समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Electricity Crisis: ये जो हल्का-सा अंधेरा है गनीमत जानो, दिन अभी और, अभी और भी काले होंगे!

कोयले की कमी के कारण ऐतिहासिक बिजली संकट का खतरा

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

देशभर में कोयले की कमी के कारण बिजली संकट का खतरा बना हुआ है, क्या यह आने वाले समय के लिए और गहरे संकट का संकेत है? क्योंकि जो कोयला संकट देश के सामने उपस्थित है, वह संकट आगे बना नहीं रहेगा, इसकी गारंटी नहीं है। अगर ऐसा होता है तो यह कोरोना के बाद पटरी पर लौटती देश की अर्थव्यवस्था के लिए खतरनाक होगा। भारत में 70 फीसदी से ज्यादा बिजली संयंत्र कोयला आधारित हैं। यही चिंता का विषय भी है। देश के 135 कोयला आधारित बिजली-संयंत्र जब हांफने लगेंगे तब बिजली संकट के कारण देश की अर्थव्यवस्था की सांसें उखड़ने लगेंगी। इस समय कोयले की जो स्थिति है, कहीं ऐसा न हो भारत में ऐतिहासिक बिजली संकट न उत्पन्न हो जाये।

आखिर क्यों है कोयले का संकट?

कोयले का संकट कई महीनों से है। कोयले में अचानक दिख रहा कोयले का संकट कोविड महामारी के बाद उत्पन्न हुआ है। कोरोना की दूसरी लहर के बाद जब देश की अर्थव्यवस्था पटरी पर लौटने लगी तो बिजली की मांग भी अचानक बढ़ गयी। बीते दो महीनों में ही बिजली की खपत 2019 के मुकाबले में 17 प्रतिशत बढ़ गयी है। इस बीच दुनियाभर में कोयले के दाम 40 फीसदी तक बढ़े हैं जबकि भारत का कोयला आयात दो साल में सबसे निचले स्तर पर है। भारत में दुनिया में कोयले का चौथा सबसे बड़ा भंडार है, लेकिन खपत अत्यधिक होने की वजह से इसे कोयला आयात करना ही पड़ता है। बिजली संयंत्र जो आमतौर पर आयात किये गये कोयले से चलते थे अब वे देश में उत्पादित हो रहे कोयले पर निर्भर हो गये हैं।

क्या कहते हैं विशेषज्ञ?

कोयले की कमी को आयात करके पूरी करने को विशेषज्ञ सही नहीं मान रहे। विशेषज्ञों का कहना है कि अधिक कोयला आयात करके जरूरतों को पूरा करना इस समय भारत के लिए अच्छा विकल्प नहीं है। कोयले की कमी पहले भी देखी गयी है, लेकिन इस बार अभूतपूर्व बात ये है कि कोयला बहुत ज्यादा महंगा है।

अगर भारत महंगा कोयला खरीद कर अपनी आवश्यकता पूरी करता है तो बिजली के दाम बढ़ेंगे, फिर उत्पादों के दाम बढ़ेंगे। इससे महंगाई बढ़ेगी। यह प्रत्यक्ष तौर पर भी हो सकता है और अप्रत्यक्ष तौर पर भी। यदि इसी तरह यह संकट चलता रहा तो ग्राहकों पर बिजली कीमतों के बढ़ने की मार झेलनी ही पड़ेगी। इस समय भारत में खुदरा महंगाई पहले से ही बहुत है, क्योंकि तेल और तेल के कारण जरूरत की हर चीज महंगी हो चुकी है।

यह भी पढ़ें: Navratri Day 8: मनुष्य की असत् वृत्तियों का नाश कर सत्‌ की ओर प्रेरित करती हैं महागौरी

Related posts

सारा अली खान ने शर्ट के बटन खोल कराया बोल्ड फोटोशूट, फिर बढ़ीं फैंस की धड़कनें

Manoj Singh

Covid-19: Corona संक्रमण के मामलों में फिर उछाल, 43,654 नये संक्रमित मिले, 640 मरीजों की मौत

Sumeet Roy

लातेहार : नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में असिस्टेंट कमांडेंट शहीद

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.