समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

डिस्ट्रिक मिनरल फाउंडेशन ट्रस्ट राज्य को विकास के पथ पर आगे बढ़ाने में मददगार – खान सचिव

District Mineral Foundation Trust is helpful in taking the state forward on the path of development

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

डिस्ट्रिक मिनरल फाउंडेशन ट्रस्ट (डीएमएफटी)  राज्य को विकास के पथ पर आगे बढ़ाने में मददगार है। माइनिंग क्षेत्र में खनन के कारण होने वाले दुष्प्रभाव की भरपाई के लिए डीएमएफटी लाया गया है। इस फ़ंड के माध्यम से उस क्षेत्र का विकास किया जाता है। ज़रूरत है अधिकारियों द्वारा इस फ़ंड के माध्यम से सही योजनाओं के चयन की। उक्त बातें शनिवार को खान सचिव अबुबकर सिद्दिकी, ने होटल लीलैक में आयोजित कार्यशाला में कही।

डीएमएफटी की गाइड्लाइन का गंभीरता से अध्ययन करें अधिकारी

खान सचिव अबुबकर सिद्दिकी ने कार्यशाला में उपस्थित जिलों से आए डीडीसी व डीएमओ को संबोधित करते हुए कहा कि झारखंड के परिप्रेक्ष्य में डीएमएफटी बहुत महत्वपूर्ण है। वहीं झारखंड के लिए एक मौक़ा है, क्योंकि यहाँ धनबाद, बोकारो,चाईबासा,रामगढ़ आदि कई खनन क्षेत्र हैं, जहां डीएमएफटी के फ़ंड से कई विकास योजनाएं ली  जा सकती हैं। उन्होंने कहा कि योजनाएं लेने से पूर्व हमें इसकी गाइड्लाइन का गंभीरता से अध्ययन कर लेना ज़रूरी है, ताकि सही योजनाओं से लोगों को अधिक से अधिक लाभ मिले।

उपायुक्त और उपविकस आयुक्त डीएमएफटी का उपयोग समस्याओं को हल करने में करें

खान सचिव अबुबकर सिद्दीक़ी ने कहा कि डीएमएफ से सम्बंधित जिलों को प्राथमिकता देते हुए उस क्षेत्र में शुद्ध पेयजल, स्वास्थ्य, शिक्षा  एवं अन्य विकास योजनाओं को प्राथमिकता के साथ लें। उन्होंने निर्देश दिया कि डीएमएफटी फ़ंड को खनन क्षेत्र की विकास  योजनाओं में ख़र्च करने का रोडमैप तैयार करें।

ग्राम सभा से स्वीकृत करा कर योजनाओं को धरातल पर उतारें

खान सचिव अबुबकर सिद्दीक़ी ने कहा कि सरकार ने ग्राम सभा को ससक्त किया है। योजनाओं का चयन करने की शक्ति प्रदान की है। उन्होंने कहा कि गाँव में किस तरह की योजनाओं  से लोगों को अधिक से अधिक लाभ होगा, यह उन्हें ही तय करने का अधिकार दिया गया है, इसलिए योजनाओं को ग्राम सभा से स्वीकृत करा कर ही धरातल पर उतारें। उन्होंने अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा  कि जनप्रतिनिधि द्वारा भी अनुशंसा की गयीं योजनाओं को ग्राम सभा की स्वीकृति के बाद ही डीएमएफटी फ़ंड से ख़र्च करें।

इस कार्यशाला से गाइडलाइन को समझने में मिलेगी मदद

खान निदेशक अमित कुमार ने कहा कि भारत सरकार द्वारा डीएमएफटी के संदर्भ में जारी गाइड्लाइन को समझने में कोई गैप रह गया है, तो इस तरह की कार्यशाला से मदद मिलेगी। साथ ही खान मंत्रालय,भारत सरकार द्वारा 2015 पीएमकेकेकेवाई गाइड्लाइन में संशोधन करना है, जिसमें राज्यों से सुझावों की अपेक्षा की गयी है। इस कार्यशाला  के माध्यम से इस दिशा में मदद मिलेगी।

उन्होंने कहा कि अधिकारी इस कार्यशाला से लाभ लेकर अपने अपने क्षेत्र में डीएमएफटी फ़ंड का उपयोग वैसी योजनाओं के लिए करें, जिससे लोगों की अधिक से अधिक समस्याएँ दूर हों। उन्होंने कहा कि अगले पांच साल के लिए डीएमएफटी के तहत ली जाने वाली योजनाओं का रोडमैप तैयार करें।

प्रेज़ेंटेशन के माध्यम से डीएमएफटी की कार्यप्रणाली की जानकारी दी गयी

सुश्री श्रेष्ठा बनर्जी , निदेशक , इंडिया जस्ट ट्रैंज़िशन सेंटर ने  प्रेज़ेंटेशन के माध्यम से डीएमएफटी की कार्यप्रणाली की जानकारी दी। उन्होंने झारखंड के संदर्भ में डीएमएफ जिलों में ली जानी वाली योजनाओं की जानकारी दी साथ ही उस क्षेत्र में डीएमएफटी फ़ंड के तहत विकास कार्यों का रोड्मैप बताया।

सुश्री ज्योति सिंह ,झारखंड कोऑर्डिनेटर फ़ॉर प्रोग्राम मैनजमेंट ऑफ़ डीएमएफ/पीएमकेकेकेवाई ने झारखंड के  डीएमएफ जिलों में डीएमएफटी फ़ंड के माध्यम से किये जानेवाले  कार्यों की अद्यतन जानकारी दी।

कार्यशाला में खान आयुक्त जितेंद्र कुमार सिंह, खान विभाग के संयुक्त सचिव शेखर ज़मुआर, झारखंड के विभिन्न जिलों से आए उपविकास आयुक्त, जिला खनन पदाधिकारी सहित सम्बंधित विभाग के पदाधिकारी उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें: T-20: एशिया कप की शुरुआत आज, कल भारत और पाकिस्तान महामुकाबला

Related posts

UPSC CSE Prelims 2022: UPSC सिविल सर्विस प्रारंभिक परीक्षा 5 जून को, ऐसे भरें OMR Sheet

Manoj Singh

बिहार : 5 लाख की योजना गटक गए मुखिया जी, अब शराब और पैसों का प्रलोभन देकर मांग रहे वोट, आक्रोशित ग्रामीणों ने खदेड़ा

Manoj Singh

Mask Mandate Returns: राजधानी में लौटी कोरोना काल की पाबंदियां, मास्क नहीं लगाने पर 500 रुपये का जुर्माना

Manoj Singh