समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

NFHS-5: Sex Ratio में बिहार-झारखंड सबसे आगे, देश में आगे बढ़ी ‘आधी आबादी’, कुल प्रजनन दर में बड़ी गिरावट

TRF

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

देश में प्रजनन दर में गिरावट की बड़ी खबर आयी है। चाहे यह सरकारी प्रयासों की सफलता हो या जनसंख्या के प्रति लोगों की जागरूकता, मगर आंकड़े बता रहे हैं कि कुल प्रजनन दर को स्थिर करने में देश को सफलता मिली है। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-5 (NFHS-5) बता रहा है कि भारत की कुल प्रजनन दर (TRF) 2.1 से नीचे यानी 2 के करीब पहुंच गयी है।

अब TRF (Total Rate of Fertility) का मतलब भी जान लीजिए! एक महिला के जीवनकाल में उसके द्वारा बच्चों को जन्म देने की औसत संख्या को TRF कहते हैं। और यही दर देश में घटी है। यानी वर्तमान में एक महिला औसतन 2.1 बच्चों को जन्म दे रही है।

23 राज्यों में पुरुषों से ज्यादा हो गयी हैं महिलाएं

TRF में बदलाव के साथ-साथ देश में Sex Ratio ने भी करवट ली है। देश की ‘आधी आबादी’ अब आधी नहीं रही, बल्कि आधी से ज्यादा हो गयी है। अब देश में प्रति 1000 पर 1020 महिलाएं हैं। बता दें NFHS-4 में 1000 पुरुषों पर 991 महिलाएं थीं। Sex Ratio में बिहार और झारखंड ने तो कमाल किया है। बिहार में Sex Ratio सबसे अधिक दर्ज किया गया है। बिहार में प्रति 1000 पुरुषों पर 1090 महिलाएं हैं। झारखंड दूसरे स्थान पर है, यहां 1000 पुरुषों पर 1050 महिलाएं हैं। अन्य राज्यों में उत्तर प्रदेश में 1000 पुरुषों पर 1017 महिलाएं और छत्तीसगढ़ में 1000 पुरुषों पर 1015 महिलाएं हैं। सबसे आश्चर्यजनक राजस्थान का Sex Ratio है। महिलाओं के प्रति अलग नजरिया रखने वाले राजस्थान में 1000 पुरुषों पर 1009 महिलाएं हैं।

NFHS-3 और NFHS- 5 में साफ दिखा अंतर

नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे-3 का सर्वे 2005-06 में हुआ था। तब भारत का TFR 2.7 था। इसके बाद इस दर में गिरावट आयी और 2015-16 के सर्वे में घटकर 2.2 हो गयी। NFHS-5 में फिर यह दर घटी और 2.1 पर आ गयी है। TRF घटने में बड़े राज्यों का बड़ा योगदान रहा है। उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश और बिहार में TRF में जो गिरावट आयी है, इसकी वजह से देश की कुल प्रजनन दर नीचे गिरी है।

शहरी क्षेत्रों की तुलना में TRF में गिरावट कम

NFHS-5 के आंकड़े बता रहे हैं कि शहरी क्षेत्रों की तुलना में ग्रामीण क्षेत्रों में TRF में कम गिरावट आयी है। ग्रामीण क्षेत्रों में कुल प्रजनन दर बिहार, उत्तर प्रदेश और झारखंड में ज्यादा रही है। वहीं मेघालय, मणिपुर और मिजोरम जैसे छोटे राज्यों के ग्रामीण इलाकों में भी कुल प्रजनन दर ज्यादा रही है।

बड़े राज्यों में सबसे कम प्रजनन दर में जम्मू-कश्मीर सबसे आगे

बड़े राज्यों में जम्मू-कश्मीर में TRF सबसे कम दर्ज की गयी है। जम्मू-कश्मीर में  कुल प्रजनन दर 1.4 रही है। जो कि 2015-16 की तुलना में 0.6 कम है। अन्य राज्यों में NFHS-4 में केरल और पंजाब की कुल प्रजनन दर 1.6 थी इस दौरान तमिलनाडु में यह दर 1.7 थी। NFHS-5 में पंजाब में कुल प्रजनन दर तो 1.6 ही है, लेकिन केरल और तमिलनाडु की कुल प्रजनन दर थोड़ी बढ़कर 1.8 हो गयी है। देश के सभी राज्यों में सबसे कम प्रजनन दर सिक्किम (1.1) की रही है।

कुल प्रजनन दर में सिक्किम दुनिया में सबसे आगे

बता दें, सिक्किम की 1.1 कुल प्रजनन दर दुनिया में सबसे कम है। सिक्किम की यह TRF दक्षिण कोरिया की TRF के लगभग बराबर है। यूनाइटेड नेशंस पॉपुलेशन डाटा के मुताबिक सबसे ज्यादा प्रजनन दर नाइजर (6.9) और सोमालिया (6.1) की है। भारत के पड़ोसी देशों में नेपाल में कुल प्रजनन दर भारत और बांग्लादेश के बाद सबसे कम है, वहीं, अफ्रीका में यह 4.4 है, जबकि ओशिनिया देशों (आस्ट्रेलिया महाद्वीप ) में 2.4 है।

एनएफएचएस -5 का पहला चरण 17 जून, 2019 से 30 जनवरी, 2020 तक और दूसरा चरण  2 जनवरी, 2020 से 30 अप्रैल, 2021 तक आयोजित किया गया था। दूसरे चरण में जिन राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों का सर्वेक्षण किया गया, वे हैं अरुणाचल प्रदेश, चंडीगढ़, छत्तीसगढ़, हरियाणा, झारखंड, मध्य प्रदेश, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली, ओडिशा, पुद्दुचेरी, पंजाब, राजस्थान, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड। पहले चरण में शामिल 22 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के संबंध में एनएफएचएस-5 के निष्कर्ष दिसंबर, 2020 में जारी किए गए थे।

यह भी पढ़ें: अफ्रीकी महिला Lucy Sigaban ने भगवान विष्णु पर लिखी ऐसी किताब, मुस्लिम-ईसाई भी कर रहे प्रशंसा

Related posts

सेना की यूनिफार्म से है प्यार, तो क्रैक कीजिए कॉम्पीटीशन, दूकान से खरीद कर नहीं होगा अब शौक पूरा

Sumeet Roy

Latehar:  पहली झारखंड राज्य ओपन बिलियर्ड्स एंड स्नूकर चैंपियनशिप के विजेता बने शहबाज असलम

Pramod Kumar

PM Modi ने वाराणसी को दी 1500 करोड़ की सौगात, नज़रें उत्तर प्रदेश उत्तर प्रदेश चुनाव पर…

Sumeet Roy

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.