समाचार प्लस
Breaking खुटी झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Commendable Initiative : गांव- गांव शिक्षा का अलख जगाती ‘सिनी’, खुद के ज्ञान से युवा भर रहे बच्चों के जीवन में रोशनी

Commendable Initiative : गांव- गांव शिक्षा का अलख जगाती 'सिनी'

 खूंटी से ज्योत्सना की रिपोर्ट
Commendable Initiative : भारत गांवों का देश है, गांव-गांव में शिक्षा होगी तभी देश शिक्षित होगा। लेकिन कोरोना की त्रासदी ने ग्रामीण बच्चों के शिक्षा के अधिकार पर मानों ग्रहण-सा लगा दिया। कोरोना संक्रमण के कारण लगातार निम्न तबकों के बच्चों की पढ़ाई बाधित है। अगर हम शहरी क्षेत्रों की बात करें तो शहरी इलाके के बच्चे एंड्रॉयड मोबाइल से ऑनलाइन क्लास कर अपनी पढ़ाई जारी रख सकते हैं। लेकिन वहीं हम नक्सल प्रभावित और सुदूरवर्ती ग्रामीण इलाकों के बच्चों की बात करें तो ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही शिक्षण व्यवस्था से ग्रामीण इलाके के बच्चे महरूम हैं। वैसे बच्चे जिनके मां – बाप दोनों ही खेत खलिहानों में काम कर अपने परिवार का गुजर बसर करते हैं। वैसे परिवार के बच्चे जो पूर्णतः सरकारी शिक्षण व्यवस्था पर निर्भर रहते हैं उनके लिए बगैर एंड्रॉयड मोबाइल के न तो ऑनलाइन शिक्षा संभव थी और न ही ऑफलाइन क्लास।

पढ़ाई लिखाई से वंचित होते जा रहे थे

गांव के बच्चे लगातार विद्यालय बन्द होने से अपनी पढ़ाई लिखाई से वंचित होते जा रहे थे। साथ ही दिनभर घर और खेत खलिहानों के कृषि कार्यों में ही स्कूली बच्चों का दिनभर का टाइम गुजर जाता था। धीरे धीरे ग्रामीणों ने भी ‘सिनी’ के शिक्षण कार्य में अपनी सहभागिता दिखाई और ऐसे विकट परिस्थितियों में गैर सरकारी संस्था ‘सिनी’ ने ग्रामीण बच्चों के शिक्षा का दायित्व गांव के ही पढ़े लिखे युवक युवतियों को दिया।

युवाओं ने ली स्कूली शिक्षा को आगे बढ़ाने की जिम्मेवारी 

सिनी के युवक युवती गांव गांव घूमकर आंगनबाड़ी केंद्रों में और बन्द पड़े विद्यालय भवनों में शारीरिक दूरी का पालन कराते हुए स्कूली शिक्षा को आगे बढ़ाने की जिम्मेवारी ली। ग्रामसभा से बैठक कर बच्चों के माता पिता बच्चों की ऑफलाइन शिक्षा के लिए अपनी हामी भरी और 15-20 बच्चों को जुटाकर अलग अलग समय निर्धारित कर एक दो घण्टे की क्लास तय की गई और देखते ही देखते गांव के बच्चों में कोरोना काल के बाधित स्कूली शिक्षा के बावजूद पढ़ने की ललक दिखाई पड़ी। बच्चों की पढ़ने की ललक ने गैर सरकारी संस्था सिनी को खूंटी, मुरहु और अड़की प्रखण्ड के 8 गांवों को जोड़कर शिक्षा का अलख जगाने को प्रेरित किया। सिनी संस्था आज नक्सलप्रभावित सुदूरवर्ती इलाके के सरकारी विद्यालय के बच्चों को फिर से शिक्षा से जोड़कर आगे बढ़ाने का कार्य किया है।

ये भी पढ़ें : Palamau: भाजपा युवा मोर्चा के जिला कोषाध्यक्ष सुमित श्रीवास्तव की अज्ञात हत्यारों ने की हत्या

 

Related posts

हैरानगी : PM Modi Covid का टीका लगवाने बिहार आए, साथ में राखी सावंत, राहुल गांधी और अभिनेता रणबीर कपूर ने भी लिया टीका!

Manoj Singh

ओडिशा और आंध्रप्रदेश पर कहर बरपायेगा चक्रवाती तूफान ‘जवाद’ झारखंड में आज से होगी बारिश

Pramod Kumar

Sarna Dharm Code Rally: 30 को ‘सेंगेल’ का कोलकाता में सरना धर्म कोड रैली, ’20 नवंबर तक सरना धर्म कोड को मान्यता दो’

Manoj Singh