समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राजनीति

Cross Voting in President Elections: भारी पड़ी ‘अंतरात्मा की आवाज’, झारखंड में जमकर हुई क्रॉस वोटिंग, यशवंत सिन्हा को कांग्रेस और राजद से मिले सिर्फ 9 वोट!

image source : social media

Cross Voting in President Elections: देश के राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए (President Elections) साेमवार काे झारखंड विधानसभा में मतदान किया गया. चुनाव में विजयी घोषित होने के साथ ही द्रौपदी मुर्मू देश की 15वीं राष्ट्रपति बन गई हैं. आदिवासी समुदाय से राष्ट्रपति पद तक पहुंचने वाली वे पहली महिला हैं. उनकी ऐतिहासिक जीत पर बधाई देने का सिलसिला शुरू हो चुका है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा ने द्रौपदी मुर्मू को शुभकामनाएं दी हैं.

image source : social media
image source : social media

द्रौपदी मुर्मू के पक्ष में जमकर क्रॉस वोटिंग

वोटों की गिनती से साफ हो गया कि द्रौपदी मुर्मू के पक्ष में क्रॉस वोटिंग की गई है. विपक्ष के कई नेताओं ने पार्टी लाइन से अलग हटकर आदिवासी समुदाय की द्रौपदी मुर्मू के पक्ष में मतदान किया है .मतगणना से यह स्पष्ट हो गया है कि उन्हें 540 सांसदों का वोट मिल गए हैं . ऐसे में कम से कम 17 सांसदों ने क्रॉस वोटिंग की है. इसी तरह 104 विधायकों ने भी यशवंत सिन्हा की जगह द्रौपदी मुर्मू को अपनी पहली पसंद माना है.

53 वोट अमान्य पाए गए

राष्ट्रपति चुनाव में मुर्मू को 64 फीसदी वोट मिले, जबकि यशवंत सिन्हा को 36 फीसदी ही वोट मिल सके. चुनाव में मुर्मू को कुल 6 लाख 76 हजार 803 वोट मिले. जबकि सिन्हा के पक्ष में 3 लाख 80 हजार 177 वोट पड़े. राष्ट्रपति चुनाव में कुल 4754 वोट पड़े. मतगणना में 53 वोट अमान्य पाए गए. वहीँ चुनाव में झारखंड में कांग्रेस विधायकों ने जमकर क्रास वोटिंग की.

पार्टी लाइन से अलग हटकर वोट

झारखंड में काग्रेस व राजद के विधायकों ने पार्टी लाइन से अलग हटकर वोट किया. चुनाव में तय आंकड़े से द्रौपदी मुर्मू को 10 विधायकों के ज्यादा वोट मिले हैं. चुनाव में यशवंत सिन्हा को झारखंड में मात्र नौ वोट ही मिले. कांग्रेस व राजद में से किसी एक का वोट अवैध घोषित हो गया. राजनीतिक दलों और विधायकों के समर्थन की घोषणा के बाद द्रौपदी के पक्ष में 60 विधायकों का समर्थन तय था.

jharkhand से श्रीमती मुर्मू को 70 विधायकों के वोट मिले

jharkhand में  एनडीए उम्मीदवार श्रीमती मुर्मू को 70 विधायकों के वोट मिले. एनडीए ने सत्ता पक्ष के तय वोट से आधे एमएलए अपने पक्ष में कर लिये. यशवंत सिन्हा के पक्ष में राज्य में कांग्रेस, राजद व माले के 20 विधायक थे. झामुमो, एनसीपी और निर्दलीय विधायकों ने श्रीमती मुर्मू के समर्थन की घोषणा पहले कर दी थी. राष्ट्रपति चुनाव में इसके बाद साफ हो गया कि कांग्रेस व राजद के ही किसी 10 विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की है.

एनडीए ने यूपीए के वोट में की सेंधमारी 

jharkhand में यूपीए के पास यशवंत सिन्हा के समर्थन में 20 विधायक ही थे. एनडीए ने आदिवासी महिला को उम्मीदवार बनाकर जो तुरुफ का पत्ता चला उससे एनडीए ने यूपीए के इस वोट में भी सेंधमारी हो गई .

द्रौपदी मुर्मू को सबसे ज़्यादा वोट यूपी और महाराष्ट्र में मिले 

राष्ट्रपति चुनाव में द्रौपदी मुर्मू को सबसे ज़्यादा वोट यूपी और महाराष्ट्र में मिला हैं और सबसे कम वोट पंजाब और दिल्ली में मिला हैं. विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को आंध्र प्रदेश, नागालैंड और सिक्किम में एक भी वोट नहीं मिला है.

ये भी पढ़ें: द्रौपदी मुर्मू बन गयीं देश की पहली आदिवासी महिला राष्ट्रपति, देश में जश्न का माहौल

Related posts

Navratri: सम्पूर्ण जगत की जननी हैं मां कूष्मांडा

Pramod Kumar

रिटायर हुआ दुनिया का सबसे खतरनाक गेंदबाज, मायूस हैं फैंस

Manoj Singh

बिजली विभाग की लापरवाही : करंट लगने से बुरी तरह झुलसा मासूम, काटना पड़ा एक हाथ

Manoj Singh