समाचार प्लस
Breaking अपराध झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Jail बना ऐशगाह : सलाखों के पीछे रहकर भी खौफ कम नहीं, जेल से ही आतंक फैलाते हैं ये गैंगस्‍टर्स

Jail

न्यूज़ डेस्क / समाचार प्लस झारखंड -बिहार

आए दिन  जेलों से कुख्यात बंदियों के मुर्गा व शराब पार्टी से लेकर जुए की तस्वीरें सामने आती रहती  हैं। इससे जेलों की सुरक्षा-व्यवस्था से लेकर जेल(jail) के भीतर कुख्यात अपराधियों को मिल रही सुविधाओं पर सवाल खड़े होते हैं। अब जेल अपराधियों के लिए सुरक्षित पनाहगाह बनती जा रही है। जेल से अपराधी गिरोह चला रहे हैं। रंगदारी की मांग कर रहे हैं। धमकी दी जा रही है। सुपारी लेकर अपराध को अंजाम दे रहे हैं। जब तक पुलिस-प्रशासन तक सूचना पहुंचती तो घटना हो चुकी होती है। जेल में छापामारी करने के बाद भी पुलिस हाथ मलते रह जाती है।

जेल के अंदर ही छलकाए जा रहे हैं जाम से जाम

ताजा मामला गुमला जेल में में बंद कुख्यात गैंगस्टर सुजीत सिन्हा और उसके गुर्गों का है। उनकी कुछ तस्वीरें वायरल हो रही हैं।वायरल तस्वीर में गैंगस्टर सुजीत सिन्हा महंगे शराब के साथ जेल के अंदर ही अपने गुर्गों के साथ पार्टी कर रहा है। जाम से जाम छलकाए जा रहे हैं। हालांकि वायरल तस्वीर की सत्यता की जांच अभी बाकी है।

जेल में एशो-आराम और सुविधा हो रही मुहैया

उम्र कैद की सजा काट रहा कुख्यात गैंगस्टर सुजीत सिन्हा जेल से गैंग चला रहा है।वर्तमान में झारखंड के गुमला जेल में कुख्यात गैंगस्टर सुजीत सिन्हा बंद है. लेकिन वो जेल में रहे या घर में इससे उसे कोई फर्क नहीं पड़ता है। उसे जेल में तमाम एशो-आराम और सुविधा मुहैया हो रही है. यह बातें एक वायरल तस्वीर साबित कर रही हैं। वायरल तस्वीर गुमला पुलिस और जेल प्रशासन को भी हाथ लगी है। तस्वीर मिलने के बाद प्रशासन के होश उड़ गए हैं।

जब्त मोबाइल की जांच में तस्वीर सामने आयी

बताया जा रहा है कि हाल के दिनों में गुमला पुलिस की टीम ने जेल का औचक निरीक्षण किया था। इस दौरान पुलिस की टीम ने जेल से एक मोबाइल जब्त किया था। जब्त मोबाइल की जांच में यह तस्वीर सामने आयी है। तस्वीर सामने आने के बाद पूरा पुलिस महकमा इसकी जांच में जुट गया है। यह पता लगाया जा रहा है कि जेल में गैंगस्टर ने पार्टी कब की है। साथ ही यह भी पता किया जा रहा है कि जेल के भीतर शराब और अन्य सामान कैसे गया। इसमें कौन लोग शामिल हैं, जांच पूरी होने के बाद तस्वीर की सच्चाई सामने आएगी।

जेल के सेल की है तस्वीर !

वायरल तस्वीर यह बता रही है कि जिस जगह पर गैंगस्टर अपने गुर्गों के साथ बैठा है, उसके पीछे लोहे की रॉड लगी है। जिससे यह साफ हो रहा है कि परिसर जेल के सेल का है सेल में सुजीत सिन्हा अपने गुर्गों के साथ बैठा हुआ है। शराब और रुपये भी उसके सामने पड़े हैं। यहां तक कि एक तस्वीर में गैंगस्टर गुर्गों के साथ खाना और शराब साथ में ही ले रहा है। सूत्रों के अनुसार यह पार्टी नए साल के अवसर पर की गई थी। जिसमें गैंगस्टर सुजीत सिन्हा के लिए तमाम तरह के पकवान और महंगी शराब परोसे गए थे।

