समाचार प्लस
Breaking गिरीडीह झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Giridih: चिलखारी नरसंहार कांड का फरार नक्सली Mahendra Gupta गिरफ्तार, पूर्व सीएम बाबूलाल के बेटे समेत उन्नीस लोगों की हत्या में था शामिल

Giridih: गिरिडीह के भेलवाघाटी थाना पुलिस को दस दिनों के भीतर तीन बड़ी सफलता मिली है। गुरुवार को भेलवाघाटी पुलिस (Bhelwaghati Police) ने एक 58 वर्षीय नक्सली महेंद्र गुप्ता (Mahendra Gupta) को दबोचने में सफलता पाया। हालांकि इसके पास से पुलिस ने कोई हथियार तो बरामद नहीं किया। लेकिन डीएसपी संजय राणा की मानें तो महेंद्र गुप्ता एक कुख्यात नक्सली है और उम्र के इस पड़ाव में भी यह कई बड़े नक्सली रमेश मंडल, सुरंग यादव के दश्ते का सक्रिय नक्सली के रूप में कार्य कर रहा था।

गुप्त सूचना के आधार पर पुलिस ने दबोचा 

भेलवाघाटी थाना पुलिस ने इस वृद्ध नक्सली महेंद्र (Mahendra Gupta) को बोकारो के जरीडीह थाना के एक बस्ती भूतपूर्व इलाके से गुरुवार को गुप्त सूचना के आधार पर दबोचा। इसके गिरफ्तारी में भेलवाघाटी थाना प्रभारी प्रशांत कुमार की भूमिका महत्पूर्ण बताया जा रहा है।

बाबूलाल के बेटे अनूप मरांडी समेत उन्नीस लोगों की हत्या का केस दर्ज है

पुलिस के अनुसार गिरफ्तार नक्सली महेंद्र गुप्ता जमुई के चरकापत्थर के बहरवागडी गांव का रहने वाला है। लेकिन पुलिस की माने तो महेंद्र गुप्ता पिछले कई सालों से फरार चल रहा था। क्योंकि इसके खिलाफ भेलवाघाटी थाना में चिलखारी नरसंहार का केस दर्ज है। साल 2007 के 26 अक्टूबर की रात पूर्व सीएम बाबूलाल के बेटे अनूप मरांडी समेत उन्नीस लोगों की हत्या का केस दर्ज है।

पचास साथियों के साथ मिलकर घटना को अंजाम दिया था

इस घटना को जमुई और गिरिडीह के जोनल कमांडर चिराग दा के दस्ते ने अपने पचास साथियों के साथ मिलकर घटना को अंजाम दिया था। इसके बाद इस उम्रदराज नक्सली के खिलाफ इसी भेलवाघाटी थाना में एक और हत्याकांड 166/08 और बिहार के जमुई के चरकापत्थर थाना में ही हत्या का केस दर्ज है।

चौदह साल बाद गिरिडीह पुलिस के हत्थे चढ़ा

भेलवाघाटी और चरकापत्थर के अलग अलग घटनाओं को  नक्सली महेंद्र ने सिद्धू कोड़ा के साथ मिलकर अंजाम दिया था। लेकिन चिराग दा की मौत जमुई और गिरिडीह पुलिस के साथ हुए एनकाउंटर के बाद महेंद्र कई महीनों तक सिद्धू कोड़ा के दस्ते के साथ जुड़ा रहा। और जब सिद्धू कोड़ा की मौत एनकाउंटर में हुई, तो यह सुरंग और रमेश मंडल के दस्ते से जुड़ गया। वैसे चौदह साल बाद गिरिडीह पुलिस के हत्थे चढ़े  इस नक्सली का संपर्क गिरिडीह जमुई के दुर्दांत एरिया कमांडर बशीर दा के साथ होना भी बताया जा रहा है। फिलहाल इस वृद्ध नक्सली महेंद्र की गिरफ्तारी ने गिरिडीह पुलिस को राहत दी है।

 ये भी पढ़ें: Jharkhand: पांच लाख के इनामी सब जोनल कमांडर समेत तीन उग्रवादी गिरफ्तार

 

Related posts

Dhanbad: तीर्थयात्रियों से भरी बस पलटी, 10 यात्री घायल, दूसरी बस से भेजे गये तीर्थयात्री

Pramod Kumar

Nepal Plane Crash: दुर्घटनाग्रस्त तारा एयर के सभी 22 लोगों की मौत की आशंका, 16 शव बरामद

Pramod Kumar

67th BPSC PT Exam में हुआ बड़ा बदलाव, अब नए पैटर्न पर होगी परीक्षा

Manoj Singh