समाचार प्लस
Breaking अंतरराष्ट्रीय फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

बीमारियों का घर चीन! पहले सार्स, एवियन फ्लू, बर्ड फ्लू, कोरोना और अब इनसानों में बर्ड फ्लू!

China the home of diseases! SARS, avian flu, bird flu, corona and now bird flu in humans!

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

2019 से दुनिया कोरोना महामारी से त्रस्त है। भले ही दुनिया यह साबित नहीं कर सकी है, लेकिन सबको यही पता है कि कोरोना का असली पता चीन ही है। चीन ने दुनिया को कोरोना ही नहीं दिया है, और भी कई खतरनाक वायरस दिये हैं। चीन के लोगों की जैसी जीवन शैली और खान-पान का तरीका है, उससे यही लगता है कि वहां से कई और खतरनाक वायरस निकलते रहेंगे और दुनिया को तंग करते रहेंगे। बता दें, 2002 में चीन ने दुनिया को सार्स नामक वायरस दिया था, तो 2013 में एवियन फ्लू (H7N9) चीन की ही देन है। H7N4 नामक वायरस 2018 में चीन के जियांग्सु इलाके से फैला था। बर्ड फ्लू (H5N6) वायरस चीन के शीनजियांग से निकला था। 2019 में कोरोना वायरस ने चीन के वुहान प्रयोगशाला से निकल कर पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया है और इसके नये-नये वेरिएंट आज भी दुनिया को तबाह कर रहा है। इसकी चपेट में 50 करोड़ से अधिक लोग आ चुके हैं और 62 लाख से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।

अब एक नया खतरा चीन से निकलने को तैयार है। केंद्रीय हेनान प्रांत में रहने वाले एक चार वर्षीय बच्चा बर्ड फ्लू (H3N8) से संक्रमित पाया गया है। पूरी दुनिया में किसी इनसान में बर्ड फ्लू पाये जाने का यह पहला मामला है। बच्चे को इस महीने की शुरुआत में बुखार और अन्य लक्षणों के कारण अस्पताल में भर्ती कराया गया था। चीनी विशेषज्ञ हालांकि यह जरूर कह रहे हैं कि H3N8 स्ट्रेन में इंसानों को प्रभावी तरह से संक्रमित करने की क्षमता नहीं पाई गई है और लड़के का मामला अपनी तरह का एकमात्र मामला है। बच्चे के संपर्क में आये किसी भी परिजन को संक्रमित नहीं पाया गया है और स्ट्रेन के बड़े पैमाने पर फैलने का खतरा बहुत कम है।

पहली बार 2002 में मिला था H3N8 स्ट्रेन

बर्ड फ्लू का H3N8 स्ट्रेन सबसे पहले 2002 में उत्तरी अमेरिका में सामने आया था और तब से कई प्रजातियों को संक्रमित कर चुका है। ये मुर्गियों, घोड़ों, कुत्तों और सील्स को संक्रमित कर सकता है। बर्ड फ्लू या एवियन इंफ्लूएंजा एक वायरल संक्रमण है जो इंफ्लूएंजा टाइप ए वायरसों के कारण फैलता है। आमतौर पर पक्षियों में होने वाला ये संक्रमण एक पक्षी से दूसरे पक्षी में भी फैल सकता है। बर्ड फ्लू इंसानों में भले ही बेहद कम फैलता हो, लेकिन ये उनके लिए भी उनका ही खतरनाक है विशेषकर H5N1 स्ट्रेन। इससे 60 प्रतिशत तक मौतें होती हैं।

चीन क्यों है वायरसों का घर?

आखिर चीन से इतने वायरस क्यों निकलते हैं? आखिर चीन वायरसों का घर क्यों है? इसका सीधा-सा उत्तर है चीन के लोगों की जीवन-शैली, उनका खान पान। चीन के लोग ऐसी-ऐसी चीजें खा जाते हैं जिनका नाम सुनने से ही उल्टी होने लगती है। चीन के लोग कई तरह के जानवरों के जिंदा मांस तक खा जाते हैं जिससे उनमें मौजूद वायरसों के इनसानों में फैलने का खतरा रहता है। याद होगा एचआईवी वायरस और इबोला वायरस की शुरुआत अफ्रीका से हुई थी। ये वायरस चिंपाजी के शरीर पर पाये जाते हैं। अफ्रीका के लोग चिंपाजी का मांस खा जाया करते हैं, इस कारण इन वायरसों का इनसानी सफर यही से शुरू हुआ। इबोला का प्रभाव तो उतना नहीं दिखा, लेकिन एचआईवी एड्स ने तो पूरी दुनिया को एक खतरनाक बीमारी दे रखी है।

चीनी लोगों का अजीब-ओ-गरीब मांसाहार

चीन के लोगों के मांसाहार के बारे में थोड़ा जान लें। चीन में 150 से अधिक जानवरों के मांस का सेवन किया जाता है। इनमें से कई जानवरों के मांस जिंदा काटकर बेचे और खाये जाते हैं। इस नाते चीन में जानवरों और इनसानों के बीच का संबंध ऐसा बन गया है जिससे इन जानवरों में मौजूद वायरसों के इनसानों संचरण सुगमता से हो जाता है। यह तथ्य इस बात को पुख्ता करते हैं कि तमाम दुनिया में फैलने वाले वायरस संभवतः चीन से ही पसरते हैं। चीन के लोग छिपकली, सांप, कुत्तों का मांस, जिंदा ऑक्टोपस, मच्छर के अंडे, बंदर, चमगादड़, गधे… और न जाने क्या-क्या खा जाते हैं।

विशेषज्ञों के अनुसार, चीन के मीट मार्केट में जानवरों के मांस और खून का मानव शरीर से सम्पर्क होता रहता है। यह भी वायरसों के फैलने की एक बड़ी वजह है। ऐसा भी नहीं है कि चीन के लोग मांस खरीद-बिक्री में कोई उच्च हाईजीन तरीका अपनाते हैं। चीन  बाजारों में भारतीय बाजारों की तरह ही मांस की आसान खरीद-बिक्री होती है। यह भी वायरस के फैलने की एक बड़ी वजह है।

चीन से कौन-कौन से वायरस दुनिया में फैले हैं
  • 2002 में सार्स जैसी बीमारी सबसे पहले चीन से फैली। इसका पहला मामला दक्षिणी चीन के गुआंगडॉन्ग में मिला था।
  • 2013 में बर्ड फ्लू (H7N9) की शुरुआत चीन से हुई। एवियन एन्फ्लुएंजा चीन से ही फैला।
  • 2018 में चीन के जियांग्शु इलाके से H7N4 वायरस फैला।
  • 2019 में चीन के शीनजियांग प्रांत से H5N5 बर्ड फ्लू फैला।

यह भी पढ़ें: पेट्रोल पर वैट कम नहीं करने वाले राज्यों को पीएम ने सुनाई खरी-खरी, झारखंड ने भी नहीं घटाया है वैट

Related posts

T20 WC : पाकिस्तान ने इतिहास पलटा, अब भारत की बारी! जीते तो बहार, हारे तो बाहर

Pramod Kumar

पीएम मोदी टॉप 5 यूएस कंपनियों के सीईओ से मिले, सबने कहा- भारत सम्भावनाओं की खान

Pramod Kumar

PM Modi ने सिद्धार्थ नगर के माधव प्रसाद त्रिपाठी मेडिकल कॉलेज सहित UP को दिये नौ मेडिकल कॉलेज

Pramod Kumar