समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर बिहार

Falgu Rubber Dam: श्रापमुक्त हुई फल्गु नदी! अब नहीं रहेगी कभी सूखी, ‘गयाजी’ में देश के सबसे बड़े रबर डैम का सीएम नीतीश ने किया उद्घाटन

image source : social media

Falgu Rubber Dam: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार गुरुवार को गयाजी में फल्गु नदी पर बने देश के सबसे बड़े रबर डैम और स्टील ब्रिज का उद्घाटन किया। इसके साथ ही साथ ही पितृपक्ष मेला महासंगम 2022 का भी उद्घाटन किया गया। इस कार्यक्रम में उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव भी मौजूद रहे।

image source : social media
image source : social media

विष्णुपद मंदिर से सटा है डैम

312 करोड़ रुपए की लागत से इस डैम का निर्माण किया गया है। अब फल्गु नदी में सालोंभर पानी रहेगा। देशभर से जो लोग अपने पूर्वजों का पिंडदान करने आते हैं, उन्हें अब परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ेगा।यह डैम विष्णुपद मंदिर से सटा है, इस रबर डैम की लंबाई कुल 411 मीटर है और चौड़ाई 95.5 मीटर है।

फल्गु नदी को दिया था सीता जी ने श्राप, ऐसी है मान्यता 

मान्यता है कि सीता माता ने ही राजा दशरथ का पिंडदान किया था। इस बात के केवल 5 ही साक्ष्य थे. अक्षय वट, ब्राह्मण, फल्गु नदी, गाय और तुलसी, जब मां सीता ने श्री राम को बताया तो उन्होंने इस पर विश्वास नहीं किया, तब उन्हें गुस्से में देखते हुए ब्राह्मण, फल्गु नदी, गाय और तुलसी ने झूठ बोलते हुए ऐसी किसी भी बात से इंकार कर दिया,  तब सीता जी ने उनको क्रोधित होकर श्राप दे दिया कि फल्गु नदी- जा तू सिर्फ नाम की नदी रहेगी, तुझमें पानी नहीं रहेगा। इस कारण फल्गु नदी आज भी गया में सूखी रहती है।

नदी में सालोंभर पानी रहेगा

रबर बांध, गंगा जल लिफ्ट परियोजना के अलावा सीएम की दो महत्वाकांक्षी परियोजनाओं में से एक है, जिससे यह संभव हो गया है कि साल भर फल्गु नदी में कम से कम दो फीट पानी रहेगा।  इससे पर्यावरण पर कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ेगा। रबर डैम के बने जाने से अब विष्णुपद मंदिर के समीप फल्गु नदी में सालों पर पानी रहेगा। इससे तीर्थयात्रियों व श्रद्धालुओं को काफी सहूलियत होगी। बिहार में पहली बार परंपरागत कंक्रीट डैम के स्थान पर आधुनिक तकनीक पर आधारित रबर डैम का निर्माण कराया गया है। जिसका पर्यावरण पर भी कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ेगा।

बुलेटप्रूफ है रबर डैम

फल्गु नदी के नीचे करीब एक हजार मीटर की लंबाई में रबर शीट लगाई गई है।  डैम एक बलून की तरह है। इसके रबर ट्यूब में हवा भरने और निकालने के लिए स्वचालित व्‍यवस्‍था है। पानी अधिक होने पर बैलून की हवा निकाली जा सकेगी। यानी  इससे जरूरत के अनुसार पानी रोका और छोड़ा जा सकेगा। जानकारी के अनुसार आस्ट्र‍िया की कंपनी और हैदराबाद की एजेंसी ने मिलकर इसे तैयार किया है। रबर डैम 17 एमएम मोटी रबर से बना है। यह बुलेटप्रूफ है। साथ ही दावा है कि यह एक सौ साल तक खराब नहीं होगा।

image source : social media
image source : social media

आईआईटी रुड़की के विशेषज्ञों से ली गई सलाह 

योजना की पूरी रूपरेखा आईआईटी रुड़की के विशेषज्ञों द्वारा स्थल निरीक्षण के बाद दी गई सलाह को ध्यान में रखते हुए तैयार की गई थी। इस योजना के तहत फल्गु नदी के बाएं तट पर 411 मीटर लंबा, 95.5 मीटर चौड़ा और 03 मीटर ऊंचा रबर डैम का निर्माण कराया गया है।

ये भी पढ़ें : Bihar: पीएफआई के खतरनाक मंसूबों के खिलाफ NIA की बड़ी कार्रवाई, 32 ठिकानों पर दबिश, 2047 तक इस्लामिक स्टेट की ख्वाहिश

 

Related posts

Bihar: पटना पुलिस ने किया हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेट का खुलासा, रातभर चली छापेमारी

Pramod Kumar

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में दीपिका पांडेय ने ली हार की जिम्मेदारी, अपने पद से दिया इस्तीफा

Sumeet Roy

Asia Cup T20:  18वें ओवर ने लिख दी भारत की हार की कहानी, मिडिल ऑर्डर का नहीं चलना पड़ा भारी

Pramod Kumar