समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Bihar: नर्सिंग होम का कारनामा, निकाल लिया 7 महिलाओं का गर्भाशय, छापेमारी में हुआ भंडाफोड़

Bihar: Nursing home feat, removed uterus of 7 women

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

सोमवार को बिहार से दो खबरें आयीं, दोनों चिकित्सा क्षेत्र से हैं। लेकिन दोनों में अन्तर है। एक को सुनकर गर्व से सिर ऊंचा हो गया और दूसरे से मानवता शर्मसार हो गयी। गर्व से सिर ऊंचा करने वाली खबर यह है कि अररिया की एक नर्स नाजिया परवीन को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के हाथों राष्ट्रीय फ्लोरेंस नाइटिंगल अवार्ड मिला। दूसरी खबर पश्चिमी चंपारण जिले के रामनगर की है जहां एक नर्सिंग होम में ऑपरेशन और डिलीवरी के नाम पर 7 महिलाओं के गर्भाशय ही निकाल लिये गये। 22 से 35 साल की उम्र की इन महिलाओं के खिलाफ किये गये घृणित कार्य का भंडाफोड़ राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की सूचना के बाद गठित की गयी टीम ने किया है। मामले का खुलासा होने के बाद अस्पताल तो सील कर दिया गया, लेकिन नर्सिंग होम का संचालक 10 से ज्यादा मरीजों को लेकर फरार हो गया।

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के द्वारा चंपारण सिविल सर्जन को रामनगर में आठ-नौ फर्जी नर्सिंग होम की सूचना मिली थी। इसके बाद टीम बनाकर यह छापेमारी की गई। लेकिन छापेमारी से पहले अस्पताल संचालक कुछ मरीजों को लेकर फरार हो गया।

नर्सिंग होम पर जिस समय छापेमारी की गयी उस दौरान वहां 7 ऐसी महिलाएं मिलीं, जिनका गर्भाशय निकाला गया था। इनमें सो दो महिलाओं का ऑपरेशन कर डिलीवरी कराई गई थी। छापेमारी टीम बगहा एसडीएम डॉ अनुपमा सिंह व सीएस डॉ वीरेंद्र कुमार चौधरी द्वारा गठित की गयी थी जिसमें रामनगर पीएचसी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ चंद्रभूषण सिंह के अलावा बीडीओ चंद्रगुप्त कुमार बैठा, सीओ विनोद कुमार मिश्रा और थानाध्यक्ष अनंत राम शामिल थे।

यह भी पढ़ें: Chandra Grahan 2022: चंद्र ग्रहण सूतक काल शुरू, जानें आपके शहर में कितने बजे दिखाई देगा चंद्र ग्रहण

Related posts

Sedition Law: राजद्रोह कानून पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक, कहा- इसके तहत न दर्ज करें FIR

Manoj Singh

Jharkhand: जिला परिषद अध्यक्षों ने मुख्यमंत्री से की त्रिस्तरीय पंचायती राज व्यवस्था को सुदृढ़ करने की मांग

Pramod Kumar

अब अपने लिए राजनीति करेंगे प्रशांत किशोर, बिहार से शुरुआत करेंगे राजनीतिक ‘खेला’

Pramod Kumar