समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

आज मिटेगा औपनिवेशिक मानसिकता का नामोनिशान, पीएम मोदी कर्तव्य पथ करेंगे राष्ट्र को समर्पित

Colonial mentality will disappear, the path of duty will be dedicated to the nation

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी गुरुवार शाम 7 बजे ‘कर्तव्य पथ’ का उद्घाटन करेंगे। सत्ता के प्रतीक तत्कालीन राजपथ का नाम बदलकर कर्तव्य पथ करना जन प्रभुत्व और सशक्तीकरण का एक उदाहरण है। प्रधानमंत्री इस अवसर पर इंडिया गेट पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा का भी अनावरण करेंगे। यह कदम प्रधानमंत्री के ‘पंच प्राण’ में से एक की तर्ज पर है यानी ‘औपनिवेशिक मानसिकता का कोई भी निशान मिटाएं।’ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी नये संसद भवन सेन्ट्रल विस्टा से कर्तव्य पथ का उद्घाटन करेंगे।

आने वालों के लिए ढेरों सुविधाएं, पहले नहीं थीं ये सुविधाएं

राजपथ और सेंट्रल विस्टा एवेन्यू के आसपास के इलाकों में आगंतुकों की बढ़ती भीड़ के दबाव के अनुसार यहां उसी अनुसार सुविधाएं विकसित की गयी हैं। यहां, सार्वजनिक शौचालय, पीने के पानी, स्ट्रीट फर्नीचर और पार्किंग स्थल की पर्याप्त व्यवस्था जैसी बुनियादी सुविधाओं का अभाव था। इसके अलावा, मार्गों के पास अपर्याप्त बोर्ड, पानी की खराब सुविधाएं और बेतरतीब पार्किंग थी। साथ ही, गणतंत्र दिवस परेड और अन्य राष्ट्रीय कार्यक्रमों के दौरान कम गड़बड़ी और जनता की आवाजाही पर कम से कम प्रतिबंध लगाने की आवश्यकता महसूस की गई। इन चिंताओं को ध्यान में रखते हुए पुनर्विकास किया गया जबकि वास्तु शिल्प का चरित्र बनाये रखने और अखंडता भी सुनिश्चित की।

आगंतुकों, पर्यटकों के लिए सुविधाएं ही सुविधाएं

कर्तव्य पथ अब अपनी बेहतर सार्वजनिक सुविधाओं के साथ आगंतुकों और पर्यटकों का स्वागत करेगा। पैदल रास्ते के साथ लॉन, हरे भरे स्थान, नवीनीकृत नहरें, मार्गों के पास लगे बेहतर बोर्ड, नई सुख-सुविधाओं वाले ब्लॉक और बिक्री स्टॉल होंगे। इसके अलावा इसमें पैदल यात्रियों के लिए नए अंडरपास, बेहतर पार्किंग स्थल, नए प्रदर्शनी पैनल और रात्रि के समय जलने वाली आधुनिक लाइटों से लोगों को बेहतर अनुभव होगा। इसमें ठोस अपशिष्ट प्रबंधन, भारी वर्षा के कारण एकत्र जल का प्रबंधन, उपयोग किए गए पानी का पुनर्चक्रण, वर्षा जल संचयन और ऊर्जा कुशल प्रकाश व्यवस्था जैसी अनेक दीर्घकालिक सुविधाएं शामिल हैं।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा की स्थापना

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा उसी स्थान पर स्थापित की जा रही है, जहां इस साल की शुरुआत में पराक्रम दिवस (23 जनवरी) के अवसर पर नेताजी की होलोग्राम प्रतिमा का अनावरण किया गया था। ग्रेनाइट से बनी यह प्रतिमा हमारे स्वतंत्रता संग्राम में नेताजी के अपार योगदान के लिए उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि होगी, और देश के उनके प्रति ऋणी होने का प्रतीक होगी। मुख्य मूर्तिकार अरुण योगीराज द्वारा तैयार की गई 28 फुट ऊंची प्रतिमा को एक ग्रेनाइट पत्थर से उकेरा गया है और इसका वजन 65 मीट्रिक टन है।

यह भी पढ़ें: क्या है पीएमश्री स्कूल योजना? देश के हर ब्लॉक में अपग्रेड होंगे दो स्कूल, झारखंड के 400 से अधिक स्कूलों को लाभ

Related posts

Bihar: अब शराबबंदी पर होगा बड़ा एक्शन, कल क्या करेंगे सीएम नीतीश, देखिये वीडियो

Pramod Kumar

UPI Payments without Internet: बिना इंटरनेट के भी किया जा सकता है UPI पेमेंट, जानिए क्या है इसका पूरा तरीका

Sumeet Roy

PM launched 5G testbed: PM Modi ने 5G Testbed किया लॉन्च, प्रधानमंत्री बोले- हर सेक्टर में होगा मददगार, बढ़ेंगे रोजगार के अवसर

Sumeet Roy