समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राँची

Jharkhand: निकाय चुनाव से पहले Triple Test की मांग, राष्ट्रीय ओबीसी मोर्चा का गुरुवार को राजभवन के समक्ष धरना

image source : social media

Jharkhand OBC Reservation: ओबीसी वर्ग का राजनीतिक आरक्षण (OBC Reservation) पुनर्स्थापित करने के लिए सरकार राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग को सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के तहत ट्रिपल टेस्ट कर ओबीसी का इम्पीरीकल डाटा रिपोर्ट (empirical data report) बनाने के निर्णय को सरकार द्वारा कैबिनेट में लाने की मांग को लेकर राष्ट्रीय ओबीसी मोर्चा ने राज्य स्तरीय एक दिवसीय महाधरना करने का निर्णय लिया है.

‘बगैर ओबीसी आरक्षण के ही पंचायत चुनाव करा लिए गए’

यह धरना हूल दिवस पर 30 जून को राजभवन के समक्ष दिया जाएगा। उपरोक्त बातें राष्ट्रीय ओबीसी मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष राजेश कुमार गुप्ता ने प्रदेश कार्यालय हरमू में प्रेस वार्ता में कहीं। श्री गुप्ता ने कहा कि मध्य प्रदेश सरकार हो या गठबंधन की महाराष्ट्र सरकार, इन सरकारों ने ओबीसी के लिए पंचायत चुनाव में आरक्षण को पुनर्स्थापित करने को लेकर राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग को सर्वोच्च न्यायालय के दिशा निर्देश पर ट्रिपल टेस्ट के लिए ओबीसी की इम्पीरीकल डाटा रिपोर्ट बनाने की प्रक्रिया शुरू की है, लेकिन झारखंड प्रदेश की सरकार ने ओबीसी के राजनीतिक अधिकार के लिए किसी भी तरह का कदम नहीं उठाया है. बगैर ओबीसी आरक्षण के ही पंचायत चुनाव करा लिए गए और अब नगर पंचायत, नगर परिषद, नगर निगम के चुनाव की प्रक्रिया शुरू होने वाली है, फिर भी अभी तक इस दिशा में कोई कदम नहीं उठाया गया है.

छात्र, नौजवान और बुद्धिजीवी होंगे शामिल

धरना में राज्य सरकार द्वारा ओबीसी का आरक्षण बढ़ाने का वादा पूरा करने और देश में जातीय जनगणना कराने की भी मांग की जाएगी. इस धरना में राज्य के सभी जिलों से ओबीसी पदाधिकारी, छात्र, नौजवान और बुद्धिजीवी शामिल होंगे।

ये रहे उपस्थित

प्रेस वार्ता में विद्याधर प्रसाद प्रदेश उपाध्यक्ष, एसएन सिंह कुशवाहा प्रदेश महासचिव, प्रभात शर्मा चंद्रवंशी महासभा के राष्ट्रीय सचिव, दिलीप वर्मा, अभय प्रसाद और विनय चंद्रवंशी सहित कई लोग शामिल थे.
ये भी पढ़ें : झारखंड में चरमराई बिजली व्यवस्था, कई जिलों में ब्लैकआउट, कब दुरुस्त होगी आपूर्ति?

Related posts

पाकिस्तान के परमाणु वैज्ञानिक अब्दुल कदीर खान नहीं रहे, भोपाल में हुआ था जन्म

Pramod Kumar

तीनों नये कृषि कानून वापस: पीएम ने मांगी क्षमा, कहा- कृषि कानूनों को मैं समझा नहीं सका

Pramod Kumar

झारखंड सरकार के निशाने पर टाटा स्टील, बन्ना गुप्ता ने कहा- भगवान बिरसा मुंडा का किया अपमान

Pramod Kumar