समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Election 2022:  यूपी की जंग जीतने के बाद भाजपा के हाथ आयेगी ‘माया’, बसपा प्रमुख के लिए भाजपा का क्या है प्लान?

Election 2022: BJP's plan for BSP chief after winning the battle of UP

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

एग्जिट पोल ने भाजपा को उत्तर प्रदेश में आश्वस्त कर दिया है कि उसकी सरकार एक बार फिर बनने जा रही है। गुरुवार को यह साफ भी हो जायेगा कि एग्जिट पोल ने भाजपा का कितना साथ दिया है। उत्तर प्रदेश में परिणाम चाहे जो भी हो आने वाले दिनों में यहां एक समीकरण और बन सकता है। वह है भाजपा का बसपा की ओर झुकाव। चुनाव परिणाम के बाद सम्भावना यह भी बन सकती है कि बसपा एनडीए सरकार का हिस्सा भी बन जाये। ऐसा करने के दूरगामी कारण हैं।

भाजपा उत्तर प्रदेश में जीतती है तो अपने विजयी मिशन को आगे भी बढ़ाना चाहेगी। आगे का मतलब लोकसभा चुनाव। लोकसभा चुनाव में अब दो साल ही बचे हैं। अगले 2 वर्ष बाद इस समय तक लोकसभा का माहौल पूरा गर्म रहेगा। भाजपा 2024 में बसपा को इसलिए अपने साथ लेना चाहिए ताकि जातीय समीकरण को साधा जा सके। अभी समाप्त हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा ने मायावती को मुकाबले बेबी रानी मौर्य को खड़ा किया था। मायावती और बेबी रानी मौर्य एक ही वर्ग से आती हैं। कल के चुनाव परिणाम के बाद यह तय हो जायेगा  भाजपा का यह दांव कितना सही साबित हुआ है या इस दिशा में कोई चाल चलनी पड़ेगी।

भाजपा अगर मायावती को साथ लाती है तो दलितों का एक बड़ा वोट भाजपा की तरह आ सकता है। चूंकि चार बार मुख्यमंत्री रह चुकी मायावती उत्तर प्रदेश में दलितों की सबसे बड़ी नेता मानी जाती हैं। 2014 के आम चुनाव से बीएसपी के प्रदर्शन में भले काफी गिरावट आयी है, फिर भी पार्टी का वोट प्रतिशत बीस फीसदी के करीब रहा है।

मायावती को साधने के लिए क्या करेगी भाजपा?

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों के दौरान मायावती ने कई बार ऐसे बयान दिये हैं कि समाजवादी पार्टी को रोकने के लिए वह भाजपा के साथ भी जा सकती हैं। मायावती का यह बयान भाजपा का बहुत काम आसान कर सकता है। सम्भावना यह बन सकती है कि भाजपा मायावती को उत्तर प्रदेश की राजनीति से हटा कर केन्द्र की राजनीति में ले आये। मायावती को किसी प्रदेश का राज्यपाल भी बनाया जा सकता है, हालांकि मायावती को इस पर आपत्ति हो सकती है। एक सम्भावना यह है कि भाजपा मायावती को राज्यसभा में भेज दे। भले ही यह अभी अटकल है, लेकिन अगर सम्भव हो जाये तो आश्चर्य नहीं होगा।

यह भी पढ़ें: Assembly Election 2022: होली से पहले ही उड़ चुके हैं कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के रंग

Related posts

आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़: देश को दहलाने के मूल में साधारण दिखने वाला मूलचंद, परिवार भी हैरान

Pramod Kumar

Simdega: बिजली विभाग की लापरवाही की भेंट चढ़ा गजराज, करंट लगने से मौत

Pramod Kumar

Palamau: भाजपा युवा मोर्चा के जिला कोषाध्यक्ष सुमित श्रीवास्तव की अज्ञात हत्यारों ने की हत्या

Pramod Kumar