समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

CRPF का जवान कराता था नक्सलियों व गैंगस्टरों को हथियार व कारतूस उपलब्ध, गिरफ्तार

CRPF का जवान कराता था नक्सलियों व गैंगस्टरों को हथियार व कारतूस उपलब्ध

न्यूज़ डेस्क/ समाचार प्लस झारखंड -बिहार
झारखण्ड में CRPF के एक जवान की मिलीभगत से नक्सलियों को हथियारों की सप्लाई करने का मामला सामने आया है.जम्मू कश्मीर के पुलवामा में तैनात अविनाश नामक जवान हथियार और कारतूस की तस्करी कर रहा था. झारखंड एटीएस ने इन्हें बिहार से गिरफ्तार किया है. पकड़े गए आरोपियों में बिहार का रहने वाला सीआरपीएफ जवान अविनाश कुमार, ऋषि कुमार और पंकज कुमार सिंह शामिल हैं. इनके पास से 450 राउंड गोली की बरामदगी हुई है. यह कार्रवाई पुलिस के लिए बड़ी उपलब्धि बताई जा रही है.

आरोपी का खुलासा

झारखंड पुलिस के आतंकरोधी यूनिट ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर गहन पूछताछ शुरू कर दी है. जांच में सामने आया है कि, आरोपी नक्सलियों के साथ-साथ कई आपराधिक गिरोहों तक असलहे की सप्लाई कर चुका है. उसपर गैंगस्टर सुजीत सिन्हा गिरोह, अमन साहू गिरोह, अमन सिंह गिरोह व अमन श्रीवास्तव गिरोह को भी हथियार देने का आरोप है.

पुलवामा में पदस्थापित था आरोपी जवान 

गिरफ्तार अभियुक्त अविनाश कुमार सीआरपीएफ के 182 बटालियन में आरक्षी के रूप में पुलवामा में पदस्थापित था. जो पिछले 4 महीने से अनुपस्थित रहा है. वह 24 अगस्त 2018 को मोकामा ग्रुप सेंटर से सीआरपीएफ में बहाल हुआ था. पहले 112 बटालियन सीआरपीएफ लातेहार और 204 बटालियन कोबरा जगदलपुर में पदस्थापित रहा. साल 2017 से 182 बटालियन जगदलपुर में पदस्थापित है. वह अपराधी अमन साहू, हरेंद्र यादव और लल्लू खान से संपर्क में था. वर्तमान में हरेंद्र यादव और लल्लू खान शेरघाटी और गया जेल में बंद हैं.

ये भी पढ़ें :Big Announcement : ‘मिया भाई’ फेम Rapper रुहान अरशद ने म्यूजिक इंडस्ट्री को कहा अलविदा, ‘संगीत इस्लाम में हराम है’

 

Related posts

CM हेमंत सोरेन ने पीएम मोदी को पत्र लिख राज्य के लिए अनुशंसित राशि रिलीज करने का किया आग्रह

Manoj Singh

Covid-19: देश को सुनाई दी तीसरी लहर की आहट: नये वेरिएंट AY.4.2 ने 6 राज्यों में पांव पसारे!

Pramod Kumar

6th JPSC : सफल छात्रों को राहत, हाइकोर्ट ने अगली सुनवाई तक यथास्थिति बनाये रखने का दिया निर्देश

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.