समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

जाति पूछो भगवान की: शिव हैं शूद्र तो जगन्नाथ आदिवासी! कोई भगवान नहीं हैं ब्राह्मण, JNU की VC ने दिया विवादित बयान

image source : social media

एक ओर जहां देश में आए दिन जाति-संबंधी हिंसा की खबरे न सामने आती रहती हैं वहीँ दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय यानी JNU की कुलपति(JNU Vice Chancellor) शांतिश्री धुलिपुड़ी ने इसी कड़ी में विवादित बयान दे दिया है। उनका कहना है कि हिंदू देवी-देवता ऊंची जाति के नहीं हैं। यही नहीं उन्होंने भगवान शिव की जाति को लेकर भी बड़ा बयान दिया है। जेएनयू की कुलपति    (JNU VC controversial statement) का मानना है कि,  भगवान शिव भी शेड्यूल कास्ट या शेड्यूल ट्राइब (SC/ST) हो सकते हैं।

“देवता उच्च जाति के नहीं हैं”

जेएनयू की कुलपति शांतिश्री ने कहा कि, मनुष्य जाति के विज्ञान के मुताबिक देवता उच्च जाति के नहीं हैं। शांतिश्री ने ये बात डॉ. बीआर अंबेडकर व्याख्यान श्रृंखला में डॉ. बी आर अंबेडकर के विचार जेंडर जस्टिस: डिकोडिंग द यूनिफॉर्म सिविल कोड’ में व्याख्यान देते हुए कही।

भगवान शिव ST या SC

उन्होंने कहा कि हिंदू धर्म एक धर्म नहीं है, यह जीवन का एक तरीका है तो हम आलोचना से क्यों डरते हैं। मानवशास्त्रीय रूप से देवता ऊंची जाति के नहीं होते। भगवान शिव अनुसूचित जाति या अनुसूचित जनजाति के हो सकते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि कोई भी महिला यह दावा नहीं कर सकती कि वह ब्राह्मण या कुछ और है। औरतों को जाति अपने पिता या पति से मिलती है।

“भगवान जगन्नाथ वास्तव में आदिवासी मूल से हैं”

शांतिश्री धुलिपुड़ी ने कहा कि देवताओं की उत्पत्ति को मानवशास्त्रीय रूप से जानना चाहिए। यह बहुत महत्वपूर्ण है कि हम बाबासाहेब के विचारों पर पुनर्विचार कर रहे हैं। कुलपति ने आगे यह भी कहा कि लक्ष्मी, शक्ति यहां तक ​​कि भगवान जगन्नाथ भी मनुष्य जाति के विज्ञान के अनुसार उच्च जाति से नहीं आते हैं। भगवान जगन्नाथ वास्तव में आदिवासी मूल से हैं। तो हम अभी भी इस भेदभाव को क्यों जारी रखे हुए हैं जो बहुत ही अमानवीय है।

ये भी पढ़ें :आदिवासी साहित्य पुरोधा रामदयाल मुंडा का भारत में ‘आदिवासी दिवस’ शुरू कराने में बड़ा योगदान

Related posts

Tata Steel Foundation ने कराया CUJ के छात्रों को संवाद फेलोशिप से अवगत, विलुप्त होती भाषा के संरक्षण पर हुई चर्चा

Sumeet Roy

बचाता तो भगवान ही है: तीन अस्पतालों ने जिसे घोषित किया मृत, पोस्टमार्टम से पहले चल पड़ीं सांसें

Pramod Kumar

राखी बांधने मायके आई थी महिला, कुछ देर बाद तालाब से मिला परिवार के 4 लोगों का शव

Sumeet Roy