समाचार प्लस
Breaking फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर बिहार

घर का खिलौना दे दिया… आंगन का चंदा दे दिया… बुलेट नहीं मिली तो दूल्हे ने बरात लाने से इंकार कर दिया

Bihar News: बावजूद इसके जब दहेज में दूल्हे को बुलेट नहीं मिला तो दूल्हे ने शादी से इंकार कर दिया. ये मामला उसी चंपारण की है जहां से समाज में कोढ़ की तरह फैले दहेज जैसे कुरीति को मिटाने के लिए बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने समाज सुधार जैसे कार्यक्रम का शंखनाद किया था. लेकिन उनके उस यात्रा का थोड़ा भी प्रभाव दहेज के दानवों पर नहीं पड़ा है. और यही वजह हुआ की दुल्हन के हाथ में दूल्हे के नाम की मेहंदी सुखी रह गई पर लड़के वाले बारात लेकर न आए.

मामला पूर्वी चंपारण  जिले के कल्याणपुर थाना क्षेत्र के पकड़ी दीक्षित गांव की  है जहां के रहने वाले पन्नालाल साह ने अपनी बेटी की शादी मुजफ्फरपुर जिले के जाफरपुर निवासी चन्दन कुमार से ठीक किये थे, जिसमे दहेज के रूप में चन्दन के परिवार वालों ने लड़की के पिता पन्नालाल से 12 लाख रुपए नगद लिए थे.

शादी की तारीख तय हुई और उसी निर्धारित तिथि के अनुसार लड़की वाले ने पूरी तैयारी भी की. पिछले 18 फ़रवरी को बारात आनी थी. बारात के स्वागत और शादी को लेकर टेंट पंडाल मड़वा सब बन कर तैयार था. बारातियों को खिलाने के लिए भोजन भी तैयार था. साथ-साथ शादी के एक दिन पहले होने वाली सभी रस्में भी पूरे धूम-धाम से हुई थी.

लेकिन जिस दिन बारात आनी थी उसी दिन लड़के वाले के यहां से पन्नालाल के यहां खबर आई की लड़का दहेज में बुलेट गाड़ी लेने के लिये जिद्द पर अड़ा हुआ है जिसके बाद पन्नालाल के होश उड़ गए. क्यूंकि पन्नालाल गरीब परिवार से आते है बावजूद इसके उन्होंने 12 लाख रुपए दहेज़ के दिए साथ साथ दरवाजे पर बारातियों के स्वागत के लिए लाखों रुपए खर्च किया था पर बुलेट नहीं देने के कारण लड़के ने शादी से साफ तौर पर इनकार कर गया और बारात नहीं आई. यहाँ तक की पन्नालाल उसी रात लड़के वाले के घर गए पर सभी लोग घर छोड़ फरार हो गए थे जिसके बाद वे स्थानीय थाना में भी गए पर उनकी किसी ने न सुनी. अंततः उन्हीने कल्याणपुर थाना आकर लड़के वाले के खिलाफ आवेदन दिया है जिसके बाद पुलिस अब अपनी कार्यवाई में जुटी हुई है .

इन सब के बीच आपको बता दें की पन्नालाल की तीन पुत्रियां है जिसमे वे अपनी सबसे छोटी बेटी को ग्रेजुएट  कराकर शादी कर रहे थे पर दहेज के दानवों ने इनके सभी अरमानों पर पानी फेर दिया.

ये भी पढ़ें – Kota Car Accident: चंबल नदी में गिरी बारातियों की कार, दूल्हे समेत 9 लोगों की मौत

Related posts

Tokyo Olympics : सेमीफाइनल में नहीं चला बजरंग का दांव, अजरबैजान के पहलवान से हारे, अब ब्रॉन्ज के लिए लड़ेंगे

Sumeet Roy

झारखंड की शान और राजकीय पशु घोषित हाथियों के अस्तित्व पर संकट, जानें क्यों गिर रही इन पर गाज

Manoj Singh

Cricket vs Politics: भारत-पाकिस्तान T20 World Cup फाइनल में पहुंच जायें तब क्या करेंगे राजनीति करने वाले?

Pramod Kumar