समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Dr. APJ Abdul Kalam: देश पुण्यतिथि पर कर रहा अपने ‘Missile Man’ को नमन, हज़ारों युवाओं के दिल में आज भी धड़कते हैं डॉ. कलाम

Dr. APJ Abdul Kalam

Dr. APJ Abdul Kalam: आज कृतज्ञ देश देश के 11वें राष्ट्रपति Dr. APJ Abdul Kalam  को उनकी पुण्यतिथि पर नमन कर रहा है। मिसाइल मैन के नाम विख्यात अब्दुल कलाम हर भारतीय के लिए प्रेरणास्रोत एवं युवाओं के आदर्श हैं। डा. कलाम का जीवन ही हर भारतीय के लिए एक आदर्श है। डॉ. कलाम एक मध्यम वर्गीय परिवार से निकल कर अपनी लगन एवं मेहनत के दम पर भारत के 11वें राष्ट्रपति बने।

डॉ. कलाम को बचपन में अपने माता-पिता से जो संस्कार मिले, वह जीवन भर उनके साथ रहे। पिता से ईमानदारी और अनुशासन की सीख मिली, तो माता ने उन्हें ईश्वर में विश्वास और करुणा का पाठ पढ़ाया। उनके इन्हीं गुणों का गहरा प्रभाव देश के युवाओं पर पड़ा है। डॉ कलाम को लोगों को एक ही पैगाम देते थे, वह है मोहब्बत का पैगाम।

डॉ. अब्दुल कलाम का जन्म 15 अक्टूबर, 1931 ई. को तमिलनाडु के रामेश्वरम में हुआ था। इनका पूरा नाम डॉ. अबुल पकीर जैनुलाबदीन अब्दुल कलाम कलाम ने 1950 में तिरुचिरापल्ली के सेंट जोसेफ कॉलेज से बी.एससी. की परीक्षा उत्तीर्ण की। उन्होंने मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलोजी से एरोनोटिकल इंजीनियरिंग की उपाधि प्राप्त की।

‘मिसाइल मैन’ के नाम से प्रसिद्ध हैं कलाम

1958 ई. में कलाम डी.टी.डी. एंड पी. में तकनीकी केंद्र में वरिष्ठ वैज्ञानिक सहायक के पद पर नियुक्त हुए। 1963 से 1982 ई. तक कलाम ने अन्तरिक्ष अनुसंधान समिति में विभिन्न पदों पर काम किया। डॉ. कलाम ने 1963 में नासा का दौरा किया था और उसके बाद उन्होंने पोलर सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल (PSLV) और SLV-3 प्रोजेक्ट को सफलतापूर्वक पूरा किया। कलाम ‘मिसाइल मैन’ के नाम से प्रसिद्ध हुए।

APJ Abdul Kalam के लिए हर सम्मान छोटी उपलब्धि

सन 1981 के गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर डा. कलाम को ‘पद्म भूषण’ से सम्मानित किया गया था। भारत सरकार द्वारा 1990 ई० में इन्हें ‘पद्म विभूषण’ और 1997 ई० में भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया। 25 जुलाई, 2002 को डॉ. कलाम भारत के 11वें राष्ट्रपति बने थे।

हृदयाघात से डॉ. कलाम का निधन

27 जुलाई, 2015 की वह मनहूस शाम, मेघालय की राजधानी शिलांग में डॉ. कलाम भारतीय प्रबन्ध संस्थान में एक लैक्चर दे रहे थे कि वह अचानक बेहोश हो गए। उन्हें हृदयाघात ने अपनी चपेट में ले लिया था। इस हृदयाघात से डॉ. कलाम का देहान्त हो गया। पूर्व राष्‍ट्रपति डॉ. कलाम का अन्तिम संस्‍कार पूरे सैन्‍य सम्‍मान के साथ 30 जुलाई, 2015 को तमिलनाडु के रामेश्‍वरम नगर में किया गया।

गंभीर चिंतक थे डॉ. कलाम

डॉ. अब्दुल कलाम एक महान वैज्ञानिक होने के साथ-साथ गंभीर चिंतक और अच्छे इंसान भी थे। बाल-शिक्षा में विशेष रुचि रखने वाले कलाम को वीणा बजाने का भी शौक था। राजनीति से दूर रहकर भी कलाम राजनीति के सर्वोच्च शिखर पर विराजमान रहे। हज़ारों युवाओं के दिल में आज भी धड़कते है डॉ. कलाम।

सभी धर्मों से बड़ा मानवता का धर्म

वैसे तो डॉ. कलाम का मुस्लिम परिवार से थे, लेकिन वह दिल से सेक्यूलर थे और उनका मानना था कि सभी धर्मों से बड़ा मानवता का धर्म है।

डॉ. अब्दुल कलाम के प्रेरणा देने वाले अनमोल वचन

➤ अगर तुम सूरज की तरह चमकना चाहते हो तो पहले सूरज की तरह जलो।

➤ सपने वो नहीं है जो आप नींद में देखे, सपने वो है जो आपको नींद ही नहीं आने दें।

➤ आइये, हम अपने आज का बलिदान कर दें ताकि हमारे बच्चों का कल बेहतर हो सके।

➤ इंसान को कठिनाइयों की आवश्यकता होती है, क्योंकि सफलता का आनंद उठाने के लिए ये ज़रूरी हैं।

➤ छोटा लक्ष्य जुर्म हैं, लक्ष्य महान होना चाहिए।

➤ इंतजार करने वाले को उतना ही मिलता है, जितना कि कोशिश करने वाले छोड़ देते हैं।

➤ देश का सबसे अच्छा दिमाग क्लास-रूम के आखिरी बेंचों पर मिल सकता है।

➤ जिस दिन हमारे सिग्नेचर, ऑटोग्राफ में बदल जायें उस दिन मान लीजिए कि आप कामयाब हो गए हैं।

➤ अगर हमें अपनी सफलता के रास्ते पर निराशा हाथ लगती है इसका मतलब यह नहीं है कि हम कोशिश करना छोड़ दें, क्योंकि हर निराशा और असफलता के पीछे ही सफलता छिपी होती है।

➤ जो अपने दिल से काम नहीं कर सकते वे हासिल करते हैं, लेकिन बस खोखली चीजें, अधूरे मन से मिली सफलता अपने आस-पास कड़वाहट पैदा करती हैं।

➤ जब तक भारत दुनिया के सामने खड़ा नहीं होता, कोई हमारी इज्जत नहीं करेगा। इस दुनिया में, डर की कोई जगह नहीं है. केवल ताकत ताकत का सम्मान करती हैं।

इसे भी पढ़े : Mirabai Chanu की अनसुनी कहानियां : उस दिन अमेरिकी राष्ट्रपति ने खा लिया चानू  का जूठा चावल – Part 2

Related posts

तेजस्वी का सीएम पर तीखा हमला, ‘नीतीश सहयोगी हैं या पीएम मोदी के गुलाम?’

Manoj Singh

‘रक्षा बंधन’ ऐसा भी: भैया मेरे राजनीति के बंधन को निभाना, भैया मेरे इस गठबंधन को न भूल जाना

Pramod Kumar

Russia Ukraine War: रूस को लगा बड़ा झटका, Google और Apple समेत इन कंपनियों ने Russia में रोका काम और बंद की सर्विस

Sumeet Roy