समाचार प्लस
Breaking फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर बिहार

Convocation: उपराष्ट्रपति वेंकैया ने राजेंद्र प्रसाद कृषि के उत्तीर्ण छात्रों को किया सम्मानित

Bihar

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय मोतिहारी के दीक्षांत समारोह में उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने उत्तीर्ण छात्र-छात्राओं को सम्मानित किया। इस मौके पर उप राष्ट्रपति ने रिमोट के माध्यम से दीनदयाल उपाध्याय उद्यानिकी एवं वानिकी महाविद्यालय, डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय, पिपरा कोठी परिसर के प्रशासनिक भवन, गंडकी महिला छात्रावास, पंडित राजकुमार शुक्ल छात्रावास के साथ-साथ स्वदेशी गौ नस्ल के क्षेत्रीय उत्कृष्टता केंद्र और देशी गौवंश संरक्षण एवं संवर्द्धन केन्द्र, माधोपुर का उद्घाटन किया। उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने दीक्षांत समारोह में 6 छात्र-छात्राओं अभिनव प्रकाश, राजेश कुमार, चांदनी कुमारी को विजिटर मेडल, स्मिता शर्मा, कोमल कीर्ति को चांसलर मेडल तथा आशुतोष कुमार को वाइस चांसलर मेडल प्रदान किया। उप राष्ट्रपति ने कार्यक्रम के दौरान एक पुस्तिका का भी विमोचन किया।

मुख्यमंत्री नीतीश ने कृषि क्षेत्र में सरकार की उपलब्धियां गिनायीं

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी दीक्षांत समारोह को संबोधित किया। नीतीश कुमार ने इस मौके पर राज्य सरकार द्वारा किये गये अब तक के कार्यों की विस्तार से जानकारी दी। सबसे पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दीक्षांत समारोह में शामिल हुए उपराष्ट्रपति का आभार व्यक्त किया। इसके साथ उन्होंने सभी उत्तीर्ण छात्र-छात्राओं को बधाई एवं शुभकामनाएं दीं और उनके के उज्ज्वल भविष्य की कामना की।

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2005 में जबसे हमें काम करने का मौका मिला है, कृषि के क्षेत्र में हमलोगों ने कई कार्य किए हैं। वर्ष 2010 में कृषि विश्वविद्यालय, सबौर की स्थापना की गयी। वर्ष 2016 में पशु विज्ञान विश्वविद्यालय की स्थापना की गयी। वर्ष 2008 में पहला कृषि रोडमैप, 2012 में दूसरा कृषि रोडमैप और वर्ष 2017 में तीसरा कृषि रोडमैप बनाया गया। कृषि रोडमैप के आधार पर कृषि के क्षेत्र में कई महत्वपूर्ण कार्य किए गए। धान, गेहूं और मक्का की उत्पादकता दोगुनी हुई सब्जी और फल का भी उत्पादन काफी बढ़ा। बिहार में करीब 78 प्रतिशत आबादी की निर्भरता कृषि पर है।

उन्होंने कहा कि कृषि क्षेत्र में पढ़ाई के लिए ज्यादा से ज्यादा कॉलेज खुले। सारण, औरंगाबाद और मधुबनी में कृषि कॉलेज के लिए हमलोगों ने जमीन भी उपलब्ध करा दी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि श्रद्धेय अटल जी की सरकार में जब हम केंद्रीय कृषि मंत्री थे, उस समय वर्ष 2000 में एग्रीकल्चर पॉलिसी लायी गई। अटल जी के नेतृत्व में कई महत्वपूर्ण कार्य किए गए और अब प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में देश और राज्य विकास कर रहा है।

समारोह में इनकी थी उपस्थिति

समारोह में उप मुख्यमंत्री श्रीमती रेणु देवी, कृषि मंत्री अमरेंद्र प्रताप सिंह, गन्ना उद्योग एवं विधि मंत्री प्रमोद कुमार, सांसद एवं पूर्व केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री राधामोहन सिंह, अन्य जनप्रतिनिधिगण, सचिव कृषि, शिक्षा एवं अनुसंधान तथा महानिदेशक, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, नई दिल्ली त्रिलोचन महापात्र, डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय के कुलाधिपति प्रो. प्रफुल्ल कुमार मिश्र, डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति श्री रमेश चंद्र श्रीवास्तव, डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय के कुल सचिव डॉ. प्रेम प्रकाश श्रीवास्तव, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार, आयुक्त तिरहुत प्रमंडल श्री मिहिर कुमार, कृषि विभाग के सचिव एन. सरवन कुमार, पुलिस उप महानिरीक्षक, चंपारण प्रक्षेत्र श्री रविंद्र कुमार, जिलाधिकारी पूर्वी चंपारण कपिल शीर्षत अशोक, पुलिस अधीक्षक नवीन चंद्र झा सहित अन्य पदाधिकारीगण, शिक्षकगण, गणमान्य व्यक्ति एवं छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें: दरभंगा में बनेगा बिहार का दूसरा AIIMS, हर दिन 2500 मरीजों का हो सकेगा इलाज

Related posts

सरकार ने Drone इस्तेमाल को लेकर नियमों में दी ढील, अब किसी सुरक्षा मंजूरी की आवश्यकता नहीं

Manoj Singh

Lohardaga: सर्च अभियान में सीआरपीएफ जवानों ने जब्त किये नक्सलियों के सामान

Pramod Kumar

Farm Laws repeal: भीड़तंत्र ऊंचा या लोकतंत्र?

Vaidya Ritika Gautam

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.