समाचार प्लस
अंतरराष्ट्रीय खेल दुनिया

Copa America Final : मेसी का शानदार प्रदर्शन, करीब तीन दशक बाद ब्राजील को हरा अर्जेंटीना बना चैंपियन

Copa America Final

मेसी के शानदार प्रदर्शन ने अर्जेंटीना ने Copa America Final 2021 के मुकाबले में ब्राजील को हराकरअंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहला बड़ा खिताब जीता है। अर्जेंटीना ने 1993 के बाद पहली बार कोपा अमेरिका का खिताब जीता है। अर्जेंटीना ने फाइनल में ब्राजील को 1-0 से परास्त किया है. अर्जेंटीना के साथ लियोनेल मेसी की यह पहली बड़ी ट्रॉफी है।

रियो दि जिनेरियो के मराकाना स्टेडियम में मैच का एकमात्र गोल 22वें मिनट में एंजेल डि मारिया ने दागा। रोड्रिगो डि पॉल ने मारिया की तरफ लंबा पास दिया। तैंतीस 33 साल के इस अनुभवी स्ट्राइकर ने लेफ्ट बैक रेना लोडी की खराब डिफेंडिंग का फायदा उठाते हुए गेंद को अपने कब्जे में लिया और गोलकीपर एडरसन को छकाते हुए अर्जेन्टीना को बढ़त दिला दी जो निर्णायक साबित हुई। अर्जेन्टीना ने इस तरह 1993 से चले आ रहे खिताब के सूखे को खत्म किया।

टूर्नामेंट में ब्राजील के खिलाफ यह सिर्फ तीसरा गोल था। नेमार ने खूबसूरत ड्रिबल और पास का नजारा पेश करके ब्राजील को बराबरी दिलाने की कोशिश की लेकिन मेजबान टीम के स्ट्राइकर अर्जेन्टीना के गोलकीपर एमिलियानो मार्टिनेज को बामुश्किल परेशान कर पाए। कोच टिटे की ब्राजील टीम ने कोपा अमेरिका के पिछले पांच मुकाबले जीते थे और सभी में गोल दागे थे।

टूर्नामेंट के दौरान किए चार गोल

मेसी को मलाल रहेगा कि टूर्नामेंट में पिछले मुकाबलों की तरह फाइनल में भी वह प्रभावी प्रदर्शन नहीं कर पाए। उन्होंने हालांकि टूर्नामेंट के दौरान चार गोल किए और पांच गोल करने में मदद की। मेसी को 88वें मिनट में गोल करने का शानदार मौका मिला। उन्हें सिर्फ ब्राजील के गोलकीपर को छकाना था लेकिन एडरसन ने उन्हें रोक दिया।

यह खिताब अर्जेन्टीना के लिए राहत है जिसने अपना पिछला बड़ा खिताब तब जीता था जब मेसी सिर्फ छह साल के थे। रियो में शनिवार का खिताब अर्जेन्टीना का 15वां कोपा अमेरिका खिताब है। अर्जेन्टीना की टीम टूर्नामेंट में अजेय रही और उसने उरूग्वे के रिकॉर्ड की बराबरी की। ब्राजील ने नौ बार यह खिताब जीता है।

मेसी ने ट्रॉफी को चूमा और फिर हवा में उठा दिया

मैच खत्म होने के बाद मेसी की आंखों में आंसू थे। वह घुटने के बल बैठ गए और हाथों से अपने चेहरे को ढक लिया। इसके बाद टीम के अधिकतर साथी जश्न मनाने के लिए उनकी ओर दौड़े और उन्हें हवा में उछाल दिया। पुरस्कार वितरण समारोह के दौरान मेसी ने ट्रॉफी को चूमा और फिर हवा में उठा दिया।

इसे भी पढ़े: भारत के पूर्व क्रिकेटर Yashpal Sharma का हार्ट अटैक से निधन, बने थे 1983 वर्ल्ड कप के हीरो

Related posts

Tokyo Olympics : Bajrang Punia ने जगायी पदक की उम्मीद, ईरानी पहलवान को पछाड़ कर सेमीफाइनल में पहुंचे

Sumeet Roy

किस्मत हो तो ऐसी: खरीदी थी 2100 रुपये में तस्वीर, कीमत निकली 368 करोड़

Pramod Kumar

Pakistan: काम नहीं आया दांव-पेंच, सहयोगी MQM (P) ने छोड़ा साथ, अब कैसे कुर्सी बचायेंगे इमरान!

Pramod Kumar