समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर शिक्षा

Integrated BEd : 50 संस्थानों में शुरू होगा Four-Year Integrated B.Ed, इसी आधार पर होगी शिक्षकों की भर्ती

Integrated BEd: 50 संस्थानों में शुरू होगा Four-Year Integrated B.Ed

न्यूज़ डेस्क/ समाचार प्लस झारखंड- बिहार

Integrated BEd: केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने चार वर्षीय इंटीग्रेटेड बीए बीएड, (Four-Year Integrated BEd) बीएससी बीएड बीकॉम बीएड पाठ्यक्रम पेश किया है। शिक्षा मंत्रालय ने चार वर्षीय एकीकृत अध्यापक शिक्षा कार्यक्रम -आईटीईपी को अधिसूचित कर दिया है। यह एक दोहरी प्रमुख समग्र स्नातक डिग्री है जिसके तहत बी.ए.- बी.एड.,बी.एस.सी. -बी.एड. और बी.कॉम.- बी.एड. पाठ्यक्रम पेश किया गया है।

वर्ष 2030 से शिक्षकों की भर्ती केवल आईटीईपी के माध्यम से होगी

यह पाठ्यक्रम राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के अंतर्गत अध्यापक शिक्षा से संबंधित प्रमुख प्रावधानों में से एक है। एनईपी 2020 के अनुसार, वर्ष 2030 से शिक्षकों की भर्ती केवल आईटीईपी के माध्यम से होगी। इसे शुरू में देश भर के लगभग 50 चयनित बहु-विषयक संस्थानों में पायलट मोड में शुरू किया जाएगा।

विशेषीकृत विषयों में डिग्री प्राप्त करने में सक्षम बनायेगा

शिक्षा मंत्रालय के तहत राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद – एनसीटीई ने इस पाठ्यक्रम को इस तरह से तैयार किया है कि यह शिक्षा में डिग्री के साथ-साथ इतिहास, गणित, विज्ञान, कला, अर्थशास्त्र, या वाणिज्य जैसे विशेषीकृत विषयों में डिग्री प्राप्त करने में सक्षम बनायेगा।आईटीईपी न केवल अत्याधुनिक अध्यापन कला प्रदान करेगा, बल्कि प्रारंभिक बाल देखभाल और शिक्षा -ईसीसीई, मूलभूत साक्षरता और संख्या ज्ञान -एफएलएन, समावेशी शिक्षा, और भारत तथा इसके मूल्यों,लोकाचार,कलाओं, परंपराओं व अन्य चीजों की समझ विकसित करने में आधार तैयार करने का काम करेगा।

एक साल की बचत होगी

इस एकीकृत पाठ्यक्रम से छात्रों को काफी लाभ होगा क्योंकि वे वर्तमान बी.एड पाठ्यक्रम के लिए आवश्यक पांच साल के बजाय चार साल में ही इसे पूरा कर लेंगे, जिससे उनके एक साल की बचत होगी। चार वर्षीय आईटीईपी की शुरुआत शैक्षणिक सत्र 2022-23 से होगी। राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी – एनटीए द्वारा राष्ट्रीय सामान्य प्रवेश परीक्षा – एनसीईटी के जरिए इस पाठ्यक्रम में प्रवेश दिया जाएगा। यह पाठ्यक्रम बहु-विषयक संस्थानों द्वारा प्रस्तुत किया जाएगा और यह स्कूली शिक्षकों के लिए न्यूनतम डिग्री योग्यता बन जाएगा।

21वीं सदी की जरूरतों के अनुसार दी जाएगी शिक्षा

मंत्रालय का कहना है कि चार वर्षीय आईटीईपी राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के प्रमुख उद्देश्यों में से एक को पूरा करने में एक मील का पत्थर साबित होगा। यह पाठ्यक्रम पूरे अध्यापक शिक्षा क्षेत्र के पुनरोद्धार में महत्वपूर्ण योगदान देगा। भारतीय मूल्यों और परंपराओं के आधार पर तैयार बहु-विषयक वातावरण के माध्यम से इस पाठ्यक्रम में पढ़ने वाले भावी शिक्षकों को वैश्विक मानकों पर 21वीं सदी की जरूरतों के अनुसार शिक्षा दी जाएगी।
ये भी पढ़ें :सामने आया Hyundai Creta 2022 का नया अवतार, जबर्दस्त है SUV का फ्रंट लुक

Related posts

Rupa Tirkey Case: CBI जांच की मांग को लेकर दाखिल रिट याचिका पर हाई कोर्ट में सुनवाई   

Manoj Singh

Lakhimpur-Khiri Part-3: सिरफिरे ने दुर्गापूजा विसर्जन भीड़ में घुसायी कार, 1 की मौत, 6 घायल

Pramod Kumar

Tokyo Olympics : भारत का एक और पदक पक्का, मुक्केबाज Lovlina इतिहास रचने के करीब

Sumeet Roy

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.