समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर बिहार

रोजगार के अवसरों के मामले में बिहार झारखंड व राजस्‍थान से आगे, CMIE के सितंबर के आंकड़े उत्साहवर्धक

CMIE की ताजा रिपोर्ट के अनुसार बिहार में भी बेरोजगारी दर में कमी आई है

न्यूज़ डेस्क/ समाचार प्लस झरखंड- बिहार

सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (CMIE) ने देश में बेरोजगारी दर को लेकर एक रिपोर्ट जारी की है. रिपोर्ट में कहा गया है कि कई प्रांतों में बेरोजगारी दर दो अंकों में है, लेकिन उम्मीद जताई गई है कि हालात जल्द सुधरेंगे. कोरोना महामारी की हालत सुधरने और लॉकडाउन खत्म होने के बाद अर्थव्यवस्था पटरी पर लौट रही है जिससे रोजगार की संभावनाएं भी बढ़ रही हैं. CMIE की रिपोर्ट बताती है कि उत्तर भारत समेत कई राज्यों में बेरोजगारी दर दोहरे अंक में है जोकि चिंता का विषय है. हरियाणा, झारखंड और दिल्ली जैसे प्रदेशों में यह दर दोहरे अंकों में है स्थिति अभी चिंताजनक है.

बिहार में बेरोजगारी दर में कमी आई है

सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (CMIE) की ताजा रिपोर्ट के अनुसार बिहार में भी बेरोजगारी दर में कमी आई है। इस साल सितंबर में राज्य में बेरोजगारी दर 10 प्रतिशत थी। यह इस साल के मई महीने की तुलना में चार प्रतिशत कम है। यानी इस समय काम करने वाले 10 प्रतिशत श्रम बल को रोजगार नहीं मिल रहा है। हालांकि, देश के अन्य राज्यों की तुलना में बिहार की स्थिति अपेक्षाकृत ठीक कही जा सकती है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में बेरोजगारी दर 16.8 प्रतिशत है।

बिहार की तुलना में दिल्‍ली में रोजगार के अवसर अधिक

बिहार की तुलना में दिल्‍ली में रोजगार के अवसर अधिक हैं। कोरोना के पहले दौर में दिल्ली से श्रमिकों का पलायन हुआ था। धीरे-धीरे श्रमिक लौट रहे हैं तो काम की कमी हो रही है। मालूम हो कि दिल्ली के श्रम बल में बिहार की अच्छी भागीदारी है। यही हाल दिल्ली के बगल के राज्य हरियाणा का है। वहां सितम्बर में बेरोजगारी दी 20.3 प्रतिशत है। हरियाणा में उद्योग-धंधे के अलावा कृषि क्षेत्र में भी रोजगार के अवसर उपलब्ध हैं।

राज्‍य में झारखंड से बेहतर हालत

बिहार की तुलना में कारोबार और उद्योग धंधे के लिहाज से बेहतर पड़ोसी राज्य झारखंड में बेरोजगारी दर 13.5 प्रतिशत है। समग्रता में देखें तो केंद्र शासित जम्मू-कश्मीर में बेरोजगारी दर देश के अन्य राज्यों की तुलना में सबसे अधिक है। यह 21.6 प्रतिशत है। हाल की आतंकी घटनाओं का कारोबार पर बुरा असर पड़ा है। राजस्थान में बेरोजगारी दर 17. 9 प्रतिशत है, जो मध्य प्रदेश के 3.2 प्रतिशत की तुलना में बहुत अधिक है। कोरोना से सबसे अधिक पीड़ित केरल की स्थिति अच्छी कही जा सकती है। क्योंकि केरल में सितम्बर महीने में बेरोजगारी दर महज 8. 9 प्रतिशत दर्ज है। पश्चिम बंगाल की हालत ठीक कही जा सकती है। वहां बेरोजगारी दर 6.8 प्रतिशत है।

ये भी पढ़ें : Congress पार्टी में ‘आपातकाल’ लागू, नेतृत्व को अपनी आलोचना बर्दाश्त नहीं, पार्टी में ‘लोकतंत्र’ खत्म

Related posts

Gumla: कलयुगी बेटे ने शराब के लिए लाठी से पीट-पीटकर ली अपनी मां कि जान, मामले कि जांच में जुटी पुलिस  

Sumeet Roy

JioPhone Next में होंगे हैरान कर देने वाले फीचर्स, दिवाली पर ऐसे पाएं सिर्फ 500 रुपये में, जियो बोला- जिंदगी बदल देंगे

Manoj Singh

सत्ता के लिए झारखंड कांग्रेस में झकझूमर, बगावत से ‘अंदरूनी आग’ बुझाने का प्रयास

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.