समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

DG Jail Murder: जम्मू-कश्मीर के DG जेल की गला रेतकर हत्या, पुलिस को घरेलू सहायक पर शक

image source : social media

DG Jail Murder: जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) के पुलिस महानिदेशक (जेल) हेमंत लोहिया (Hemant Lohia) की  उनके निवास पर हत्या कर दी गई। हत्यारे ने न सिर्फ डीजीपी का गला रेता बल्कि कांच की टूटी बोतल से पेट और बाजू पर कई वार किए। मौके पर डीजीपी के लहूलुहान शव से पेट की आंतें भी बाहर निकली हुई मिलीं। हत्यारा यहीं नहीं रुका, उसने शरीर पर केरोसिन छिड़क कर जलाने की भी कोशिश की। डीजीपी के सिर पर तकिया और कपड़े डालकर ऊपर से आग लगा दी थी।

image source : social media
image source : social media

मौके पर पहुंचे पुलिस अधिकारी 

शहर के उदयवाला में डीजीपी जेल हेमंत कुमार लोहिया की हत्या किए जाने से क्षेत्र में अफरा तफरी का माहौल व्याप्त हो गया।  हत्या को लेकर पुलिस के अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए और मामले में जांच शुरू कर दी।

शव को आग लगाने की कोशिश की

पुलिस प्रमुख के मुताबिक घटनास्थल की प्रारंभिक जांच से संकेत मिलता है कि लोहिया ने अपने पैर में कुछ तेल लगाया होगा, जिसमें कुछ सूजन दिखाई दे रही थी. उन्होंने कहा कि हत्यारे ने पहले लोहिया को गला घोंटकर मौत के घाट उतारा और फिर उनके गले को काटने के लिए केचप की टूटी हुई बोतल का इस्तेमाल किया था तथा बाद में शव को आग लगाने की कोशिश की।

राजोरी में गृह मंत्री अमित शाह की रैली होनी है

इन दिनों गृह मंत्री अमित शाह प्रदेश के दौरे पर हैं और मंगलवार को उनकी राजोरी में रैली होनी है। ऐसे में पूरे प्रदेश को अलर्ट पर है। फिर भी इस तरह की वारदात को अंजाम दिया गया है।

एडीजीपी को मैसेज भेजकर किया सूचित

घटना के बाद डीजीपी के दोस्त संजीव खजूरिया ने बताया कि विचलित कर देने वाली वारदात के बारे में सूचना देने के लिए उन्होंने सबसे पहले एडीजीपी मुकेश सिंह को फोन किया। कॉल कट हो गई तो एडीजीपी ने मैसेज भेजकर व्यस्त होने की बात कही। इसके बाद संजीव खजूरिया ने मैसेज भेजकर घटना की सूचना दी। जिसके बाद एडीजीपी ने फोन कर पूरी जानकारी ली और पीसीआर से टीम मौके पर भेजी। देर रात एडीजीपी मुकेश सिंह, एडीजीपी आलोक कुमार, डीआईजी विवेक गुप्ता समेत अन्य आला अफसर भी मौके पर पहुंच गए।

लोहिया के साथ श्रीनगर से आया था यासिर

सूत्रों का कहना है कि जिस नौकर यासिर ने लोहिया की हत्या की है, वह कुछ दिन पहले ही श्रीनगर से जम्मू लौटा था। क्योंकि दरबार मूव के साथ लोहिया भी श्रीनगर चले गए थे। यहां यासिर उनके साथ हेल्पर के तौर पर काम करता था। कुछ दिन पहले जब लोहिया जम्मू आए तो यासिर भी उनके साथ जम्मू वापस आ गया।

ये भी पढ़ें : सही व्यक्ति को सही सम्मान! पंकज त्रिपाठी को चुनाव आयोग ने बनाया नेशनल आइकन

 

Related posts

Jharkhand में मई-जून में तपाने के साथ राहत भी देगा मौसम, मध्य जून में सुनाई देगी मानसून की दस्तक

Pramod Kumar

SSB Recruitment 2021: हेड कॉन्स्टेबल के 115 पदों पर निकली वैकेंसी, 12वीं पास करें अप्लाई

Manoj Singh

UP MLC Election: भाजपा के जलवे से सपा का सूपड़ा साफ, एक भी सीट नहीं जीती अखिलेश की पार्टी

Pramod Kumar