहा- समन्वय के साथ करें काम

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

माननीय राज्यपाल-सह-झारखण्ड राज्य के विश्वविद्यालयों के कुलाधिपति रमेश बैस ने झारखण्ड लोक सेवा आयोग, उच्च शिक्षा विभाग एवं विश्वविद्यालयों को समन्वय स्थापित कर कार्य करने का निदेश दिया है। साथ ही राज्यपाल ने विश्वविद्यालयों में रिक्त पदों पर नियुक्ति तथा शिक्षकों व शिक्षकेतर कर्मियों की लंबित प्रोन्नति की दिशा में कार्य करने को भी कहा। राज्यपाल शुक्रवार को राजभवन में अध्यक्ष, झारखंड लोक सेवा आयोग अमिताभ चौधरी एवं अपर मुख्य सचिव, उच्च एवं तकनीकी शिक्षा विभाग के.के. खंडेलवाल के साथ समीक्षा बैठक कर रहे थे।

विश्वविद्यालयों में नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू करे जेपीएससी

राज्यपाल ने निदेश दिया कि झारखंड लोक सेवा आयोग विश्वविद्यालय द्वारा प्रेषित रिक्तियां संबंधी अधियाचना की दिशा में ध्यान देते हुए नियुक्ति प्रक्रिया शीघ्र आरंभ करे। राज्यपाल महोदय ने कहा कि शिक्षाहित में झारखंड लोक सेवा आयोग, उच्च शिक्षा विभाग एवं विश्वविद्यालय को समयबद्ध होकर कार्य करने की आवश्यकता है। उन्होंने विश्वविद्यालयों में स्थाई शिक्षकों की नियुक्ति शीघ्र करने का निदेश दिया। राज्यपाल ने राज्य में उच्च शिक्षा की स्थिति पर चिन्ता व्यक्त करते हुए कहा कि हमारे राज्य में विद्यार्थियों को गुणात्मक शिक्षा मिले, विश्वविद्यालय में बेहतर आधारभूत संरचनाएं विकसित हो, इस दिशा में उच्च शिक्षा विभाग को निरंतर ध्यान देने की आवश्यकता है। राज्यपाल ने कहा कि राज्य में शैक्षणिक वातावरण बेहतर हो,  इसके लिए हम सभी को सामूहिक प्रयास करने की जरूरत है।

यह भी पढ़ें: Deoghar: रजत मुखर्जी ने 50 वर्षों में किया 50,000 डाक टिकटों का संग्रह, प्रकृति प्रेमी हैं, पक्षी भी पहचानते आवाज

Related posts

विजयादशमी से पहले ही ‘रावण’ ने ली अंतिम सांस,  अरविंद त्रिवेदी का हार्टअटैक से निधन

Pramod Kumar

‘राज्यपाल सम्मेलन-2021’ में रमेश बैस ने राज्यपाल के अधिकार खत्म किये जाने की राष्ट्रपति को दी जानकारी

Pramod Kumar

JSSC ने नियुक्ति परीक्षा और विज्ञापन किये रद्द, सूचना जारी, फिर से मंगाये जायेंगे आवेदन

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.