समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Covid-19: घट नहीं रहे देशभर में कोरोना संक्रमण के मामले, केरल बढ़ा रहा देश की चिंता

घट नहीं रहे देशभर में कोरोना संक्रमण के मामले

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

देश में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार दूसरे दिन 45 हजार से ज्यादा आये  हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़े बताते हैं कि बीते 24 घंटे कोरोना के 45,352 नये मामले सामने आये हैं। वहीं 366 लोगों की कोरोना से मौत हो गई। जबकि 34,791 लोग कोरोना से ठीक हुए हैं। ध्यान देने वाली बात यह है कि कोरोना संक्रमण से ठीक होने वाले लोगों की संख्या कम होती जा रही है। यह भी एक अलग चिंता है। फिलहाल देश में कोरोना के कुल एक्टिव केस 3,99,778 हैं।

केरल में कम नहीं हो रहा कोरोना का प्रसार

केरल में कोरोना संक्रमण की तेजी बनी हुई है। केरल में भी लगातार दूसरे दिन 32 हजार से ज्यादा संक्रमण के मामले सामने आये हैं। बीते 24 घंटों में केरल में 32,097 संक्रमण के मामले आये हैं, जबकि इस दौरान 188 लोगों की मौत हुई है। संक्रमण के मामले में महाराष्ट्र दूसरे नम्बर पर है, लेकिन केरल की तुलना में यहां का आंकड़े काफी कम हैं। महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण के 4,342 नये मामले सामने आये हैं, जबकि 55 मरीजों की मौत हुई है। कर्नाटक (1,240), तमिलनाडु (1,562) तथा आंध्रप्रदेश (1,378) में भी रोजाना लगभग इसी रफ्तार से संक्रमण के मामले सामने आ रहे हैं।

सामूहिक कार्यक्रमों में वैक्‍सीन की दोनों डोज लेने वालों को ही जाने की नसीहत

कोरोना संक्रमित मरीजों की बढ़ती संख्‍या और उसके साथ बढ़ती तीसरे लहर की चिंता ने सरकार को भी सोचने को मजबूर कर दिया है। अब तो सरकार यह नसीहत देने लगी है कि लोग सामूहिक समारोहों में जाने से बचें। और अगर यह बहुत जरूरी है तब भी समारोह में वही लोग भाग लें जिन्होंने वैक्‍सीन की दोनों खुराकें ले ली हैं। त्‍योहारों का समय नजदीक है, इसलिए यह सावधानी बरतना बेहद जरूरी है।

यह भी पढ़ें: चिंता: तीसरी लहर आयी तो झारखंड-बिहार बढ़ायेंगे देश की टेंशन, जिम्मेवार होंगे बुजुर्ग

Related posts

Happy Deepawali: महालक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए पूजा की थाली में रखें ये 61 सामग्री, प्रसन्न होंगी मां

Pramod Kumar

T20 World Cup: कल आमने-सामने होंगी विराट और बाबर की ये सेनाएं, जीत के लिए लगायेंगी जान

Pramod Kumar

Premchand Jayanti: आखिर क्यों राष्ट्रवाद को एक कोढ़ मानते थे प्रेमचंद ?

Sumeet Roy

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.