समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Cheetahs in India: 70 साल बाद भारत की जमीन पर फिर लौट रहा चीता, घर हुआ तैयार, बेताबी से इंतजार

image source : social media

Cheetahs in India : भारत में करीब 70 साल बाद लोगों को चीता (cheetah) देखने को मिलेगा। चीतों को लाने के लिए भारत का विशेष विमान बोइंग 747-400 नामीबिया (namibiya) पहुंच चुका है। विमान को चीते की तस्वीर के साथ पेंट किया गया है। इसे स्पेशल फ्लैग नंबर 118 दिया गया है। देश के लोग इस ऐतिहासिक क्षण का उत्सुकता से इंतजार कर रहे हैं।

तीन नर हैं और पांच मादा चीता आएंगे

दक्षिण अफ्रीका से 5 मादा और तीन नर चीते भारत लाए जा रहे हैं। जिनकी तस्वीर भी सामने आ चुकी है। चीतों की उम्र ढाई से साढ़े पांच साल के बीच है। जानकारी के मुताबिक इन चीतों में तीन नर हैं जबकि पांच मादा हैं। इनकी उम्र साढ़े चार साल, एक की उम्र दो साल, एक की ढाई साल और एक की उम्र तीन से चार साल के बीच बतायी गई है। वहीं, एक चीते की उम्र 12 साल भी बताई गई है।

हेलीकॉप्टर से कूनो नेशनल पार्क श्योपुर लाए जाएंगे

मध्यप्रदेश के श्योपुर जिले में स्थित कूनो नेशनल पार्क में चीतों के भारत आने की तैयारियां नामीबिया में अंतिम दौर में हैं। सभी आठ अफ्रीकी चीतों को एक खास विमान से भारत लाया जा रहा है। विमान आज (16 अक्तूबर) नामीबिया से भारत के लिए उड़ान भरेगा और कल राजस्थान लैंड करेगा, जहाँ से उन्हें  हेलिकॉप्टर के जरिए उतारा जाएगा।  विशेष चार्टर कार्गो फ्लाइट जो कि पहले जयपुर में उतरने वाली थी वह अब ग्वालियर में उतरेगी, फिर ग्वालियर से हेलीकॉप्टर से कूनो नेशनल पार्क श्योपुर लाया जाएगा। विशेष विमान की तस्वीरें हाल ही में एयरलाइन कंपनी ने ट्वीट कर शेयर की हैं। इस फ्लाइट को स्पेशल फ्लैग नंबर 118 दिया गया है। वहीं विमान में चीते की एक आकर्षक पेंटिंग बनी है।

image source : social media
image source : social media

…इसलिए लाए जा रहे चीते 

एक्सपर्ट्स के मुताबिक चीतों के विलुप्त होने के बाद भारतीय ग्रासलैंड की इकोलॉजी खराब हुई थी, जिसे संतुलित करना जरूरी था। चीता अंब्रेला प्रजाति का जीव है, यानी फूड चेन में सबसे ऊपर मौजूद जीव है। अगर यह नहीं आता तो फूड चेन का संतुलन पूरी तरह से बिगड़ जाता।

17 सितंबर को पीएम मोदी कूनो नेशनल पार्क में छोड़ेंगे चीते

दुनिया के किसी भी देश में चीतों को शिफ्ट करने का काम एयरलाइन कंपनी पहली बार करने जा रही है। ये क्षण विमान कंपनी के लिए भी यादगार होने वाला है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने जन्मदिन 17 सितंबर के दिन खुद कूनो नेशनल पार्क में बने बाड़े में चीतों को आजाद कर देश के पहले चीता प्रोजेक्ट का शुभारंभ करेंगे।

पुली घुमाकर चीतों को छोड़ेंगे PM मोदी

PM के आगमन के दौरान चीतों को जिस केज में रखा जाएगा, उसका गेट साइड की तरफ खुलेगा। PM पुली को घुमाएंगे तो गेट खुलेगा। चीतों को छोड़े जाने का लाइव प्रसारण होगा। कूनों में दो नर और एक मादा चीतों को PM मोदी खुद छोड़ेंगे। पुली इलेक्ट्रॉनिक नहीं मैकेनिकल होगी। पहले रिमोट के जरिए चीता छोड़ने की तैयारी थी।

दुनिया का सबसे तेज भागने वाला जानवर है चीता

चीता दुनिया का सबसे तेज भागने वाला जानवर है। इसकी दौड़ने की अधिकतम गति 120 किलोमीटर प्रतिघंटा है। 1948 में खुले जंगल में तीन चीतों का शिकार किया गया था । ये शिकार छत्तीसगढ़ के कोरिया जिले के साल जंगल में राजा रामानुज प्रताप ने किया था। 1952 में चीतों को विलुप्त घोषित कर दिया गया था।

इसलिए चुना गया कूनो नेशनल पार्क 

चीता को लाने के लिए सिर्फ कूनो नेशनल पार्क(kuno national park) इसलिए चुना गया, क्योंकि वहां पर चीतों के खाने की कमी नहीं है। यहां पर्याप्त मात्रा में शिकार करने लायक जीव हैं, यहां चीतल नीलगाय जैसे जीव काफी संख्या में मौजूद हैं। जिन्हें चीते पसंद से खाते हैं। कूनो नेशनल पार्क 748 वर्ग किलोमीटर का इलाका है। जिसमें इंसानों का आना-जाना बेहद कम है। यहां इंसान नहीं रहते।

ये भी पढ़ें : Gautam Adani ने रचा इतिहास, बने दुनिया के दूसरे सबसे अमीर शख्स, अब सिर्फ एलन मस्क हैं आगे

Related posts

Bihar: नवादा में अपराधियों के हौसले सातवें आसमान पर, डॉक्टर दंपती पर चलायीं ताबड़तोड़ गोलियां

Pramod Kumar

झारखंड में भाजपा के पूर्व विधायक गुरुचरण नायक पर हुआ नक्सली हमला, दो बॉडीगार्ड की हत्या

Sumeet Roy

काशी विश्वनाथ का मान भारत के आध्यात्मिक, सांस्कृतिक गौरव का सम्मान – दीपक प्रकाश

Pramod Kumar