गैंगस्टर जेलों से चला रहे हैं अपराध का साम्राज्य

विभिन्न जिलों में संचालित कोल परियोजनाओं व अन्य विकास परियोजनाओं में संलग्न ठेकेदारों, ट्रांसपोर्टरों, आउटसोर्सिंग कंपनियों के पदाधिकारियों, कर्मियों को फोन के माध्यम से रंगदारी व भयादोहन के मामले पहले भी सामने आए हैं। इनमें ज्यादातर जेल में बंद अपराधियों व उनके गुर्गों की संलिप्तता की बात सामने आई है। कई गिरोह जैसे सुजीत सिन्हा, अमन साव, अमन श्रीवास्तव गिरोह के सदस्य ज्यादातर मामलों में थ्री-जी, फोर-जी नेटवर्क का इस्तेमाल कर अलग-अलग एप, वाट्सएप, टेलीग्राम का उपयोग कर इंटरनेट कालिंग, स्पूफ कालिंग, फोन कालिंग का इस्तेमाल कर भयादोहन कर रहे हैं। इसमें से कई सारे काल गिरोह के ऐसे सदस्यों ने किया है जो जेल में बंद हैं। सुजीत सिन्हा, अमन साव, अमन श्रीवास्तव, फहीम खान, अखिलेश सिंह, अमन सिंह और उनके गिरोह के अपराधी जेल में ही तमाम सुविधाओं का उपभोग कर रहे हैं।

सिम बदल कर मांगते हैं रंगदारी

अपराधिक गिरोह सिम बदल-बदल कर रंगदारी मांगते हैं. झारखंड के बड़े अपराधी जेल में बंद रह कर भी सक्रिय । जेल में होते हुए भी रंगदारी मांग रहे हैं। ऐसे कई अपराधी हैं, जिन पर पुलिस की स्पेशल ब्रांच ने नजर रखी है। अपराधी अमन साव के द्वारा रांची के रांची के चार बड़े कोयला कारोबारी से मोटी रकम लेवी के रूप में मांगी गयी थी।कारोबारी के द्वारा लेवी नहीं दिये जाने के बाद अमन साव ने कारोबारी की हत्या की साजिश रची।

जेल से ही अपना सम्राज्य चलाता रहा है अनिल शर्मा 

दुमका जेल में बंद होने के बाद भी अनिल शर्मा अपना सम्राज्य चलाता रहा है। जेल की सुरक्षा व्यवस्था को धता बताते हुए फोन से ही रांची के व्यवसायी से रंगदारी वसूलने की खबर पहले आ चुकी  है। ऐसे में जेल की व्यवस्था पर सवाल उठने लगते हैं।

दिनेश गोप के  इन्वेस्टर की गिरफ्तारी से हुए कई खुलासे 

ताजा मामला  PLFI सुप्रीमो दिनेश गोप के  इन्वेस्टर की गिरफ्तारी का है। इस गिरफ्तारी ने उसकी संपत्ति का खुलासा कर दिया है।   उग्रवादी संगठन पीएलएफआई के खिलाफ पुलिस की कार्रवाई युद्ध स्तर पर जारी है। रांची पुलिस की अलग-अलग टीमों ने दिल्ली और बिहार के बक्सर में छापेमारी कर संगठन की प्रमुख निवेशक लिली सहित चार को धर दबोचा है। रांची पुलिस की टीम ने बक्सर से फरार चल रहे निवेश, ध्रुव और शुभम को गिरफ्तार किया है। वहीं दिल्ली में छापेमारी कर लिली को गिरफ्तार किया है।रांची में पीएलएफआई संगठन के पैसों की वसूली करने के मामले में फरार चल रहे निवेश, ध्रुव और शुभम को बिहार के बक्सर से गिरफ्तार कर लिया गया है। इनके पास से 12 लाख रुपये और 15 मोबाइल पुलिस ने बरामद किए हैं। बता दें कि निवेश के घर में छापेमारी के दौरान पुलिस को 61 लाख रुपये मिले थे, वहीं पुलिस ने उसके घर से बीएमडब्ल्यू और थार जैसे महंगे कार भी जब्त किए थे।

ये भी पढ़ें :Bank union strike: फिर ठप होगा बैंकों का कामकाज! सरकारी के साथ निजी बैंक भी दो दिन रहेंगे बंद

Related posts

Happiest Moment: 46 की उम्र में जुड़वा बच्चों की मां बनीं Preity Zinta, बताया क्या रखा है नाम

Manoj Singh

Mann Ki Baat: सत्ता में रहना लक्ष्य नहीं, मेरा लक्ष्य लोगों की सेवा करना है – प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी

Pramod Kumar

Jamtara: शराबी पति ने घर से निकाला,न्याय के लिए दुधमुंहे बच्चे संग भटक रही दुखियारी मां, महिला थाने से न्याय की आस

Pramod Kumar