समाचार प्लस
झारखण्ड पूर्वी सिंहभूम फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

जमशेदपुर में बेटियों का घर बसाने के लिए आगे आये दिनेशानंद गोश्वामी, एक साथ करवाई 19 युवतियों की शादी

community wedding in jamshedpur including 19 girls

जमशेदपुर से इंद्रजीत की रिपोर्ट

पाप और पुण्य की डगर में पुण्य हमेशा परमात्मा के राह पर ले जाता है और इस राह को तय करने की दिशा में जमशेदपुर के बहरागोड़ा में एक साथ 19 बेटियो की शादी करवाई गई

। जहा दान -दक्षिणा ,दहेज के साथ विधिवत पंडित जी के मंत्र उच्चारण के साथ सोना दान कर विवाह संपन्न कराया गया। जहा दिनेशानंद गोश्वामी में कहा यह मेरा स्वभाग्य है कि हम इस पुण्य कार्य को सफल करवा पा रहे।

किसी घर में एक बेटी की शादी उस घर के लिए बोझ बन जाता है जिसके लिए उस बेटी का पिता क्या कुछ नही करता..जो पहले बिटियो की शादी का सोचता है फिर अन्य कार्य पर ध्यान देता है। जहा झारखंड के गांव में कई परिवार ऐसे है जो घर आर्थिक रूप में कमजोर है और बेटी की शादी का सपना अपने आंखों में संजोए मौत के नींद सो जाते है और कई ऐसी बेटियां जिनके माता पिता नही है और वह अपने रिश्तेदारों के घर पल बड़ी हुई है जिनको चिन्हित कर बहरागोड़ा में BJP के नेता सह समाज सेवी दिनेशानंद गोश्वामी ने 400 गांव में भर्मण कर 19 जोड़ियों की शादी करवाने का संकल्प लिया जसमे आज विधिवत पंडित मंत्र उच्चारण के साथ दान दहेज के साथ सोना दान कर शादी करवाया । इस सामूहिक शादी समारोह में शहर के गणमान्य लोगों के साथ पूर्व विधायक गण उपस्थित हो वर वधु को अपना आशीर्वाद दिए । जहा इस कार्यक्रम को करवाने वाले दिनेशानद गोश्वामी ने कहा इस तरह गांव में कई पीड़ा को देख पिछले 6 वर्षों से इस तरह सामूहिक विवाह करवाते आ रहे है जिसमे काफी शुकुन मिलता है।

एक महिला ही एक बेटी की शादी की पीड़ा को जान सकती है जहा महिला होने के नाते ,,पदमश्री,,सम्मानित जमुना टुडू ने बताया गांव ग्राम की अनाथ बेटियो की शादी करवाना दुनिया का सबसे बड़ा पुण्य है । जहा तीन बार की पूर्व विधायक मेनका सरदार ने कहा आज सूबे में हर प्रखंड में इस तरह के आयोजन की जरूरत है ताकि गरीब बेटियो का उद्धार हो सके मेनका सरदार ने वर्तमान सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा अर्जुन मुंडा जी के कार्यकाल में कन्यादान योजना की सुरुवात की गई थी मगर सभी लाभकारी योजनाओं को बंद कर दिया गया है ।

इस पवन घड़ी में आर्शीवाद देने पहुचे स्थानीय परिजनों ने कहा यह बहुत ही सुंदर कार्य है किसी अन्यथा, गरीब बेटियो की शादी करना हम लोग काभी खुश है।

वही शादी के पवित्र बंधन में बधने वाले वर वधु ने कहा कभी सोचे नही थे मेरा शादी हों गा और होगा भी तो शायद मंदिर में मगर इतना भभ्य तरीके से शादी हुआ जो यादगार बन गया ।

पाप और पुण्य का तराजू कलयुग में मनुष्य के वर्तमान परिपेक्ष में सामने आता है अगर इसी तरह समाज सेवी और नेता समाज उत्त्थान के कार्यो में हिस्सा लेते है निश्चित ही समाज के साथ उस समाज सेवी का कल्याण होगा।

इसे भी पढ़ें: OBC Reservation के फेर में न फंस जाये झारखंड पंचायत चुनाव, सुप्रीम कोर्ट में कल है सुनवाई

 

Related posts

जरा याद करो कुर्बानी: शहीद 40 वीर सपूतों को नमन! हम शहीदों को नहीं भूले, हमारा बदला ‘नापाकिस्तान’ कभी नहीं भूलेगा

Pramod Kumar

Vehicle Scrappage Policy: अनफिट वाहनों को वैज्ञानिक तरीके से हटाने की मुहिम शुरू

Pramod Kumar

राजेश ठाकुर और बंधु तिर्की का बयान दिग्भ्रमित करने वाला : Dipak Prakash

Manoj Singh