समाचार प्लस
अंतरराष्ट्रीय टोक्यो ओलंपिक(Tokyo Olympic) देश

Indian Olympians का पहला जत्था टोक्यो पहुंचा, खेलों के इतिहास में अबतक का सबसे बड़ा Indian Squad

टोक्यो में 23 जुलाई से शुरू होने वाले खेलों के महाकुंभ में भाग लेने के लिए भारतीय दल का 88 सदस्यीय पहला जत्था रविवार की सुबह यहां पहुंच गया। कोविड-19 महामारी के बीच आयोजित किए जा रहे खेलों के लिए भारत के आठ खेलों तीरंदाजी, बैडमिंटन, टेबल टेनिस, हॉकी, जूडो, जिम्नास्टिक, तैराकी और भारोत्तोलन के खिलाड़ी, सहयोगी स्टाफ और अधिकारी नई दिल्ली से विशेष विमान से जापान की राजधानी पहुंचे।

पहला जत्था 88 सदस्यों का है, जिनमें 54 खिलाड़ियों के अलावा सहयोगी स्टाफ और भारतीय ओलिंपिक संघ (आईओए) के प्रतिनिधि भी शामिल हैं। भारतीय खिलाड़ियों का हवाई अड्डे पर कुरोबे शहर के प्रतिनिधियों ने स्वागत किया, उनके हाथों में बैनर थे जिन पर लिखा था, ‘कुरोबे भारतीय खिलाड़ियों का समर्थन करता है।

किसी एक खेल में भारत का सबसे बड़ा दल

हॉकी में पुरुष और महिला हॉकी टीमें शामिल हैं। यह किसी एक खेल में भारत का सबसे बड़ा दल है। इससे पहले शनिवार की रात को खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने नई दिल्ली में इंदिरा गांधी हवाई अड्डे पर हर्ष ध्वनि, तालियों की गड़गड़ाहट और शुभकामना संदेशों के साथ भारतीय दल को औपचारिक विदाई दी।अनुराग ठाकुर के अलावा विदाई समारोह में खेल राज्यमंत्री निसिथ प्रमाणिक, भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) के महानिदेशक संदीप प्रधान, आईओए के अध्यक्ष नरिंदर बत्रा और महासचिव राजीव मेहता ने भी हिस्सा लिया।

पहले ही तोक्यो पहुंच चुके थे कुछ खिलाड़ी

भारत के कुछ खिलाड़ी विदेशों में अपने अभ्यास स्थलों से पहले ही तोक्यो पहुंच चुके थे। भारत की एकमात्र भारोत्तोलक मीराबाई चानू अमेरिका के सेंट लुई में अपने अभ्यास स्थल से शुक्रवार को तोक्यो पहुंची। मुक्केबाज और निशानेबाज इटली और क्रोएशिया में अपने अभ्यास स्थलों से यहां पहुंचे हैं। भारत का 228 सदस्यीय दल ओलंपिक में भाग लेगा जिसमें 119 खिलाड़ी शामिल हैं।

 

 

यह भी पढ़ें : T20 विश्व कप में ‘बाबर सेना’ से फिर भिड़ेगी ‘विराट सेना’, फैन्स बोले ‘मौका मौका’

Related posts

Jhanvi Kapoor की stylish dress में ऐसी जगह दिखा कट, लोगों की टिक गई नजर

Manoj Singh

पुण्य-तिथि: दलगत राजनीति में कभी नहीं बंधे, फिर भी राजनीति में रहे ‘अटल’

Sumeet Roy

Jharkhand: ‘कालेधन’ की ‘पूजा’ का मिलेगा कौन-सा ‘फल’, अपने ही बयान में क्यों उलझ गयी हेमंत सरकार?  

Pramod Kumar