समाचार प्लस
Breaking खुटी झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राँची

बुंडू के सूर्य मंदिर में दूर-दूर से छठव्रती आते हैं भगवान भुवन भास्कर को अर्घ्य अर्पित करने

Surya Mandir Bundu

खूंटी से ज्योत्सना/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

रांची-टाटा मार्ग पर बुंडू अनुमंडल स्थित सूर्य मंदिर के छठ की खास महत्ता है। ‘संस्कृति विहार’ के संस्थापक सीताराम मारू के अथक प्रयास से 24 अक्टूबर, 1991 को सूर्य मंदिर की आधारशिला रखी गयी थी और  10 जुलाई, 1994 को सूर्य मंदिर में प्राण-प्रतिष्ठा कर पूजा-अर्चना प्रारंभ की गयी थी। इसके उपरान्त 25-26 वर्षों से लगातार भगवान भास्कर की उपासना के लिए दूर-दूर से श्रद्धालु यहां आते हैं। पहले यहां गिने-चुने ही श्रद्धालु आकर छठ किया करते थे, लेकिन अब धीरे-धीरे यहां आकर छठ करने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है।

सूर्य मंदिर को लेकर मान्यता

सूर्य मंदिर को लेकर ऐसी मान्यता है कि भगवान राम यहां पहुंचे थे और इस स्थान पर रुककर भगवान सूर्य को नमन किया था। भगवान राम की स्मृति में ही सूर्य मंदिर का यहां निर्माण कराया गया है। मंदिर बनने के बाद मन्नतें मानने के लिए भक्तों का यहां आना लगा रहता है। कई भक्तों के अनुसार, सूर्य मंदिर आने से उनकी मन्नतें पूर्ण हुई हैं। प्रत्येक वर्ष श्रद्धालु यहां पहुंचते रहते हैं।

झारखंड के बाहर से भी आते हैं छठव्रती

छठ में सूर्य मंदिर में विशेष पूजा-अर्चना के लिए श्रद्धालु पहुंचते हैं। रांची, खूंटी, जमशेदपुर, धनबाद, बोकारो समेत बिहार और बंगाल से भी छठव्रती एक दिन पूर्व यहां आकर छठी मैया को अर्घ्य देते हैं। स्वच्छ, सुंदर और आकर्षक परिसर में छठी मैया को अर्घ्य देकर छठव्रती खुद को धन्य समझते हैं।

‘संस्कृति विहार’ की अनुपम देन है बुंडू का सूर्य मंदिर

भगवान भास्कर के नाम पर बना सूर्य मंदिर देखने में जितना आकर्षक और मनोरम है, उतना ही पावन और सुरक्षित भी माना जाता है। ‘संस्कृति विहार’ के संरक्षण में संचालित सूर्य मंदिर छठव्रतियों के लिए विशेष इंतजाम करता है। छठव्रतियों के लिए ‘संस्कृति विहार’ के सदस्य निःशुल्क सेवा प्रदान करते हैं। छठ को लेकर मंदिर के पास स्थित तालाब की साफ-सफाई करायी जाती है। सुरक्षा को लेकर बुंडू पुलिस प्रशासन भी सूर्य मंदिर और छठ तालाब परिसर में मुस्तैद रहता है। ‘संस्कृति विहार’ के संचालक प्रमोद कुमार सिंह और पुजारी सत्यनारायण पाठक बताते हैं कि छठ के मौके पर छठव्रतियों को किसी तरह की कोई परेशानी न हो इसका खास ख्याल रखा जाता है।

यह भी पढ़ें: डीवीसी ने झारखंड में बढ़ाया बिजली का संकट, 2110 करोड़ बकाया नहीं देने पर बिजली की आधी

Related posts

धनबाद जज मौत मामला : आरोपियों की नार्को और ब्रेन मैपिंग टेस्ट होगी, गुजरात ले गई CBI

Manoj Singh

सारे जहां से ऊंचा: 18300 फीट की ऊंचाई पर भी जश्न-ए-आजादी, डोंकायाला दर्रे पर फहरा तिरंगा

Pramod Kumar

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ऑस्कर फर्नांडिस का निधन, लंबे वक्त से थे बीमार

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.