समाचार प्लस
Breaking अंतरराष्ट्रीय खेल देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

French Open: Rohan Bopanna ने फ्रेंच ओपन में रचा इतिहास, पहली बार फ्रेंच ओपन के सेमीफाइनल में पहुंचे

image source : social media

पेरिस:  भारतीय टेनिस स्टार रोहन बोपन्ना 42 साल की उम्र में पहली बार रोलैंड गैरोस सेमीफाइनल में पहुंच गए हैं। वह नीदरलैंड्स के अपने जोड़ीदार मैटवे मिडेलकोप के साथ फ्रेंच ओपन के डबल्स के सेमीफाइनल में पहुंच गए हैं। वे पहली बार टेनिस ग्रैंड स्लैम फ्रेंच ओपन (French Open) में पुरुष डबल्स के सेमीफाइनल में पहुंचे हैं। 42 साल के बोपन्ना और उनके डच जोड़ीदार मैटवे मिडेलकूप (Matwe Middelkoop) ने क्वार्टर फाइनल मुकाबले में संघर्षपूर्ण जीत हासिल की। भारतीय-डच जोड़ी ने ब्रिटेन के लॉयड ग्लासपूल और फिनलैंड के हेनरी हेलियोवारा को पहला सेट हारने के बाद 4-6, 6-4, 7-6 से हराया।

14 साल का इंतजार समाप्त

यह मुकाबला दो घंटे 4 मिनट चला। इस जीत के साथ ही 16वीं वरीयता प्राप्त बोपन्ना और मिडेलकूप की जोड़ी सेमीफाइनल में पहुंच गई। रोहन बोपन्ना ने पहली बार 2008 में फ्रेंच ओपन में हिस्सा लिया था। उन्होंने तब से हर साल पुरुष डबल्स इवेंट में उतरे हैं लेकिन कभी तक सेमीफाइनल में नहीं पहुंचे थे। उनका बेस्ट प्रदर्शन 2011, 2016, 2018 और 2021 में आया था, जब वे अपने जोड़ीदार के साथ क्वार्टर फाइनल तक पहुंचने में सफल रहे थे।

अभी भी पहले खिताब का इंतजार

रोहन बोपन्ना अभी तक पुरुष डबल्स में कोई ग्रैंड स्लैम नहीं जीत सके हैं। उनका बेस्ट प्रदर्शन 2010 यूएस ओपन में आया था। अपने पाकिस्तानी जोड़ीदार के साथ बोपन्ना फाइनल तक पहुंचे थे लेकिन वहां ब्रायन भाई बॉब और माइक के खिलाफ उन्हें हार झेलनी पड़ी थी। पुरुष डबल्स में इससे पहले रोहन बोपन्ना आखिरी बार 2015 में ग्रैंड स्लैम का सेमीफाइनल खेला था। तब वे विंबलडन के अंतिम-4 में पहुंचे थे। हालांकि वे मिक्स डबल्स में ग्रैंड स्लैम का खिताब 2017 फ्रेंच ओपन में ही जीत चुके हैं।

सेमीफाइनल में इनसे भिड़ंत

सेमीफाइनल में रोहन बोपन्ना और मैटवे मिडेलकूप की जोड़ी का सामना जीन-जूलियन रोजर और मार्सेलो अरेवलो से होगा। यह मुकाबला 2 जून को खेला जाएगा। 12वीं वरीतया प्राप्त इस जोड़ी ने डेविड वेगा हर्नांडेज और राफेल माटोस पर 7-6, 6-3 से जीत हासिल की थी।
ये भी पढ़ें :J&K नेशनल पैंथर्स पार्टी के संस्थापक Bhim Singh का निधन, लंबे समय से चल रहे थे बीमार

Related posts

सिद्धार्थ शुक्ला पंचतत्व में विलीन, अंतिम विदाई देने पहुंचीं शहनाज गिल के रुदन से माहौल गमगीन

Pramod Kumar

Covid-19: तीसरी लहर ने दे दी दस्तक? 47,092 आये नये मामले, केरल में महामारी पर नियंत्रण नहीं

Pramod Kumar

दानापुर के JDU नेता की हत्या मामले में SSP का बड़ा खुलासा, सच्चाई जान रह जाएंगे दंग

Sumeet Roy