समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राँची

मुख्यमंत्री Hemant Soren का मिला आदेश, बंधक बनी हुनरमंद बेटियां लौट रहीं अपने घर

Hemant Soren
न्यूज़ डेस्क/ समाचार प्लस झारखंड- बिहार
बेंगलुरु से मुक्त करायी गईं छह युवतियां

रांची : मुसाबनी की हुनरमंद अंजली पान अब खुश है। उसकी घर वापसी सुनिश्चित हो गई है। कुछ घंटों में वह अपने परिवार से मिल सकेगी। राज्य सरकार ने उसे बेंगलुरू से सुरक्षित मुक्त करा लिया है। अंजली पान जैसी ही पोटका प्रखंड की अन्य छह युवतियां अपने घर लौट रही हैं।

बंधक बनी थीं युवतियां

सिलाई में निपुण अंजली पान ने बताया कि कौशल विकास केंद्र डिमना से प्रशिक्षण लेने के बाद वह अपने सहयोगियों के साथ बेंगलुरु स्थित एक वस्त्र उद्योग में सिलाई – कढ़ाई का काम करने गयी थी। वहां पहुंचने पर सभी को काम पर लगा दिया गया। लेकिन, जिस तरह की सुविधा देने की बात कही गयी थी, वैसी नहीं दी गई। उनके साथ अच्छा व्यवहार भी नहीं किया जा रहा था। उन्हें न तो सही तरह से रहने की सुविधा दी गयी और न ही खाने की सुविधा ही। वार्डेन से शिकायत करने पर वार्डेन द्वारा मारपीट की धमकी दी जाती थी। वे लोग घर लौटना चाहती थी, लेकिन आने नहीं दिया जा रहा था। उन्हें बंधक बनाकर रखा गया था।

ऐसे हुई वापसी

युवतियों ने मामले की जानकारी कौशल विकास केंद्र डिमना को देने के साथ घर वापसी के लिए मुख्यमंत्री (Hemant Soren) और स्थानीय विधायक से गुहार लगायी। मुख्यमंत्री के संज्ञान में मामला आते ही श्रम विभाग और पूर्वी सिंहभूम के उपायुक्त को यथाशीघ्र युवतियों के सुरक्षित वापसी का आदेश दिया गया। इसके उपरांत श्रम विभाग ने सक्रियता के साथ सभी के घर वापसी का मार्ग प्रशस्त किया।
ये भी पढ़ें :Jharkhand: पढ़ाते अच्छे लगते हैं शिक्षक, कोरोना ड्यूटी पर लगाना नहीं है समझदारी

Related posts

गोपालगंज: बाथरूम में नहाने गए एएसआई की करंट लगने से मौत

Manoj Singh

बिहारः सेक्स रैकेट की सूचना पर पुलिस ने की छापेमारी, हिरासत में 12 लोग, साली के साथ जीजा भी पकड़ा गया

Manoj Singh

विराट को रोहित से Problem नहीं, Problem BCCI अध्यक्ष गांगुली से,  प्रेस कॉन्फ्रेंस में निकाली भड़ास

Pramod Kumar