समाचार प्लस
Breaking बिहार मधुबनी

बिहार राज्य प्रारंभिक शिक्षक संघ ने उठायी बोरा बेचने के आदेश को वापस लेने की मांग

बिहार राज्य प्रारंभिक शिक्षक संघ ने उठायी बोरा बेचने के आदेश को वापस लेने की मांग

आलोक कुमार/समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

बिहार राज्य प्रारंभिक शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप कुमार पप्पू के राज्यव्यापी आह्वान पर सोमवार को समाहरणालय के समक्ष जिलाध्यक्ष संजीव कुमार कामत की अध्यक्षता में सैकड़ों शिक्षकों ने बोरा बेचने के लिए सेल लगाया। विदित हो कि कटिहार जिला के शिक्षक मो. तमीजुद्दीन ने निदेशक मध्याह्न भोजन के आदेश के आलोक में बाजार में घूम-घूम कर एमडीएम का बोरा बेचने का प्रयास किया था। सोशल मीडिया और मीडिया में यह वीडियो वायरल होने पर सरकार ने शिक्षक पर सरकार की छवि खराब करने का मनगढ़ंत आरोप लगाकर मो. तमीजुद्दीन को निलंबित कर दिया।

शिक्षक के निलंबन से भारी आक्रोश

सरकार के ही आदेश पर बोरा बेचने वाले निर्दोष शिक्षक को निलंबित करने से शिक्षकों में भारी आक्रोश है। इस अवसर पर प्रधान सचिव अवधेश कुमार झा ने कहा कि निदेशक मध्याह्न भोजन योजना ने ही एमडीएम के चावल के बोरे को 10  रुपये प्रति पीस बेचकर सरकारी खजाने में राशि जमा करने का आदेश दिया है। शिक्षक ने विभाग के आदेश का पालन किया, फिर भी इन्हें निलंबित कर दिया गया। यह अत्यंत दुर्भाग्य पूर्ण है। सभी शिक्षक एकजुट होकर इस निलंबन कार्रवाई का विरोध कर रहे हैं।

ऐसा आदेश सरकार वापस क्यों नहीं लेती – कोषाध्यक्ष सुरेंद्र प्रसाद

कोषाध्यक्ष सुरेंद्र प्रसाद यादव ने कहा कि जब शिक्षक बाजार से नमक, तेल, मसाला, फल-सब्जियां और अंडा  खरीद कर लाते हैं तो सरकार की छवि पर फर्क नहीं पड़ता है। विभाग के आदेश पर बोरा बेचने पर सरकार की छवि खराब होती है। तो फिर ऐसा आदेश सरकार वापस क्यों नहीं लेती है, जिससे उसकी छवि खराब होती है? विभाग का आदेश पालन करने पर भी जब निर्दोष शिक्षकों पर कार्रवाई की जाएगी तो राज्य की शिक्षा-व्यवस्था के लिए इससे बड़ा दुर्भाग्य और क्या होगा? मुख्यमंत्री को संज्ञान लेकर अविलंब इस तरह का आदेश निर्गत करने वाले विभागीय अधिकारी पर कार्रवाई करनी चाहिए।

एक सुर में बोरा बेचने का आदेश वापस लेने की मांग

जिला उपाध्यक्ष लीलाधर पासवान ने बोरा बेचने का शर्मनाक आदेश देने वाले अधिकारी पर कार्रवाई करने तथा बोरा बेचने का आदेश वापस लेने की मांग मुख्यमंत्री से की। जिला सचिव ललित नारायण ललन एवं प्रेमचंद प्रसाद ने निर्दोष शिक्षक को निलंबित करने के आदेश को अविलंब रद्द करने की मांग की तथा संघ राज्यव्यापी चरणबद्ध आंदोलन की चेतावनी दी। बोरा बेचने के अभियान में जिला उपाध्यक्ष पांडव यादव, जिला सचिव बबीता चौरसिया, मीनाक्षी मिश्रा, प्रभास चौधरी, प्रेमचंद प्रसाद, सुरेंद्र कुमार यादव, कपिल देव यादव, सुनील कुमार पासवान, उमेश कुमार यादव, बृजेश कुमार, रुक्मणी, मनीष, खालिद, अंजू, मुजीब उर रहमान, नथुनी पासवान, रोबिन पंडित, सुरेंद्र कुमार सिंह, सुकृत सिंह, मो रियाजउद्दीन, अजय पासवान, प्रताप नारायण मिश्र, गणेश प्रसाद, पवन कुमार यादव, विजय कांत झा, महेश पासवान, अनिल कुमार, सुरेश पासवान, रामदेव पासवान, विनोद राम, मोहम्मद नुरुल होदा, राम सुधीर पासवान, बालकृष्ण ठाकुर, शंभू प्रसाद सहित सैकड़ों शिक्षकों ने भाग लिया तथा निलंबन आदेश को रद्द करने के लिए आवाज बुलंद की।

यह भी पढ़ें: बिहार : आज से खुल गये कक्षा 1 से 8 तक के स्कूल, सरकार ने जारी की Guidelines

Related posts

दिल्ली में Foot Over Bridge के नीचे अटक गया Air India का प्लेन, वीडियो हुआ वायरल

Manoj Singh

पुलिस की मुखबिरी के आरोप में जमुई में माओवादियों ने की पिता-पुत्र की हत्या

Pramod Kumar

दुर्गा सेना के गठन के साथ झामुमो विधायक सीता सोरेन की बेटियों की राजनीति में एंट्री! क्या छिपी है कोई टीस? 

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.