समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Good News: गुरु नानक जयंती का तोहफा- आज से दोबारा खुला Kartarpur Corridor

Good News:गुरु नानक जयंती का तोहफा

आज से करतारपुर कॉरिडोर (Kartarpur corridor) को दुबारा खोल दिया गया है. गुरु नानक जयंती को दखते हुए पिछले साल से बंद पड़ा करतारपुर कॉरिडोर खुल गया है. भारत और पाकिस्तान में चर्चित करतारपुर कॉरिडोर सिखों के सबसे पूजनीय तीर्थस्थल में से एक है. पाकिस्तान स्थित इस कॉरिडोर कॉरिडोर को खोलने का फैसला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरु नानक जयंती के शुभ अवसर को ध्यान में रखते हुए लिया. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी इस फासले पर ट्वीट कर खुशी जाहिर की है. उन्हेंने ट्वीट कर लिखा कि “देश 19 नवंबर को श्री गुरु नानक देव जी के प्रकाश उत्सव का आयोजन करने के लिए तैयार है और मुझे विश्वास है की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस फैसले से देश भर में और ख़ुशी बढ़ेगी.”
श्रद्धालुओं को करतारपुर साहिब गुरुद्वारा में दर्शन करने के लिए कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना होगा. आपको बात दें कि पाकिस्तान स्थित इस कॉरिडोर में सिरफ् उन्हें ही जाने की अनुमति मिलेगी कोरोना वैक्सीन के दोनों डोज ले लिए है. इसके साथ ही जो भी श्रद्धालु इस पवित्र दर्शन के लिए जा रहे हैं. उनको अपने साथ आरटीसीआर (RTPCR) नेगेटिव रिपोर्ट ले जानी होगी. आरटीपीसीआर (RTPCR) रिपोर्ट 72 घंटे से ज्‍यादा पुरानी नहीं होनी चाहिए दरअसल, इन दोनों ही चीजों के लिए पाकिस्‍तान ने भारत से अनुरोध किया था. जिसके बाद भारत की ओर से इस बात पर सहमति जताई गई थी.

Kartarpur corridor
Kartarpur corridor

आखिर ये कॉरिडोर क्यों है ख़ास ?

भारत-पाकिस्तान के बटवारे के समय ये गुरुद्वारा पकिस्तान में चला गया था इसलिए भारत के नागरिकों को इसके दर्शन के लिए वीसा की ज़रुरत पड़ती थी. जो लोग पाकिस्तान नहीं जा पाते थे वो भारतीय सीमा में डेरा बाबा नानक स्थित गुरुद्वारा शहीद बाबा सिद्ध सैन रंधावा में दूरबीन के सहारे दर्शन करते हैं . ये गुरुद्वारा भारत की सीमा से साफ़ नज़र आता है. अब एक बार फिर पाकिस्तान सिख तीर्थयात्रियों के लिए कॉरिडोर खोलने को तैयार है. भारत में इसका उद्घाटन 26 नवंबर को किया गया था तो वहीं पाकिस्तान में इसका उद्घाटन 28 नवंबर को किया गया था. पाकिस्तान के लिए ये कॉरिडोर टूरिस्ट्स की भावनाओं से जुड़ा है जबकि भारत के लिए इसका उद्देश्य अपने लोगो के लिए तीर्थस्थल तक रास्ता बनाना है.

भारत अब करतारपुर साहिब कॉरिडोर (Kartarpur Sahib Corridor) को फिर से क्यों खोल रहा है?

धर्म- श्री गुरु नानक जयंती से पहले केंद्र सरकार ने एक बार फिर से करतारपुर कॉरिडोर को खोलने का फैसला लिया है. गुरु पर्व 19 नवंबर को है और ऐसे में मोदी सरकार का ये बड़ा फैसला मानों सिख तीर्थयात्रियों के हित में ही लिया गया है. इसे 16 मार्च 2020 को कोरोना महामारी की वजह से बंद कर दिया गया था. गृह मंत्री अमित शाह ने खुद ट्वीट करके ये जानकारी दी.

राजनिती 

ये फैसला पंजाब में फरवरी 2022 में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले भी की गई है. भाजपा,जो राज्य में किसी भी राजनीतिक गठबंधन से रहित है और भारत के एकमात्र सिख-बहुल राज्य में कभी भी अपने दम पर सत्ता में नहीं रही है, ऐसे में ये बड़ा फैसला क्या रंग लाएगा ये तो आने वाले चुनाव में ही पता चलेगा. दरअसल, पूर्व सीएम कप्तान अमरिंदर सिंह ने प्रधानमंत्री मोदी से अपील कि थी की सिखों की भावनाओ के मद्दे नज़र करतारपुर कॉरिडोर खोल दी जाए. इससे पहले बीजेपी नेताओं ने भी प्रधानमंत्री से कॉरिडोर को दुबारा खोलने का अनुरोध किया था.

करतारपुर साहिब गुरुद्वारा, जिसे आम भाषा में गुरुद्वारा दरबार साहिब के नाम से जाना जाता है, यह सिखों का एक मुख्य धार्मिक स्थल है, जहा गुरु नानक देव ने अपने जीवन के आखिरी वर्ष बिताए थे. यही वो जगह है जहां गुरु नानक जी ने 16 सालों तक अपना जीवन व्यतीत किया. पकिस्तान के नारोवाल जिले में बसा करतारपुर पकिस्तान स्थित पंजाब में आता है. ये जगह लाहौर से 120km दूर है. भारत में रावी नदी के किनारे श्री गुरु नानक देव जी की याद में बनाया गया डेरा बाबा नानक स्तिथ है. यह भारत-पाकिस्तान से लगभग 1km दूर है और गुरदासपुर जिले में आता है. भारतीय सिख तीर्थयात्रियों के तरफ से करतारपुर कॉरिडोर को खोलने की मांग बहुत बार की गयी है. 1999 में भारतीय प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने अपने पाकिस्तानी समकक्ष नवाज़ शरीफ के साथ इस मुद्दे पर अपनी आवाज़ उठायी थी. फिर 2004 में भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पंजाब के मुख्यमंत्री कप्तान अमरिंदर सिंह को प्रेरित किया कि भारत सरकार अगली वार्ता के दौरान पाकिस्तान में एक बार फिर इस मुद्दे को उठाएगी.

ये भी पढ़े;धमाकेदार ऑफर: सिर्फ 2 हजार रुपये में खरीदें OPPO का 5G Smartphone, ऐसे पाएं छूट

 

Related posts

Bank Holidays: दिसंबर में 12 दिन बंद रहेंगे बैंक, मुसीबत में फंसने से बेहतर चेक कर लें लिस्ट

Pramod Kumar

नेपाल सरकार ने कड़ी शर्तों के साथ खोला बॉर्डर,भारतीय नागरिकों को भी प्रवेश के लिए लेनी होगी ‘ऑनलाइन’ अनुमति

Manoj Singh

IPU Session: पाकिस्तान एसेंबली स्पीकर ने उठाया कश्मीर का मुद्दा तो पलामू सांसद वीडी राम ने धो दिया

Pramod Kumar

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.