समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

CMIE Report: छत्तीसगढ़ में नहीं है कोई बेरोजगार, साथ में बना राज्य उत्तराखंड भी बेहतर, झारखंड क्यों रह गया पीछे?

Unemployment

झारखंड और बिहार आगे-पीछे

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (CMIE) बेरोजगारी पर ताजा रिपोर्ट जारी की है। यह रिपोर्ट बताती है कि देश में रोजगार की तस्वीर पहले से बेहतर हुई है। इस रिपोर्ट में सभी राज्यों में सबसे बेहतरीन प्रदर्शन 2000 में बने नये राज्य छत्तीसगढ़ का है, जहां, 99.90 फीसद लोग किसी न किसी रोजगार से जुड़कर आजीविका चला रहे हैं। यानी यहां बेरोजगारी (.1%) न के बराबर है। छत्तीसगढ़ के साथ दो राज्य और बने हैं- उत्तराखंड और छत्तीसगढ़। उत्तराखंड की बेरोजगारी दर .5% दर्शायी गयी है, यानी इस राज्य में 99.5% लोग किसी न किसी रोजगार से जुड़े हुए हैं। लेकिन झारखंड इस मामले में पीछे रह गया है। सीएमआईई के मुताबिक सबसे कम बेरोजगारी दर वाले राज्यों में 0.1 प्रतिशत के साथ छत्तीसगढ़ शीर्ष पर है। वहीं 0.4 प्रतिशत के साथ असम दूसरे स्थान पर और उत्तराखंड 0.5 प्रतिशत बेरोजगारी दर के साथ तीसरे स्थान पर हैं।

रिपोर्ट बताती है कि झारखंड की बेरोजगारी दर 12.2% है। राष्ट्रीय स्तर पर बेरोजगारी दर की बात करें तो देश में भी बेरोजगारी दर घटी है। सितंबर में देश में बेरोजगारी दर 6.43 प्रतिशत रही है। शहरी क्षेत्रों में जहां बेरोजगारी दर 7.70 प्रतिशत रही वहीं, ग्रामीण क्षेत्रों यह 5.84 प्रतिशत आंकी गयी है। जबकि अगस्त महीने में यह दर 8.3 प्रतिशत थी।

क्या है दूसरे राज्यों का हाल?

अन्य राज्यों में मध्यप्रदेश की बेरोजगारी दर  0.9 प्रतिशत, गुजरात की 1.6 प्रतिशत। है। बेरोजगारी के मामले में सबसे खराब राज्यों में राजस्थान है। सितंबर में वहां सर्वाधिक 23.8 प्रतिशत बेरोजगारी दर दर्ज की गई है। जम्मू एवं कश्मीर में 23.2 प्रतिशत और हरियाणा में 22.9 प्रतिशत बेरोजगारी दर बताई गई है। त्रिपुरा में 17.0 प्रतिशत और झारखंड में 12.2 प्रतिशत बेरोजगारी दर है। आलम यह है कि झारखंड बेरोजगारी दर में देश में 22वें पायदान पर है। देश के सिर्फ चार राज्यों से ही बेहतर है। इस क्रम में बिहार झारखंड के आगे है। बिहार 11.4 प्रतिशत बेरोजगारी दर से देश में 21वें स्थान पर है।

अनुकरणीय छत्तीसगढ़?

छत्तीसगढ़ की न्यूनतम बेरोजगारी दर की वजह के पीछे मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की नीतियों का बड़ा योगदान है। छत्तीसगढ़ उन राज्यों में शुमार है जहां रोजगार के नये अवसर पैदा किये गये हैं। भूपेश बघेर के नेतृत्व में राज्य के लिए बनाई गई योजनाओं और नीतियों ही राज्य का नक्शा बदला है। बघेर के शासन में राज्य में अनेक ऐसे नवाचार हुए हैं, जिनसे शहर से लेकर गांव तक हर हाथ को काम मिला है।

बेरोजगारी दर (%)

  • आंध्र प्रदेश 4.8
  • असम  0.4
  • बिहार 11.4
  • छत्तीसगढ़  0.1
  • दिल्ली  9.6
  • गोवा 10.9
  • गुजरात 1.6
  • हरियाणा 22.9
  • हिमाचल प्रदेश 9.2
  • जम्मू-कश्मीर 23.2
  • झारखंड 12.2
  • कर्नाटक 3.8
  • केरल 6.4
  • मध्य प्रदेश 0.9
  • महाराष्ट्र 4.0
  • मेघालय 2.3
  • ओडिशा 2.9
  • पुडुचेरी 7.3
  • पंजाब 7.0
  • राजस्थान 23.8
  • तमिलनाडु 4.1
  • तेलंगाना 8.3
  • त्रिपुरा 17.0
  • उत्तर प्रदेश 4.0
  • उत्तराखंड 0.5
  • पश्चिम बंगाल 3.3

यह भी पढ़ें: IND vs SA: आज पहला वनडे, लखनऊ के आकाश पर बादलों ने डाला है डेरा, रांची में आज से टिकट बिक्री

Related posts

Omicron के खतरे से निबटने के लिए बिहार तैयार, जारी की नयी गाइडलाइन, स्वास्थ्य विभाग भी अलर्ट पर

Pramod Kumar

मंडल की राजनीति की धार तैयार कर रहा है RJD, सात को हर जिले में धरना प्रदर्शन

Manoj Singh

दो नाबालिग बहनों से सामूहिक दुष्कर्म मामला: सात आरोपी गिरफ्तार, ऐसे दबोचे गए

Manoj Singh