समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

उत्तेजक कपड़े पहने महिला को दिव्यांग ने खींच लिया गोद में, केरल कोर्ट ने नहीं माना यौन उत्पीड़न

Divyang dragged a woman wearing provocative clothes in her lap, the court did not accept sexual harassment

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

74 साल के शारीरिक रूप से अक्षम शख्स ने जबर्दस्ती महिला को अपनी गोद में खींच कर उसके ब्रेस्ट को दबा दिया, फिर भी केरल कोर्ट ने इसे यौन उत्पीड़न का केस नहीं मानते हुए आरोपी को जमानत दे दी। मामला करीब ढाई साल पुराना है। केरल की इस अदालत ने आरोपी को इस आधार पर अग्रिम जमानत दे दी है कि शिकायतकर्ता ने घटना के वक्त उत्तेजक कपड़े पहन रखे थे। महिला ने जिस उम्रदराज और दिव्यांग व्यक्ति के खिलाफ यौन उत्पीड़न का केस दर्ज किया था वह एक लेखक और सोशल ऐक्टिविस्ट है। मामला करीब ढाई साल पुराना होने और एफआईआर देर से दर्ज कराने के कारण आरोपी को अदालत ने अग्रिम जमानत दे दी।

केरल की इस अदालत ने यह भी कहा है कि यदि महिला ने उत्तेजक कपड़े पहन रखे थे तो प्राथमिक तौर पर यौन उत्पीड़न का मामला नहीं टिकेगा। कोझिकोड सेशन कोर्ट ने इसके साथ ही आरोपी सिविक चंद्रण की यौन उत्पीड़न के इस मामले में अग्रिम जमानत मंजूर कर ली। अदालत ने जमानत पर हरी झंडी लगाते हुए कहा है कि अगर महिला ने उत्तेजक कपड़े पहन रखे थे तो प्राथमिक तौर पर आईपीसी की धारी 354ए के तहत अपराध नहीं बनता।

दिलचस्प बात यह है कि अदालत को इस आरोप पर भी विश्वास नहीं हुआ कि 74 साल के शारीरिक तौर पर अक्षम आरोपी ने कैसे जबर्दस्ती शिकायतकर्ता को अपनी गोद में ले लिया और उसके ब्रेस्ट को दबा दिया। आरोपी ने अपनी जमानत की अर्जी के साथ महिला की उत्तेजक तस्वीरें भी अटैच कर दी थीं जिन्हें देखने के बाद अदालत को अपना फैसला लेने में और भी आसानी हो गयी।

यह भी पढ़ें: कल से फिर बदलेगा झारखंड का मौसम, कई जिलों में भारी बारिश के साथ होगा वज्रपात

Related posts

भारतीय डाक विभाग: ‘कबूतर’ अब बन चुका है ‘बाज’, सेवाओं में जोड़ रहा नित नये आयाम

Pramod Kumar

Jharkhand: मनरेगा अंतर्गत नवनियुक्त लोकपालों की 5 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला शुरू

Pramod Kumar

Indian Olympians का पहला जत्था टोक्यो पहुंचा, खेलों के इतिहास में अबतक का सबसे बड़ा Indian Squad

Manoj Singh